463 बदली नहीं हैं परमेश्वर की उम्मीदें इंसान के लिये

1

जब इसहाक को पेश किया बलिदान के लिये अब्राहम ने,

तो देखी परमेश्वर ने आज्ञाकारिता और ईमानदारी उसकी,

कामयाब रहा वो परमेश्वर के इम्तहान में।

परमेश्वर का विश्वासपात्र बनने, उसे जानने की योग्यता से

अभी भी दूर था मगर वो।

देख नहीं सका परमेश्वर का स्वभाव वो।

परमेश्वर से एक मन होने से, उसकी इच्छा पूरी करने से, बहुत दूर था वो।

बनाया जब से इंसान को उसने,

वफ़ादार विजेताओं का समूह बनाना चाहा परमेश्वर ने,

अपने साथ चलने को जो जानता हो उसके स्वभाव को।

बदली नहीं उसकी ये चाहत कभी।

रही है ये सदा वैसे ही। उसकी उम्मीदें रहीं वैसे ही।

2

मन ही मन बेचैन और अकेला, उदास रहा है परमेश्वर।

उसकी प्रबंधन योजना पूरी हो इसलिये,

उसका अपनी योजना को जल्दी सामने लाना ज़रूरी था।

उसकी इच्छा जल्दी पूरी हो इसलिये,

उसका सही लोगों को चुनना, हासिल करना ज़रूरी था।

परमेश्वर की ये तीव्र इच्छा बदली नहीं है आज भी।

बनाया जब से इंसान को उसने,

वफ़ादार विजेताओं का समूह बनाना चाहा परमेश्वर ने,

अपने साथ चलने को जो जानता हो उसके स्वभाव को।

बदली नहीं उसकी ये चाहत कभी।

रही है ये सदा वैसे ही। उसकी उम्मीदें रहीं वैसे ही।

3

कितना भी करना पड़े इंतज़ार उसे,

रास्ता आगे का कितना भी मुश्किल हो,

इच्छित लक्ष्य कितने भी दूर हों,

हारा नहीं परमेश्वर कभी, बदली नहीं अपनी अपेक्षा उसने।

मज़बूत हैं इंसान के लिये उम्मीदें उसकी।

कह चुका वो बात अपनी,

क्या समझते हो उसकी किसी इच्छा को तुम लोग?

एहसास फिलहाल तुम्हारा गहरा न हो,

हो जाएगा वक्त के साथ ये गहरा मगर।

बनाया जब से इंसान को उसने,

वफ़ादार विजेताओं का समूह बनाना चाहा परमेश्वर ने,

अपने साथ चलने को जो जानता हो उसके स्वभाव को।

बदली नहीं उसकी ये चाहत कभी।

रही है ये सदा वैसे ही। उसकी उम्मीदें रहीं वैसे ही।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II' से रूपांतरित

पिछला: 462 परमेश्वर उत्सुकतापूर्वक उन्हें चाहता है जो उसकी इच्छा पूरी कर सकें

अगला: 464 परमेश्वर स्वयं के लिए इंसान की सच्ची आस्था और प्रेम पाने की करता है आशा

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें