938 परमेश्वर का स्वभाव है उत्कृष्ट और भव्य

परमेश्वर नाराज़ है कि, अधर्मी चीज़ें इंसान को दुख दे रही हैं,

अंधकार और बुराई का अस्तित्व है,

जैसे वे चीज़ें जो सच्चाई को नकारती हैं,

कि अच्छाई के प्रतिकूल हैं,

कि अच्छाई के प्रतिकूल हैं।

उसका रोष, बुराइयों के अंत का प्रतीक,

परमेश्वर का रोष, उसकी पवित्रता का प्रतीक है,

उसकी पवित्रता का प्रतीक है।

परमेश्वर का आनंद धर्मिता है, जग में आती रोशनी,

विनाश है, अंधेरों और बुराइयों का विनाश है,

अंधेरों और बुराइयों का विनाश है।

परमेश्वर का आनंद है, वो लाए इंसानियत में रोशनी

और उनकी ज़िंदगी में ख़ूबसूरती।

परमेश्वर का आनंद धर्मिता है,

आशा भरी चीज़ों का ये प्रतीक है,

मांगलिक चीज़ों का ये प्रतीक है,

मांगलिक चीज़ों का ये प्रतीक है,

मांगलिक चीज़ों का ये प्रतीक है।

मायूस है परमेश्वर, उसकी उम्मीद, इंसानियत, अंधेरे में है,

इंसानियत पर काम उसका,

उसकी उम्मीदों पर खरा उतरा नहीं,

उसकी प्यारी इंसानियत, रह नहीं पाती है सब रोशनी में।

मायूस है उनके लिये वो, इंसानियत के बीच जो मासूम हैं,

मायूस है उनके लिये वो, इंसानियत के बीच जो मासूम हैं,

निष्कपट हैं, बेख़बर हैं, निष्कपट हैं, बेख़बर हैं,

अच्छाई है जिनमें मगर कमज़ोर हैं जिनके इरादे, इरादे।

उसका ग़म उसकी अच्छाई और दया का प्रतीक है,

उसका ग़म उसकी अच्छाई और दया का प्रतीक है,

उसकी सौम्यता और भलाई का प्रतीक है,

उसकी सौम्यता और भलाई का प्रतीक है।

उसकी ख़ुशी है, (उसकी ख़ुशी है,) शत्रु की पराजय और

इंसान के सच्चे, (इंसान के सच्चे,) दिल को जीतना,

उसकी ख़ुशी है, (उसकी ख़ुशी है,)

बैरियों को हटा देना, मिटा देना,

शांत और सुंदर ज़िंदगी में, इंसान को निर्भय बना देना,

शांत और सुंदर ज़िंदगी में, इंसान को निर्भय बना देना,

इंसान को निर्भय बना देना।

उसकी ख़ुशी इंसान की मामूली ख़ुशियों के बिल्कुल पार है,

ये पके फल की महक है, ये पके फल की महक है,

जो कि ख़ुशियों के भी अपरंपार है।

उसकी ख़ुशी प्रतीक है,

मानव न अब दुख पायेगा, और रोशनी की दुनिया में,

अब वो प्रवेश पायेगा,

रोशनी की दुनिया में, अब वो प्रवेश पायेगा,

वो प्रवेश पाएगा, अब वो प्रवेश पाएगा।

परमेश्वर का आनंद धर्मिता है, जग में आती रोशनी,

विनाश है, अंधेरों और बुराइयों का विनाश है,

अंधेरों और बुराइयों का विनाश है।

— 'वचन देह में प्रकट होता है' से रूपांतरित

पिछला: 937 इन्सान का जीवन परमेश्वर की प्रभुता के बिना नहीं हो सकता

अगला: 939 परमेश्वर के स्वभाव का प्रतीक

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें