548 परमेश्वर को पसंद हैं लोग जिनमें संकल्प है

1

परिवेश, मुश्किलें हमारी कितनी भी कठोर क्यों न हों,

हम कितने भी मायूस क्यों न हों, हम में एक संकल्प होना चाहिये।

हम खो नहीं सकते भरोसा, कि आयेगा बदलाव हमारे पुराने स्वभाव में।

हम खो नहीं सकते विश्वास, परमेश्वर के बोले वचनों में।

वादे किये हैं परमेश्वर ने इंसान से,

उन्हें पाने का संकल्प होना चाहिये इंसान में।

परमेश्वर को पसंद नहीं कायर इंसान।

उसे पसंद हैं मज़बूत इरादे वाले इंसान।

2

कितनी भी भ्रष्टता उजागर की हो तुमने अपनी

कितने भी घुमावदार रास्तों पर चले हो तुम,

परमेश्वर का विरोध, अपराध किया हो।

दिल में ईश-निंदा हो या उसे दोष दिया हो,

परमेश्वर ये देखता नहीं।

वो सिर्फ़ देखता है, तुम बदलोगे या नहीं।

वादे किये हैं परमेश्वर ने इंसान से,

उन्हें पाने का संकल्प होना चाहिये इंसान में।

परमेश्वर को पसंद नहीं कायर इंसान।

उसे पसंद हैं मज़बूत इरादे वाले इंसान।

3

समझता है परमेश्वर इंसान को, जैसे जानती है माँ अपनी संतान को।

वो जानता है इंसान के दुखों को, कमज़ोरियों को

और जानता है हर इंसान की ज़रूरतों को।

समझता है परमेश्वर पूरी तरह,

स्वभाव-परिवर्तन में आने वाली नाकामियों और दिक्कतों को।

वो देख लेता है भीतर से इंसान के दिलों को।

वादे किये हैं परमेश्वर ने इंसान से,

उन्हें पाने का संकल्प होना चाहिये इंसान में।

परमेश्वर को पसंद नहीं कायर इंसान।

उसे पसंद हैं मज़बूत इरादे वाले इंसान।

भले ही कमज़ोर हो तुम, त्यागो मत परमेश्वर के नाम को,

छोड़ो मत कभी परमेश्वर को या इस मार्ग को,

मिलेगा मौका तुम्हें पाने का इस बदलाव को।

अगर बदल गया स्वभाव हमारा, तो मिल सकता हमें अस्तित्व हमारा।

अगर है अस्तित्व की उम्मीद, तो है बचाये जाने की उम्मीद।

— "अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'क्या होते हैं स्वभाव में परिवर्तन, और स्वभाव में परिवर्तनों का मार्ग' से रूपांतरित

पिछला: 547 परमेश्वर उसी को बचाता है जो सत्य से प्रेम करता है

अगला: 549 सत्य का अनुसरण करने से सभी समस्याओं का समाधान हो सकता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें