201 ज़िंदगी का जीवित झरना है देहधारी परमेश्वर

1

जो कार्य प्रदान करे सटीक वचन, अनुसरण के लिये स्पष्ट लक्ष्य,

देखा और छुआ जा सके जिसे, देखा और छुआ जा सके जिसे,

वो कार्य सबसे ज़्यादा मूल्यवान है भ्रष्ट इंसान के लिये।

सिर्फ़ वास्तविक कार्य और मार्गदर्शन जो समय पर होता है,

ऐसे कार्य हैं जो इंसान की रुचि के सबसे अनुकूल होते हैं।

हाँ, असली कार्य ही इंसान को बचाता है दुराचरण और उसके भ्रष्ट स्वभाव से।

केवल देहधारी परमेश्वर ही ऐसा कर सकता है, इंसान को उसके पहले के भ्रष्ट

और दूषित स्वभाव से बचा सकता है, दूषित स्वभाव से बचा सकता है।

2

बन गए हैं अधिकतर लोग दुश्मन, परमेश्वर के दुश्मन, इस देह की वजह से,

मगर जब वो अंत करेगा, अपने सारे कार्य पूरे करेगा,

तो फिर वे दुश्मन नहीं रहेंगे, वे फिर उसके ख़िलाफ़ नहीं रहेंगे।

बल्कि बन जाएंगे वे सभी उसके गवाह,

परमेश्वर द्वारा जीत लिये जाने के बाद,

बन जाएंगे अनुरूप उसके, वे हैं अनुरूप उसके,

और हो नहीं सकते जुदा उससे।

केवल देहधारी परमेश्वर ही ऐसा कर सकता है,

इंसान को उसके पहले के भ्रष्ट और दूषित स्वभाव से बचा सकता है।

दिखायेगा इन्सान को वो अहमियत देह में किये गये अपने काम की,

ताकि समझ सके इंसान,

मानव के अस्तित्व के अर्थ की ख़ातिर अहमियत क्या है इस देह की,

जानेगा उसका असली मूल्य इंसान की ज़िंदगी के विकास की ख़ातिर।

ये भी जानेगा इंसान, कि यह देह बनेगा जीवन का जीवित झरना

जिसकी जुदाई सह नहीं सकता इंसान, जिसकी जुदाई सह नहीं सकता इंसान।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की अधिक आवश्यकता है' से रूपांतरित

पिछला: 200 अंत के दिनों में देहधारी परमेश्वर करता है परमेश्वर के प्रबन्धन का अंत

अगला: 202 तुम लोगों के लिए देहधारी परमेश्वर की महत्ता सबसे अधिक है

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें