296 परमेश्वर के हृदय से बेहतर नहीं है दिल कोई

1

मैंने परमेश्वर को प्रेम करना चुना है,

उनके न्याय और शुद्धिकरण को मुझे स्वीकारना है।

ज़रा से दर्द के बावजूद, मुझमें परमेश्वर के प्रेम का गहन ज़ायका है।

भ्रष्ट स्वभाव के साथ, न्याय और ताड़ना के लायक है इंसान।

सत्य है परमेश्वर का वचन,

गलत नहीं समझना चाहिए परमेश्वर की इच्छा को मुझे।

हालाँकि मुश्किलें बहुत हैं, आशीष है परमेश्वर का प्रेम पाना भी।

मुश्किलों ने सिखाई मुझे फ़रमाबरदारी;

परमेश्वर के हृदय से बेहतर नहीं दिल कोई।

2

आत्म-चिंतन करता हूँ तो अक्सर बहुत ज़्यादा मलिनता पाता हूँ।

अगर प्रयास न करूँ, तो मैं पूर्ण नहीं हो सकता हूँ।

दिन-ब-दिन रहकर परमेश्वर के साथ,

कितने प्रिय हैं परमेश्वर मैं देखता हूँ।

परमेश्वर के वचनों के प्रकटन और न्याय से,

अपनी भ्रष्टता के सत्य को मैं देखता हूँ।

हालाँकि मुश्किलें बहुत हैं, आशीष है परमेश्वर का प्रेम पाना भी।

मुश्किलों ने सिखाई मुझे फ़रमाबरदारी;

परमेश्वर के हृदय से बेहतर नहीं दिल कोई।

3

परमेश्वर की जाँच से मुझे अहसास होता अपनी कमियों का।

सत्य एकदम साफ़ हो जाता है,

जब संगति के लिये अपना दिल खोलता हूँ।

परमेश्वर के स्वभाव के अपमान के ख़्याल से, मैं काँप जाता हूँ।

सजग रहूँगा मैं विद्रोह न करूँ, उन्हें कोई कष्ट न दूँ।

4

हालाँकि मैं परमेश्वर को प्रेम करना चुनता हूँ,

मगर मेरे प्यार में मिलावट है मेरे ही विचारों की।

जहाँ पहुँचा था पतरस, वहाँ पहुँचने का मुझे प्रयास करना है।

कैसे भी देखें मेरे प्यार को परमेश्वर,

मेरी एकमात्र ख़्वाहिश है, मैं परमेश्वर को प्रसन्न करूँ।

हालाँकि मुश्किलें बहुत हैं, आशीष है परमेश्वर का प्रेम पाना भी।

हालाँकि मुश्किलें बहुत हैं, आशीष है परमेश्वर का प्रेम पाना भी।

मुश्किलों ने सिखाई मुझे फ़रमाबरदारी;

परमेश्वर के हृदय से बेहतर नहीं दिल कोई।

पिछला: 295 घनिष्ठों की खोज में

अगला: 297 दुखद दुनिया के लिए एक विलाप

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें