1008 परमेश्वर इंसान का अंत तय करता है उसके अंदर मौजूद सत्य के आधार पर

1

अब समय है, हर इंसान का अंत तय करे परमेश्वर,

उस चरण का नहीं जब उसने आकार देना शुरू किया इंसान को।

हर शब्द, हर काम हर इंसान का, लिखता है अपनी किताब में परमेश्वर।

वो दर्ज करता है उन्हें एक-एक कर।

हर इंसान की मंज़िल तय करता है परमेश्वर,

नहीं उम्र, ओहदे या दुखों के आधार पर,

किस हद तक बुलावा देता है करुणा को,

नहीं इस आधार पर, नहीं इस आधार पर,

उसमें सत्य है या नहीं, तय होता है महज़ इस आधार पर।

2

परमेश्वर के अनुसरण में वो इंसान के पथ को देखता है,

उसके अंतर्निहित गुणों को, आख़िरी निष्पादन को देखता है।

इस तरह परमेश्वर के हाथों बचेगा नहीं इंसान कोई।

सभी अपनी किस्म के साथ होंगे, जैसा नियत करेगा परमेश्वर।

हर इंसान की मंज़िल तय करता है परमेश्वर,

नहीं उम्र, ओहदे या दुखों के आधार पर,

किस हद तक बुलावा देता है करुणा को,

नहीं इस आधार पर, नहीं इस आधार पर,

उसमें सत्य है या नहीं, तय होता है महज़ इस आधार पर।

3

जो परमेश्वर का अनुसरण न करेगा, वो दण्डित होगा, वो दण्डित होगा।

इस सच को कोई बदल नहीं सकता।

इसलिये दण्ड के भागी हैं जो लोग, परमेश्वर की धार्मिकता की वजह से हैं,

प्रतिकार के तौर पर, अनगिनत दुष्कर्मों के लिये हैं।

हर इंसान की मंज़िल तय करता है परमेश्वर,

नहीं उम्र, ओहदे या दुखों के आधार पर,

किस हद तक बुलावा देता है करुणा को,

नहीं इस आधार पर, नहीं इस आधार पर,

उसमें सत्य है या नहीं, तय होता है महज़ इस आधार पर।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'अपनी मंज़िल के लिए पर्याप्त संख्या में अच्छे कर्मों की तैयारी करो' से रूपांतरित

पिछला: 1007 इंसान के अंत के लिए परमेश्वर की व्यवस्था

अगला: 1009 परमेश्वर के मार्ग का अनुसरण न करने वाले दंडित किये जाएंगे

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2023 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें