275 परमेश्वर सभी राष्ट्रों और लोगों का भाग्यविधाता है

किसी देश के शासक ईश्वर को पूजते हैं या नहीं,

लोगों को उसके पास ले जाते हैं या नहीं,

उसकी आराधना में उनकी अगुआई करते या नहीं,

इसी पर निर्भर करे उस देश का भविष्य।

तुम्हारा देश भले हो खुशहाल, लेकिन

गर तुम्हारे लोग ईश्वर से दूर जाएँगे,

तो ईश्वर के आशीष से ये वंचित होता जाएगा।

इसकी सभ्यता पाँवों के नीचे कुचली जाएगी,

इसके लोग ईश्वर के खिलाफ़ खड़े होंगे,

स्वर्ग को कोसेंगे।

इंसान को पता न चलेगा। देश तबाह हो जाएगा।

ईश्वर उभारेगा ताकतवर देशों को,

जो निपटेंगे शापित देशों से,

और धरती पर इन देशों का नामोनिशां न रह जाएगा।

ईश्वर इंसान की राजनीति में हिस्सा लेता नहीं,

पर देशों का भाग्य उसी के हाथ में है।

ईश्वर के काबू में है ये दुनिया और पूरी कायनात।

उसकी योजना और इंसान का भाग्य आपस में गुंथे हैं,

और कोई इंसान, कोई देश, कोई वतन

ईश्वर की संप्रभुता से मुक्त नहीं।

धार्मिक ताक़तें धरती पर हैं पर उनका राज कमज़ोर है

वहाँ जहाँ लोगों के दिल में परमेश्वर नहीं।

ईश्वर के आशीष बिना, राजनैतिक क्षेत्र

कमज़ोर और अस्त-व्यस्त हो जाएगा।

ईश्वर के आशीष का न होना है सूरज का न होना।

इंसान चाहे करे जितनी भी धार्मिक सभाएं,

शासक अपनी जनता के लिए जितना भी काम करें,

पर इससे इंसान की किस्मत नहीं बदल सकती।

इंसान करे विश्वास, एक शांतिमय देश

जो अपने लोगों को रोटी-कपड़ा दे

एक अच्छा देश है, यहाँ अच्छी सरकार है,

लेकिन ईश्वर कहे जिस देश में उसे न कोई पूजे

तबाह कर जड़ से मिटा देगा वो उसे।

इंसान के विचार परमेश्वर के

विचारों से बहुत उल्टे हैं।

इसलिए अगर किसी देश का मुखिया

ईश-आराधना नहीं करे,

तो उस देश का भविष्य दुखद होगा,

उसकी कोई मंज़िल न होगी।

ईश्वर इंसान की राजनीति में हिस्सा लेता नहीं,

पर देशों का भाग्य उसी के हाथ में है।

ईश्वर के काबू में है ये दुनिया और पूरी कायनात।

उसकी योजना और इंसान का भाग्य आपस में गुंथे हैं,

और कोई इंसान, कोई देश, कोई वतन

ईश्वर की संप्रभुता से मुक्त नहीं।

अपना भाग्य जानने,

इंसान को ईश्वर के सामने आना होगा।

जो लोग उसका अनुसरण करते, उसे पूजते हैं,

वो उन्हें संपन्न बनाएगा, और

विरोध करने, नकारने वालों को

गिरा कर धूल में मिला देगा।

— 'वचन देह में प्रकट होता है' से रूपांतरित

पिछला: 274 इंसान को सौभाग्य के लिये करनी चाहिये परमेश्वर की आराधना

अगला: 276 मानव जाति के भाग्य की ओर ध्यान दो

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें