520 परमेश्वर उन्हें आशीष देता है जो सच्चे मन से सत्य का अनुसरण करते हैं

1

पवित्र आत्मा का अनुशासन क्या है? इंसानी इच्छा से उपजा दोष क्या है?

पवित्र आत्मा का मार्गदर्शन क्या है? परिवेश की व्यवस्था क्या है?

ईश-वचन भीतर क्या प्रबुद्ध करते हैं?

अगर इन बातों पर तुम न हो साफ़, तो तुममें विवेक नहीं होगा।


ईश्वर उसके साथ अन्याय न करेगा जो उसे सच्चे मन से खोजे

या उसके अनुरूप जीता है, उसकी गवाही देता है।

वो उसे शाप नहीं देता जो सचमुच सत्य का प्यासा है।


2

तुम्हें जानना चाहिए आत्मा से क्या आता है,

विद्रोह क्या है, ईश-वचनों का पालन कैसे करें,

अपनी विद्रोहशीलता से कैसे बचें।

अगर इन बातों को जान लोगे, तो तुम्हारे पास एक बुनियाद होगी।

जब कुछ होगा, तो तुलना के लिए तुम्हारे पास सत्य होगा,

उचित दर्शनों का आधार होगा, हर काम में तुम्हारे सिद्धांत होगा,

सत्य के अनुसार तुम चलोगे, प्रबुद्ध और आशीषित होगे ईश्वर द्वारा।


ईश्वर उसके साथ अन्याय न करेगा जो उसे सच्चे मन से खोजे

या उसके अनुरूप जीता है, उसकी गवाही देता है।

वो उसे शाप नहीं देता जो सचमुच सत्य का प्यासा है।


3

ईश-वचनों को खाते-पीते समय, अगर तुम अपनी असल स्थिति देखो

अपने अभ्यास और अपनी समझ पर ध्यान दो,

तो कोई समस्या आने पर, तुम प्रबुद्ध किए जाओगे,

समझ और विवेक पाओगे, अभ्यास का मार्ग पाओगे।


सत्य जिसके पास उसे धोखा देना संभव नहीं,

न वो बाधा डाले, न गलत काम करे।

वो सत्य के कारण सुरक्षित होता है, अधिक समझ, अभ्यास के मार्ग,

पवित्र आत्मा के काम और पूर्णता के अधिक मौके पाता है।


ईश्वर उसके साथ अन्याय न करेगा जो उसे सच्चे मन से खोजे

या उसके अनुरूप जीता है, उसकी गवाही देता है।

वो उसे शाप नहीं देता जो सचमुच सत्य का प्यासा है।


—वचन, खंड 1, परमेश्वर का प्रकटन और कार्य, केवल उन्हें ही पूर्ण बनाया जा सकता है जो अभ्यास पर ध्यान देते हैं से रूपांतरित

पिछला: 519 सत्य को हासिल करना क्या है?

अगला: 521 जो सत्य का अनुसरण करता है उसे ही परमेश्वर द्वारा पूर्ण किया जा सकता है

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें