अंतिम दिनों के मसीह के कथन- संकलन

विषय-वस्तु
  • पहला भाग सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड के लिए परमेश्वर का कथन(आरम्भ में मसीह के कथन) (चुने हुए भाग)
    • दूसरा भाग मसीह के वचन जैसे वह कलीसियाओं में चला (चुने हुए भाग)
      • तीसरा भाग अंत में मसीह के कथन

        आपको पता होना चाहिए कि व्यावहारिक परमेश्वर ही स्वयं परमेश्वर है

        आपको व्यावहारिक परमेश्वर के बारे में क्या पता होना चाहिए? आत्मा, शरीर और वचन मिलकर ही स्वयं व्यावहारिक परमेश्वर को बनाते हैं; और यही स्वयं व्यावहारिक परमेश्वर का वास्तविक अर्थ है। यदि आप सिर्फ़ शरीर के बारे में जानते हैं, यदि आप उसकी आदतों, और उसके चरित्र के बारे में जानते हैं, लेकिन आप आत्मा के कार्य या देह में आत्मा के कार्य के बारे में कुछ नहीं जानते हैं, और सिर्फ़ आत्मा और वचन पर ध्यान देते हैं, और केवल आत्मा के सामने प्रार्थना करते हैं, व्यावहारिक परमेश्वर में परमेश्वर के आत्मा के कार्य के बारे में कुछ भी जाने बिना, तब भी यह साबित करता है कि आपको व्यावहारिक परमेश्वर के बारे में कुछ भी ज्ञान नहीं है। व्यावहारिक परमेश्वर के बारे में ज्ञान में उनके वचनों को जानना और अनुभव करना, और उन नियमों और सिद्धांतों को समझना जिनके द्वारा पवित्र आत्मा कार्य करता है, और परमेश्वर की आत्मा द्वारा देह में कार्य करने के तरीके को समझना शामिल है। इसी तरह, इसमें यह जानना भी शामिल है कि देह में परमेश्वर का हर कार्य आत्मा के द्वारा निर्देशित होता है, और कि उनके द्वारा बोले गए वचन आत्मा की प्रत्यक्ष अभिव्यक्ति है। इसलिये, यदि आप व्यावहारिक परमेश्वर को जानना चाहते हैं, तो आपको मुख्य रूप से यह जानना है कि परमेश्वर कैसे अपनी मानवीयता में, और अपनी ईश्वरीयता में कार्य करते हैं; इसके परिणामस्वरूप आत्मा के प्रकटीकरण दिलचस्पी पैदा होती है, जिससे सभी लोगों का जुड़ाव है।

        वह कौनसा पहलु है जो आत्मा के प्रकटीकरण में क्या शामिल है? कभी-कभी व्यावहारिक परमेश्वर अपनी मानवीयता में कार्य करते हैं और कभी-कभी अपनी ईश्वरीयता में, लेकिन कुल मिलाकर, दोनों मामलों में कमान आत्मा के पास होता है। लोगों के भीतर जैसी भी आत्मा होती है उनकी बाहरी अभिव्यक्ति वैसी ही होती है। आत्मा साधारण ढंग से कार्य करता है, लेकिन आत्मा के द्वारा निर्देश के दो भाग होते हैं: एक भाग उसका मानवीयता में कार्य करना है, जबकि दूसरा उसकी ईश्वरीयता के द्वारा कार्य करना है। यह आपको अच्छे ढंग से समझ लेना चाहिए। आत्मा का कार्य परिस्थिति के अनुसार विभिन्न होता है: जब उनके मानवीय कार्य की आवश्यकता होती है, तो आत्मा उनके मानवीय कार्य को निर्देशित करता है; जब उनके ईश्वरीय कार्य की आवश्यकता पड़ती है, तो उसके निष्पादन के लिए सीधे ईश्वरीयता प्रकट होती है। क्योंकि परमेश्वर देह में कार्य करते हैं और देह में प्रकट होते हैं, वे अपनी मानवीयता और अपनी ईश्वरीयता दोनों में कार्य करते हैं। जब वे अपनी मानवीयता में कार्य करते हैं, तो यह आत्मा के द्वारा शासित होता है, मनुष्य की देह की आवश्यकताओं को संतुष्ट करने, मनुष्य को और आसानी से उनके साथ जुड़ने, और मनुष्य को परमेश्वर की सच्चाई और सादगी देखने के योग्य बनाता है। इसके अतिरिक्त, यह मनुष्य को यह देखने के योग्य बनाता है कि परमेश्वर का आत्मा देह धारण किया है और मनुष्यों के बीच है, मनुष्य के साथ रहता है और मनुष्य के साथ कार्य करता है। जब वह अपनी ईश्वरीयता में कार्य करता है, यह मनुष्य के जीवन की पूर्ति करने, मनुष्य को हर चीज़ में सकारात्मक दिशा की ओर अगुवाई करने, और मनुष्य के स्वभाव को बदलने, मनुष्य को यह सचमुच देखने के योग्य बनाने कि आत्मा देह में प्रकट हुआ है। मनुष्य के जीवन में बढ़ोतरी मुख्य रूप से परमेश्वर के वचनों और ईश्वरीयता के कार्य के द्वारा प्राप्त की जाती है। सिर्फ़ ईश्वरीयता के कार्य को स्वीकार करके मनुष्य के स्वभाव में बदलाव को पूरा किया जा सकता है और उनके बारे में उसी भावार्थ से बताया जा सकता है। उसके बाद उसमें मानवीयता का कार्य, अर्थात् परमेश्वर के पालन-पोषण, सहायता, और मानवीयता की पूर्ति, जोड़ देने के बाद हीमनुष्य परमेश्वर की इच्छा को पूरा कर सकता है। आज्ञाओं का सही ढंग से पालन करने के लिए, लोगों को देह में प्रकट होने वाले व्यावहारिक परमेश्वर के बारे में बिल्कुल स्पष्ट ज्ञान तो कम से कम होना ही चाहिए। दूसरे शब्दों में, लोगों को आज्ञाएँ सही ढंग से मानने के सिद्धान्त को समझना चाहिए। आज्ञाओं के पालन का मतलब उनका लक्ष्यहीन या मनमाने ढंग से पालन करना नहीं है, बल्कि आधार, उद्देश्य, और सिद्धान्तों के आधार पर करना है। सबसे पहले हासिल की जाने वाली चीज़ आपकी दृष्टि का स्पष्ट होना है। व्यावहारिक परमेश्वर जिनके बारे में आज हम बातें करते हैं वे अपनी मानवीयता और अपनी ईश्वरीयता दोनों ही में कार्य करते हैं। व्यावहारिक परमेश्वर के प्रकटीकरण के द्वारा उनके मानवीयता वाले कार्य और जीवन, तथा उनके सम्पूर्ण ईश्वरीयता वाले कार्य पूरे होते हैं। उनकी मानवीयता और ईश्वरीयता मिल कर एक हो जाते हैं, और दोनों के कार्य[क] वचनों के द्वारा पूरे किए जाते हैं। चाहे मानवीयता में हों या ईश्वरीयता में, वे वचन बोलते हैं। जब परमेश्वर मानवीयता में काम करते हैं, तो वे मानवीयता की भाषा में बोलते हैं ताकि मनुष्य उनसे जुड़ सके और उनके वचनों को समझ सके। उनके वचन सामान्य ढंग से बोले जाते हैं और समझने में आसान होते हैं, ताकि वे सभी लोगों तक पहुँचाए जा सके; सुशिक्षित और खराब ढंग शिक्षित दोनों ही उनके वचनों को स्वीकार करने के योग्य होते हैं। जब वे अपनी ईश्वरीयता में कार्य करते हैं, कार्य तब भी वचनों के द्वारा ही किए जाते हैं, लेकिन उनके वचन पूर्ति और जीवन से भरपूर होते हैं। उनके वचनों में मानव अर्थ का मिलावट नहीं होता है और उनमें मानवीय प्राथमिकताएँ शामिल नहीं होती हैं; वे मानवीयता से बंधनमुक्त और सामान्य मानवीयता की सीमाओं से परे होते हैं। भले ही यह कार्य एक देह में किया जाता है, यह आत्मा का सीधा प्रकटीकरण है। यदि मनुष्य परमेश्वर के कार्य को सिर्फ़ उसकी मानवीयता में ही स्वीकार करता है, तो वे अपने आप को एक दायरे में सीमित कर लेते हैं। इसके पहले कि एक छोटा सा भी बदलाव सम्भव हो उन्हें निपटने, कांट-छांट, और अनुशासन के लम्बे वर्षों की आवश्यकता होगी। हालाँकि, पवित्र आत्मा के कार्य या उपस्थिति के बिना, वे हमेशा उन्हीं गलतियों को दोहएँगे। इस तरह के नुकसान और कमियों को केवल ईश्वरीयता के काम के माध्यम से ठीक किया जा सकता है, केवल तभी मनुष्य को सम्पूर्ण बनाया जा सकता है। बहुत लम्बे समय तक निपटने और कांट-छांट करने के बजाय, जो चीज जरूरी है वह है सकारात्मक पूर्ति, सभी कमियों को पूरा करने के लिए वचनों का उपयोग करना, लोगों की सभी अवस्थाओं को प्रकट करने के लिए वचनों का उपयोग करना, उनके जीवन, उनकी प्रत्येक वाणि, उनके हर कार्य को निर्देशित करने तथा उनके इरादों और प्रेरणा को खोल कर रख देने के लिए वचनों का उपयोग करना। यही है व्यावहारिक परमेश्वर का वास्तविक कार्य। और इसलिए, व्यावहारिक परमेश्वर के प्रति अपने रवैये में, आपको उन्हें सम्मान देते हुए और स्वीकार करते हुए उनकी मानवीयता के सामने झुकना चाहिए और साथ ही साथ, आपको उसकी ईश्वरीयता के कार्य और वचनों को भी स्वीकार करना चाहिए और उनका आज्ञा पालन करना चाहिए। परमेश्वर द्वारा देह में प्रकट होने का अर्थ है कि परमेश्वर के आत्मा के सब कार्य और वचन उनकी सामान्य मानवीयता, और उनके देह धारण के द्वारा किये जाते हैं। अर्थात्, परमेश्वर का आत्मा उनकी मानवीयता के कार्य को निर्देशित करता है और ईश्वरीयता के कार्य को देह के साथ पूरा करता है, और देहधारी परमेश्वर में आप परमेश्वर के मानवीयता वाले कार्य और संपूर्ण ईश्वरीय कार्य दोनों को देख सकते हैं। व्यावहारिक परमेश्वर के देह में प्रकट होने का यही वास्तविक महत्व है। यदि आप सचमुच में इसे समझ सकते हैं, तो फिर आप परमेश्वर के सभी अलग-अलग भागों से जुड़ पाएँगे; और आप उनके ईश्वरीयता के कार्य को बहुत ज़्यादा महत्व देना, या उनके मानवीयता के कार्य को बिल्कुल नकार देना बंद कर देंगे, और आप चरम पर नहीं जायेंगे, न ही गलत रास्ते पर मुड़ेंगे। कुल मिलाकर, व्यावहारिक परमेश्वर का अर्थ यह है कि उनके मानवीयता के कार्य और उनके ईश्वरीयता के कार्य, उनके आत्मा के निर्देशानुसार, उनके देह के द्वारा प्रदर्शित किये जाते हैं, ताकि लोग देख सकें कि वे जीवंत और सजीव हैं, तथा असली और वास्तविक हैं।

        परमेश्वर के आत्मा का मानवीयता वाले कार्य के परिवर्ती स्तर होते हैं। मानवीयता को एकदम सही बना करके, वे अपनी मानवीयता को आत्मा का निर्देश प्राप्त करने में समर्थ बनाते हैं, जिसके बाद उनकी मानवीयता कलीसियाओं का भरण पोषण और उनकी अगुवाई कर पाती है।परमेश्वर के सामान्य कार्य की यह एक अभिव्यक्ति है। इसलिए, यदि आप परमेश्वर के मानवीयता वाले कार्य के सिद्धांतों को अच्छे ढंग से समझ जाते हैं, तो फिर आपकी परमेश्वर के मानवीयता वाले कार्य के बारे में धारणाएँ बनाने की संभावना नहीं होगी । चाहे कुछ भी हो, परमेश्वर का आत्मा गलती नहीं कर सकता है; वह सही है और दोष रहित है । वह कुछ भी गलत नहीं करेगा। ईश्वरीयता का कार्य परमेश्वर की इच्छा का प्रत्यक्ष प्रकटीकरण है। उसमें मानवीयता का कोई भी हस्तक्षेप नहीं होता है। यह सिद्धता से होकर नहीं गुजरता, बल्कि सीधे आत्मा से आता है। तो भी, उसकी ईश्वरीयता का कार्य सिर्फ़ उसकी सामान्य मानवीयता से ही सम्भव है। यह अलौकिक थोड़ा भी नहीं है, और किसी साधारण मनुष्य के द्वारा किया जाता प्रतीत होता है। परमेश्वर के स्वर्ग से पृथ्वी पर आने का मुख्य कारण परमेश्वर के वचनों को देह के द्वारा प्रकट करना है और देह का उपयोग करके परमेश्वर के कार्य को पूरा करना है।

        आजकल, व्यावहारिक परमेश्वर के बारे में लोगों का ज्ञान बहुत अधिक एक तरफा है, और देह धारण के महत्व के बारे में उनकी समझ अभी भी बहुत कम है। परमेश्वर की देह के मामले में, मनुष्य उनके कार्य और वचनों के माध्यम से देखता है कि परमेश्वर का आत्मा में बहुत अधिक चीज शामिल है और बहुत अधिक बहुतायत में है। लेकिन कैसे भी हो, आख़िरकार परमेश्वर की गवाही परमेश्वर के आत्मा से ही आती है, बिल्कुल उसी तरह जैसे परमेश्वर देह में कार्य करते हैं, वह किन सिद्धांतों के द्वारा कार्य करते हैं, कैसे वे अपनी मानवीयता और ईश्वरीयता में कार्य करते हैं। आज, आप इस व्यक्तित्व की आराधना करते हैं, लेकिन वास्तव में, आप आत्मा की आराधना कर रहे हैं। यह वह न्यूनतम चीज है जिसका ज्ञान लोगों को देहधारी परमेश्वर के संबंध में पता होना चाहिए: देह के माध्यम से आत्मा के तत्व के बारे में जानना, आत्मा के द्वारा देह में ईश्वरीयता और मानवीयता के कार्य को जानना, आत्मा द्वारा देह के माध्यम से बोले गए सभी वचनों और कथनों को स्वीकार करना, और देखना कि कैसे परमेश्वर का आत्मा देह को निर्देशित करता है, और कैसे अपनी महान शक्ति को देह में दर्शाता है। अर्थात्, इस देह के माध्यम से ही, मनुष्य स्वर्ग के पवित्र आत्मा को जान जाता है, मानव जाति के मध्य में स्वयं व्यावहारिक परमेश्वर के प्रकट होने से, संदिग्ध परमेश्वर जो मनुष्य की धारणाओं में होता है लुप्त हो जाता है, लोगों द्वारा व्यावहारिक परमेश्वर की आराधना के कारण परमेश्वर के प्रति उनकी आज्ञाकारिता बढ़ गई है; और परमेश्वर के आत्मा के द्वारा देह में ईश्वरीयता और मानवीयता कार्य के माध्यम से, मनुष्य ईश्वरोक्ति प्राप्त करता और पालन-पोषण पाता है, और अपने जीवन स्वभाव में परिवर्तन को प्राप्त करता है। आत्मा के देह में आने का केवल यही वास्तविक अर्थ है, और यह मुख्य रूप से इसलिए कि लोग परमेश्वर सेजुड़ सकें, परमेश्वर पर आश्रित हो सकें, और परमेश्वर को जान सकें।

        वह मुख्य प्रवृति क्या है जिसे मनुष्य को अपने भीतर व्यावहारिक परमेश्वर के बारे में रखना चाहिए? आप देह धारण, वचन के देह में प्रकट होने, परमेश्वर के देह में प्रकट होने, और व्यावहारिक परमेश्वर के कार्यों के बारे में क्या जानते हैं? और आजकल मुख्य रूप से किसके बारे में बात होती है? देह धारण के बारे में, वचन के देह में आने के बारे में, और परमेश्वर के देह में प्रकट होने के बारे में, ये ही हैं जिन्हें आपको अच्छे ढंग से समझ लेना चाहिए। आप लोगों के कद और युग के अनुसार, आप लोगों को धीरे-धीरे इन मामलों की समझ हो जानी चाहिए। जब आपलोग जीवन का अनुभव करते हैं, आप लोगों को धीरे-धीरे इन मामलों की समझ हो जानी चाहिए और स्पष्ट ज्ञान प्राप्त हो जाना चाहिए। मनुष्य के द्वारा परमेश्वर के वचन को अनुभव करने की प्रक्रिया असल में परमेश्वर के वचनों के देह में प्रकट होने के बारे में जानने की प्रक्रिया के समान है। मनुष्य जितना अधिक परमेश्वर के वचनों को अनुभव करता है, उतना ही अधिक परमेश्वर के आत्मा के बारे में जानता है। परमेश्वर के वचनों के अपने अनुभव के द्वारा, मनुष्य आत्मा के कार्य के सिद्धांतों को समझता है और स्वयं व्यावहारिक परमेश्वर के बारे में जानता है। वास्तविकता में, जब परमेश्वर मनुष्य को सिद्ध बनाते और लाभ प्रदान करते हैं, तो वे उन्हें व्यावहारिक परमेश्वर के कामों के बारे में बता रहे होते हैं। वे व्यावहारिक परमेश्वर के कार्य का उपयोग लोगों को देह धारण का महत्व दिखाने और यह दिखाने के लिए कर रहे होते हैं कि परमेश्वर के आत्मा मनुष्य के सामने वास्तव में प्रकट हुआ है। जब लोग परमेश्वर के द्वारा लाभ प्राप्त करते हैं और उनके द्वारा सिद्ध बनाए जाते हैं, व्यावहारिक परमेश्वर का प्रकटीकरण उन्हें जीत लेता है, व्यावहारिक परमेश्वर के वचन उन्हें बदल देते हैं, औ उनके भीतर अपना जीवन डाल देते हैं, उन लोगों को उस चीज से भर देते हैं जो वह हैं (चाहे वह उनकी मानवीयता का अस्तित्व हो या उसकी ईश्वरीयता का), उन लोगों को अपने वचनों के तत्व से भर देते हैं, और लोगों को उनके वचन के अनुसार जीने देते हैं। जब परमेश्वर लोगों को लाभ प्रदान करते हैं, वे ऐसा मुख्य रूप से व्यावहारिक परमेश्वर के वचनों और वाणियों का उपयोग करके करते हैं ताकि लोगों की कमियों से निपट सकें, और उनके विद्रोही स्वभाव को पहचान सके और उन्हें प्रकट कर सकें, इस प्रकार उन्हें वे चीजें प्रदान करते हैं जिनकी उन्हें जरूरत है, और उन्हें दिखाते हैं कि परमेश्वर उनके बीच आया है। सबसे महत्वपूर्ण बात, व्यावहारिक परमेश्वर द्वारा किया जाने वाला कार्य प्रत्येक मनुष्य को शैतान के प्रभाव से बचाना है, उन्हें गंदगी वाली जगह से दूर ले जाना है, और मनुष्य को उनके भ्रष्ट स्वभाव से छुटकारा दिलाना है। व्यावहारिक परमेश्वर के द्वारा लाभ हासिल किये जाने का सबसे गहरा महत्व यह है कि इस योग्य बने कि उन्हें एक आदर्श, एक नमूने के जैसे माने, और एक सामान्य मानवीयता को जिए, और इस योग्य बने कि व्यावहारिक परमेश्वर के वचनों और मांगों को बिना किसी विचलन या उल्लंघन के क्रिया में लागू कर सके, ऐसे कि वे जो कुछ भी कहें आप उसे अभ्यास में लायें, और आप इस योग्य होते हैं कि जो कुछ भी वह कहता है आप उसे प्राप्त कर सकें। फिर आप परमेश्वर के द्वारा लाभ हासिल कर चुके होंगे। जब आप परमेश्वर के द्वारा लाभ हासिल कर लेते हैं तो आपमें केवल पवित्र आत्मा का कार्य ही नहीं होता है; सैद्धांतिक रूप से आप व्यावहारिक परमेश्वर की आवश्यकताओं को जी पाते हैं। सिर्फ़ आत्मा के कार्य होने का अर्थ यह नहीं है कि आपके पास जीवन है; कुंजी यह है कि क्या आप वह कर पाते हैं जो व्यावहारिक परमेश्वर ने आपसे कहा है, जो इससे संबंधित है कि क्या आप परमेश्वर के द्वारा लाभ हासिल कर सकते हैं कि नहीं। ये देह में व्यावहारिक परमेश्वर के द्वारा कार्य पूरा करने के लिए सबसे अधिक महत्वपूर्ण हैं। अर्थात, परमेश्वर सचमुच और वाकई देह में प्रकट हो कर, तथा जीवंत और सजीव होकर, लोगों द्वारा देखे जाकर, देह में आत्मा का काम वास्तव में करके, और देह में लोगों के लिए एक आदर्श के रूप में काम करके लोगों के समूह को लाभ प्रदान करते हैं। परमेश्वर देह में मुख्यतः इसलिए आते हैं कि मनुष्य परमेश्वर के असली कार्यों को देख सके, निराकार आत्मा को देह में अहसास कर सके, और वे मनुष्य के द्वारा स्पर्श किए और देखे जा सके। इस तरह से, जिन्हें वे सिद्ध बनाते हैं वे ही उसे जी पाएँगे, उनके द्वारा लाभ हासिल कर पाएँगे, और वे उनके हृदय के अनुसार हो पाएँगे। यदि परमेश्वर केवल स्वर्ग में ही बोलते, और वास्तव में पृथ्वी पर नहीं आते, तो मनुष्य अब भी परमेश्वर को जानने के अयोग्य होता; परमेश्वर के कार्यों का उपदेश सिर्फ़ खोखले सिद्धांत से दे पाते, और उनके पास परमेश्वर के वचन वास्तविकता के रूप में नहीं होते। परमेश्वर पृथ्वी पर मुख्य्तः इसलिए आते हैं कि उनके लिए जिन्हें उनसे लाभ प्राप्त होगा वे एक आदर्श और नमूना बन सके। सिर्फ़ इसी ढंग से मनुष्य व्यावहारिक रूप से परमेश्वर को जान, स्पर्श, और देख सकता है; और केवल इसी ढंग से मनुष्य सचमुच में परमेश्वर के द्वारा लाभ प्राप्त कर सकता है।

        फुट्नोट:

        क. मूल पाठ्य भाग कहता है “दोनों हैं।”