वचन देह में प्रकट होता है

विषय-वस्तु
  • क्लीसिया में आने पर देहधारी मनुष्य के पुत्र के वचन (Ⅰ)
    • क्लीसिया में आने पर देहधारी मनुष्य के पुत्र के वचन (Ⅱ)
      • भाग एक आरंभ में मसीह के कथन और गवाहियाँ —कलीसियाओं के लिए पवित्र आत्मा के वचनों में देहधारी परमेश्वर की गवाही
        • भाग एक संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए देहधारी परमेश्वर के कथन जब उन्होंने पहली बार परमेश्वर की सेवकाई आरंभ की
          • परिशिष्ट: परमेश्वर के वचनों के रहस्यों की व्याख्या
            • क्लीसिया में आने पर देहधारी मनुष्य के पुत्र के वचन (Ⅲ)
              • क्लीसिया में आने पर देहधारी मनुष्य के पुत्र के वचन (Ⅳ)
                • सर्वशक्तिमान परमेश्वर के नवीनतम कथन

                  एक योग्य चरवाहे को किन साजो-सामान से युक्त होना चाहिए

                  जब पवित्र आत्मा लोगों पर काम करता है तो वे लोग जिन परिस्थितियों में होंगे, उनकी आपको समझ होनी चाहिए। विशेष कर, जो लोग ईश्वर की सेवा करने के लिए समन्वय करते हैं, उन्हें उन विभिन्न परिस्थितियों की और भी बेहतर समझ होनी चाहिए जो पवित्र आत्मा के लोगों पर कार्य करने से पैदा होती हैं। यदि आप अनेक अनुभवों और प्रवेश करने के कई तरीकों के बारे में केवल बात करते हैं, तो यह दिखाता है कि लोगों का अनुभव बेहद एक तरफा है। यथार्थ में कई स्थितियों को समझे बिना, आप अपने स्वभाव में परिवर्तन ला पाने में असमर्थ हैं। यदि आप कई स्थितियों को समझ गए हैं, तो आप पवित्र आत्मा के काम की विभिन्न अभिव्यक्तियों को समझ पाएंगे, और स्पष्ट रूप से आर-पार देख सकेंगे और बुरी आत्माओं के बहुत से कामों को समझ पाएंगे। आपको लोगों के कई विचारों को बेनकाब कर सीधे मुद्दे के केंद्रबिंदु पर आना चाहिए; आपको लोगों के अभ्यास में आने वाले भटकाव या परमेश्वर पर विश्वास करने में होने वाली समस्याओं पर भी ध्यान ले जाना चाहिए ताकि वे उन्हें पहचान सकें। कम से कम, आपको उन्हें नकारात्मक या निष्क्रिय महसूस नहीं कराना चाहिए। हालांकि, आपको उन कई कठिनाइयों को समझना चाहिए जो कि लोगों के लिए निष्पक्ष रूप से मौजूद हैं, आपको विवेकहीन नहीं होना चाहिए या “भैंस के आगे बीन बजाने” की कोशिश नहीं करनी चाहिए; यह मूर्खतापूर्ण व्यवहार है। लोगों की कई कठिनाइयों को हल करने के लिए, आपको पवित्र आत्मा के काम की गतिशीलता को समझना चाहिए, आपको समझना चाहिए कि पवित्र आत्मा विभिन्न लोगों पर कैसे काम करता है, आपको लोगों की कठिनाइयों और उनकी कमियों को समझना चाहिए और समस्या के महत्वपूर्ण मुद्दों को हल करते हुए, किसी भटकाव या त्रुटियों के बिना, समस्या के स्रोत पर पहुंचना चाहिए। केवल इस तरह का व्यक्ति भगवान की सेवा करने के लिए समन्वय करने योग्य है।

                  आप प्रमुख मुद्दों को समझने और बहुत सी चीजों के आर-पार स्पष्ट रूप से देखने में सक्षम हो पाते हैं या नहीं, यह आपके व्यक्तिगत अनुभवों पर निर्भर करता है। जिस तरीके से आप अनुभव करते हैं, वह इस बात को प्रभावित करता है कि आप दूसरों का मार्गदर्शन कैसे करते हैं। यदि आप पत्रों और सिद्धांतों को समझते हैं, तो आप दूसरों को पत्रों और सिद्धांतों को समझाने के लिए नेतृत्व करते हैं। आप जिस तरह से परमेश्वर के वचनों की वास्तविकता का अनुभव करते हैं, वही वो रास्ता है जिस पर आप दूसरों को परमेश्वर के वचनों की वास्तविकता में प्रवेश कराने के लिए अगुवाई करते हैं। यदि आप बहुत सी सच्चाइयों को समझते हैं और परमेश्वर के वचनों में कई चीजों को स्पष्ट रूप से समझते हैं, तो आप दूसरों को कई सच्चाइयों को समझाने हेतु नेतृत्व कर पाने में सक्षम हैं और जिन लोगों का आप नेतृत्व कर रहे हैं, उन्हें दर्शन की स्पष्ट समझ होगी। यदि आप अलौकिक भावनाओं को समझने पर ध्यान केंद्रित करते हैं, तो आप जिन लोगों का नेतृत्व करेंगे, वे भी अलौकिक भावनाओं पर ध्यान केंद्रित करेंगे। अगर आप अभ्यास की उपेक्षा करते हैं और बातचीत पर ज़ोर देते हैं, तो जिन लोगों का आप नेतृत्व करते हैं, वे भी बिना अभ्यास के, बिना अपने स्वभाव में कोई परिवर्तन लाए बातचीत पर ही ध्यान केंद्रित करेंगे, और वे किसी सच्चाई का अभ्यास न करते हुए, केवल बाहरी तौर पर उत्साहित होंगे। सभी लोग दूसरों को वो देते हैं जो स्वयं उनके पास होता है। व्यक्ति का प्रकार, वह मार्ग निर्धारित करता है जिस पर वह दूसरों को निर्देशित करता है, और व्यक्ति का प्रकार निर्धारित करता है कि वह किस तरह के लोगों का नेतृत्व करता है। परमेश्वर के उपयोग हेतु वास्तव में उपयुक्त होने के लिए, आप लोगों को केवल महत्वाकांक्षा की जरुरत नहीं है, बल्कि आप लोगों को परमेश्वर से कई तरह की शिक्षा, परमेश्वर के वचनों से मार्गदर्शन, परमेश्वर से व्यवहार, और उसके वचनों के परिशोधन की भी आवश्यकता है। इस आधार में अवलोकन, ख्याल, सोच-विचार, निष्कर्ष, समावेशन या उन्मूलन को शामिल करें, जिन पर आप लोग आमतौर पर ध्यान देते हैं। ये सभी वास्तविकता में प्रवेश करने के लिए आप लोगों के रास्ते हैं और ये सभी अनिवार्य हैं-परमेश्वर इसी तरह काम करता है। यदि आप उस पद्धति में प्रवेश करते हैं, जिसके द्वारा परमेश्वर कार्य करता है, तो आपके पास हर दिन परमेश्वर द्वारा पूर्ण होने का मौका होगा। और चाहे यह एक कठोर वातावरण हो या अनुकूल पर्यावरण, चाहे आपकी परीक्षा ली जा रही हो या आपको लुभाया जा रहा हो, चाहे आप काम कर रहे हों या ना कर रहे हों, चाहे आप एक व्यक्ति के रूप में जी रहे हों या सामुदायिक रूप से, किसी भी समय, आपको उनमें से किसी एक को खोए बिना, हमेशा परमेश्वर के द्वारा पूर्ण किये जाने का अवसर मिलेगा। आप उन सभी को खोज पाने में सक्षम होंगे, और इस तरह आपको परमेश्वर के वचनों का अनुभव करने का रहस्य मिल जायेगा।