467 इंसान को परमेश्वर के वचनों के अनुसार चलना चाहिये

1

इंसान को परमेश्वर के वचनों के अनुसार चलना चाहिये।

हर युग में, जब परमेश्वर अपना काम करता है,

तो इंसान को कुछ वचन प्रदान करता है।

कुछ सच्चाई व्यक्त करता है। कुछ सच्चाई व्यक्त करता है।

ये वो सच्चाई है जिस पर इंसान को चलना चाहिये,

ये वो राह है जिस पर इंसान को चलना चाहिये।

ये वो राह है जिस पर चलकर इंसान,

परमेश्वर का भय माने, और बुराई से दूर रहे,

ज़िंदगी के सफ़र में इंसान जिस पर अमल करे।

यही वजह है कि परमेश्वर इंसान को वचन प्रदान करता है।

2

ये वचन ख़ुद परमेश्वर प्रदान करता है, ताकि इंसान उन पर अमल करे।

गर इंसान अमल करता है तो ज़िंदगी पाता है,

गर इंसान उन पर नहीं चलता, अमल नहीं करता,

गर इंसान ज़िंदगी में उन्हें नहीं अपनाता,

तो वो सच्चाई पर अमल नहीं करता।

सच्चाई पर अमल ना करने के मायने हैं,

परमेश्वर का भय ना मानना, बुराई से दूर ना रहना।

इस तरह इंसान परमेश्वर को ख़ुश ना कर पाएगा।

परमेश्वर को ख़ुश ना कर पाने के मायने हैं उसकी प्रशंसा ना पाना,

ऐसा इंसान कोई नतीजे नहीं पा सकता।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर का स्वभाव और उसका कार्य जो परिणाम हासिल करेगा, उसे कैसे जानें' से रूपांतरित

पिछला: 466 परमेश्वर की एकमात्र इच्छा है कि इंसान उसकी बात सुने और माने

अगला: 468 ईश-वचन इंसान के जीवन की सभी जरूरतों के लिए आपूर्ति करते हैं

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें