122 परमेश्वर के लोगों के बढ़ने के साथ बड़ा लाल अजगर होता है धराशायी

1

जब लोग सारे पूर्ण बन जाएंगे, और देश सारे मसीह के राज्य बन जाएंगे,

तब गूँज उठेंगी सात गर्जनाएं।

आज एक लम्बा डग भरा है उस चरण की ओर।

वक्त है कि बढ़ चलें उस ओर।

यही है परमेश्वर की योजना, पूरी होगी जल्द ही ये योजना, योजना।

2

परमेश्वर की योजना को पूरा करने कामयाबी से,

उतर आए हैं धरती पर देवदूत स्वर्ग से।

है देहधारी परमेश्वर भी रणभूमि में, कर रहा है युद्ध शत्रु से।

जो कहा परमेश्वर ने वो ही किया।

देश सारे रेत पर हैं महल बस, ज्वार-भाटा जब पास आते, थरथराते।

अंत का दिन सन्निकट है।

परमेश्वर के वचन के अधीन, ढह जाएगा बड़ा लाल अजगर।

जहाँ कहीं देहधारण होता है, शत्रु का विनाश वहाँ होता है।

चीन का विध्वंस सबसे पहले होगा।

इसका विनाश परमेश्वर के हाथों होगा।

बड़े लाल अजगर के पतन का सबूत, लोगों की परिपक्वता में दिख रहा है।

दुश्मन के अंत का लक्षण है ये।

यही "जंग करने" के मायने हैं। यही "जंग करने" के मायने हैं।

3

देह के भीतर से जब जान लेगा इंसान परमेश्वर को,

देह के भीतर से जब देख पाएगा इंसान उसके कर्मों को,

तब राख हो जाएगी माँद बड़े लाल अजगर की,

लुप्त हो जाएगी, फिर न रहेगा कोई नामोनिशाँ,

फिर न रहेगा कोई नामोनिशाँ।

देश सारे रेत पर हैं महल बस, ज्वार-भाटा जब पास आते, थरथराते।

अंत का दिन सन्निकट है।

परमेश्वर के वचन के अधीन, ढह जाएगा बड़ा लाल अजगर।

जहाँ कहीं देहधारण होता है, शत्रु का विनाश वहाँ होता है।

चीन का विध्वंस सबसे पहले होगा।

इसका विनाश परमेश्वर के हाथों होगा।

बड़े लाल अजगर के पतन का सबूत, लोगों की परिपक्वता में दिख रहा है।

दुश्मन के अंत का लक्षण है ये।

यही "जंग करने" के मायने हैं। यही "जंग करने" के मायने हैं।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचनों के रहस्य की व्याख्या' के 'अध्याय 10' से रूपांतरित

पिछला: 121 अंत के दिनों में परमेश्वर के कार्य का उद्देश्य

अगला: 123 परमेश्वर ने चीन में पूरा कर लिया है विजेताओं का एक समूह

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें