260 मैं अपने हृदय में केवल परमेश्वर से प्रेम करना चाहती हूँ

हे परमेश्वर! मैं यह नहीं चाहती कि लोग मुझे बर्दाश्त करें या मेरे साथ अच्छे ढंग से पेश आएँ, न यह चाहती हूँ कि वे मुझे समझें या मुझे स्वीकारें। मैं केवल इतना चाहती हूँ कि मैं तुझे अपने दिल में प्रेम करूँ, मेरे दिल को सुकून मिले, मेरी अंतरात्मा निर्मल हो। मैं यह नहीं चाहती कि लोग मेरी प्रशंसा करें, या मुझे सम्मान दें; मैं पूरे दिल से केवल तुझे संतुष्ट करना चाहती हूँ, मैं केवल तुझे संतुष्ट करने के लिये सत्य का अभ्यास करना चाहती हूँ। मैं अपना कर्तव्य पूरी निष्ठा से निभाती हूँ, हालाँकि मैं मूर्ख हूँ और मेरी क्षमता ख़राब है, मैं जानती हूँ कि तू मनोहर है, मैं अपना सर्वस्व तुझे अर्पित करने को तैयार हूँ। मेरी एकमात्र इच्छा है कि मैं प्रेमपूर्ण हृदय लेकर तेरे लिये काम करूँ; मैं केवल सच्चे हृदय और सत्य की राह पर चलकर तेरी सेवा करना चाहती हूँ। मैं आजीवन केवल तेरी इच्छा को पूरा करने के लिये काम करना चाहती हूँ, और सब-कुछ तेरी इच्छा के अनुरूप करना चाहती हूँ।

पिछला: 259 मैं हूँ बस एक अदना सृजित प्राणी

अगला: 261 मैं अपना पूरा जीवन परमेश्वर को समर्पित करना चाहता हूँ

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर धर्मोपदेश और संगति अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें