260 मैं अपने हृदय में केवल परमेश्वर से प्रेम करना चाहती हूँ

हे परमेश्वर! मैं यह नहीं माँगता कि दूसरे मुझे सहन करें या मुझसे अच्छा व्यवहार करें, न ही यह कि वे मुझे समझें और स्वीकार करें। मैं केवल यह माँगता हूँ कि मैं अपने हृदय से तुझसे प्रेम कर सकूँ, कि मैं अपने हृदय में शांत हो सकूँ, और कि मेरा अंत:करण शुद्ध हो। मैं यह नहीं माँगता कि दूसरे मेरी प्रशंसा करें, या मेरा बहुत आदर करें; मैं केवल तुझे अपने हृदय से संतुष्ट करना चाहता हूँ और तुझे संतुष्ट करने के लिए सत्य का अभ्यास करना चाहता हूँ। मैं पूरे समर्पण भाव से अपने कर्तव्य का निर्वहन करता हूँ, यद्यपि मैं मूर्ख हूँ और मुझमें क्षमता की कमी है, फिर भी मैं जानता हूँ कि तू मनोहर है और वह सब-कुछ जो मेरे पास है मैं तुझे अर्पित करने के लिए तैयार हूँ। मेरी एकमात्र इच्छा है कि मैं प्रेमपूर्ण हृदय लेकर तेरे लिये काम करूँ; मैं केवल सच्चे हृदय और सत्य की राह पर चलकर तेरी सेवा करना चाहती हूँ। मैं आजीवन केवल तेरी इच्छा को पूरा करने के लिये काम करना चाहती हूँ, और सब-कुछ तेरी इच्छा के अनुरूप करना चाहती हूँ।

पिछला: 259 मैं हूँ बस एक अदना सृजित प्राणी

अगला: 261 मैं अपना पूरा जीवन परमेश्वर को समर्पित करना चाहता हूँ

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें