443 पारस्परिक रिश्ते परमेश्वर के वचनों के अनुसार बनाने चाहिए

1

अगर तुम ईश्वर से सही रिश्ता रखना चाहो,

तो अपना दिल उसकी ओर झुकाओ,

तब लोगों से भी रिश्ते तुम्हारे वैसे ही होंगे जैसे होने चाहिए।

अगर ईश्वर से रिश्ता सही न हो, तो दूसरों से रिश्ता बनाने के लिए

चाहे तुम कुछ भी कर लो, ये जीने का इंसानी फ़लसफ़ा ही होगा।

सिर्फ इंसानी नज़रिये और इंसानी फलसफे का इस्तेमाल करके

तुम अपना रुतबा कायम रखते हो, ताकि तुम दूसरों से तारीफ़ पा सको।

तुम ईश-वचन के मुताबिक अपने रिश्ते नहीं बनाते हो।

इंसानी रिश्ते बनाने पर ध्यान न देकर, अगर ईश्वर से रिश्ते बनाने पर ध्यान दो

अगर उसके आज्ञापालन को तैयार हो, अगर अपना दिल ईश्वर को दो,

तो जीवन में लोगों से रिश्ते अच्छे होंगे तुम्हारे।

2

देह के आधार पर नहीं बनते ये रिश्ते,

बल्कि ईश-प्रेम की बुनियाद पर टिकते हैं ये रिश्ते।

संगति, प्रेम, सुख और पोषण है आत्मा में।

ये सब होता ईश्वर के दिल की संतुष्टि के आधार पर।

बनते नहीं ये रिश्ते जीने के फ़लसफ़े से,

बनते ईश्वर की ख़ातिर भार उठाने से, बनते ये कुदरती तौर पर।

इंसानी कोशिश की ज़रूरत नहीं इसे, बस ईश्वर के वचन पर अमल चाहिए।

इंसानी रिश्ते बनाने पर ध्यान न देकर, अगर ईश्वर से रिश्ते बनाने पर ध्यान दो

अगर उसके आज्ञापालन को तैयार हो, अगर अपना दिल ईश्वर को दो,

तो जीवन में लोगों से रिश्ते अच्छे होंगे तुम्हारे, अच्छे होंगे तुम्हारे।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर के साथ सामान्य संबंध स्थापित करना बहुत महत्वपूर्ण है' से रूपांतरित

पिछला: 442 परमेश्वर के साथ सामान्य संबंध रखना महत्वपूर्ण है

अगला: 444 क्या परमेश्वर से तुम्हारा संबंध सामान्य है?

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें