975 नए युग की आज्ञाएं बहुत ही महत्वपूर्ण हैं

1 नए युग की आज्ञाओं का अर्थ बहुत गहरा है। उन्होंने संकेत किया कि परमेश्वर, देह में अपनी सम्पूर्ण महिमा को प्रकट करते हुए, वास्तव में पृथ्वी पर प्रकट होगा और पृथ्वी पर समूचे विश्व को जीत लेगा। उन्होंने यह भी संकेत किया कि उन सभी को पूर्ण बनाने के लिए, जिन्हें परमेश्वर ने चुना है। व्यावहारिक परमेश्वर पृथ्वी पर और भी अधिक व्यावहारिक कार्य करने जा रहा है। और, परमेश्वर पृथ्वी पर अपने वचनों से सब कुछ निष्पादित करेगा और उस आज्ञा को प्रकट करेगा कि "देहधारी परमेश्वर सबसे ऊँचा उठता है और उसे आवर्धित होता है, और सभी लोग एवं सभी देश परमेश्वर की आराधना करने के लिए घुटने टिकाते हैं—जो सर्वोच्च रूप में गौरवान्वित है"। हालाँकि नए युग की आज्ञाएँ मनुष्य के पालन करने के लिए हैं, जो कि मनुष्य का कर्तव्य और उसकी उपलब्धियों का उद्देश्य है, फिर भी वह अर्थ जो वे दर्शाते हैं वह इतना गहरा है कि उसे एक या दो शब्दों में पूरी तरह से अभिव्यक्त नहीं किया जा सकता है। नए युग की आज्ञाएँ यहोवा और यीशु के द्वारा घोषित की गई पुराने विधान की व्यवस्थाओं और नए विधान के अध्यादेशों को बदल देती हैं। यह एक गहरी शिक्षा है। यह उतना सरल विषय नहीं है जैसा मनुष्य सोचते हैं।

2 नए युग की आज्ञाओं में व्यावहारिक अर्थ का एक पहलू है: वे अनुग्रह के युग और राज्य के युग के बीच मध्य भाग की भूमिका निभाते हैं। नए युग की आज्ञाएँ पुराने युग के अभ्यासों और अध्यादेशों को समाप्त करती हैं और यीशु के युग के और उससेपहले के सभी अभ्यासों को समाप्त करती हैं। वे मनुष्य को अधिक व्यावहारिक परमेश्वर की उपस्थिति में लाते हैं और मनुष्य को परमेश्वर द्वारा व्यक्तिगत रूप से परिपूर्णता प्राप्त करना शुरू करने की अनुमति देते हैं, जो कि पूर्ण बनाए जाने के मार्ग का आरम्भ है। इसलिए, तुम लोग को नए युग की आज्ञाओं के प्रति सही प्रवृत्ति धारण करोगे और उनका अनुसरण लापरवाही से नहीं करोगे या उनका तिरस्कार नहीं करोगे। नए युग की आज्ञाएँ एक बिंदु पर जोर देती हैं: कि मनुष्य आज के व्यावहारिक परमेश्वर स्वयं की आराधना करेगा, जो कि और अधिक व्यावहारिक रूप से आत्मा के सार के प्रति समर्पित होना है। वे उस सिद्धान्त पर भी जोर देते हैं जिसके द्वारा धार्मिकता के सूर्य के रूप में प्रकट होने के बाद परमेश्वर मनुष्य के दोषी होने या धर्मी होने का न्याय करेगा।

समूहगान: नए युग की आज्ञाएँ इस बात की प्रतीक हैं कि परमेश्वर और मनुष्य नए स्वर्ग और नई पृथ्वी के क्षेत्र में प्रवेश कर चुके हैं, और यह कि जैसे यहोवा ने इस्रालियों के बीच कार्य किया था और यीशु ने यहूदियों के बीच कार्य किया था, वैसे ही परमेश्वर पृथ्वी पर और अधिक व्यावहारिक कार्य करेंगे तथा और अधिक बड़े काम करेंगे।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में "आज्ञाओं का पालन करना और सत्य का अभ्यास करना" से रूपांतरित

पिछला: 1002 जब परमेश्वर सिय्योन लौटेगा

अगला: 127 परमेश्वर ने किया है अपने पूर्ण स्वभाव को मनुष्य के सामने प्रकट

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें