319 मनुष्य के शब्द और कर्म परमेश्वर के दहन से नहीं बच सकते

1

ईश्वर को लगे तुम लोगों का जीवन

अशुद्ध आत्माओं का

रक्त पीना और मांस खाना है

क्योंकि तुम रोज़ उनका अनुकरण करते।

उसने तुम्हारा बुरा बर्ताव देखा है;

क्या वो तुम्हें घृणित न समझेगा?

तुम्हारे शब्द गंदे हैं:

तुम फुसलाते, चापलूसी करते, छिपाते हो

उन धोखेबाज़ों की तरह, जो जादू-टोना करते

और अधर्मियों का रक्त पीते हैं।


ईश्वर अपनी आँखों से देखे सभी के दिल,

क्योंकि सृष्टि के बहुत पहले से,

उनके दिल थे उसके हाथों में।

तो उनके विचार उसकी नज़रों से कैसे बच सकें?

क्या उसके आत्मा द्वारा दहन से

बचने में देर नहीं हो गई?


2

इंसान की सभी अभिव्यक्तियाँ अधार्मिक हैं,

तो वो धार्मिकों संग पवित्र भूमि में कैसे रह सके?

क्या अपने घिनौने बर्ताव से तुम

अधर्मियों की तुलना में पवित्र दिखोगे?


ईश्वर अपनी आँखों से देखे सभी के दिल,

क्योंकि सृष्टि के बहुत पहले से,

उनके दिल थे उसके हाथों में।

तो उनके विचार उसकी नज़रों से कैसे बच सकें?

क्या उसके आत्मा द्वारा दहन से

बचने में देर नहीं हो गई?


3

साँप जैसी तुम्हारी ज़ुबान,

बर्बाद करेगी तुम्हारी देह को

जो तबाही बरपाती, घिनौने काम करती है।

अशुद्ध आत्माओं के खून से सने तुम्हारे हाथ

तुम्हारी आत्मा को नरक में खींच लेंगे।


अपने गंदे हाथों को साफ करने का

मौका क्यों नहीं लपकते?

अधर्मी बातें करने वाली

अपनी ज़बान क्यों नहीं काटते?

क्या तुम अपने हाथों, ज़ुबान और होठों के लिए

नरक की लपटें झेलना चाहते?


ईश्वर अपनी आँखों से देखे सभी के दिल,

क्योंकि सृष्टि के बहुत पहले से,

उनके दिल थे उसके हाथों में।

तो उनके विचार उसकी नज़रों से कैसे बच सकें?

क्या उसके आत्मा द्वारा दहन से

बचने में देर नहीं हो गई?


—वचन, खंड 1, परमेश्वर का प्रकटन और कार्य, तुम सभी कितने नीच चरित्र के हो! से रूपांतरित

पिछला: 318 जो कुछ भी लोग कहते और करते हैं, वह बच नहीं सकता परमेश्वर की नज़र से

अगला: 320 परमेश्वर की नज़रों में तुम्हारी बातें और तुम्हारे कर्म मैले हैं

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें