637 क्या ये दुनिया तुम्हारी आरामगाह है?

मेरे वचन से बाहर रहने वाले लोग, परीक्षण के कष्टों से भागने वाले लोग,

बस भटक रहे हैं दुनिया में, जैसे उड़ते हैं पतझड़ के पत्ते हवा में।

1

फड़फड़ाते हैं वे इधर उधर।

मिलती नहीं कोई आरामगाह उन्हें,

मिलते नहीं बिल्कुल दिलासे के मेरे वचन उन्हें।

हालांकि पीछा नहीं करते मेरी ताड़ना और शुद्धिकरण उनका,

स्वर्ग के राज्य के बाहर महज़ गलियों के भिखारी हैं वो।

भटक रहे हैं दर-ब-दर वो।

दुनिया तुम्हारी आरामगाह है, क्या यकीन कर सकते हो?

बचकर मेरी ताड़ना से,

क्या तुम इस दुनिया में सहजता से मुस्कुरा सकते हो?

छुपाया जा न सके, दिल के जिस ख़ालीपन को,

क्या पल दो पल की ख़ुशियों से उसे तुम ढक सकते हो?

बना सकते हो मूर्ख तुम अपने घरवालों को,

मगर बना नहीं सकते मूर्ख तुम मुझे।

2

क्योंकि दुर्बल है बहुत आस्था तुम्हारी,

देखी नहीं हैं ख़ुशियाँ जो जीवन दे सकता है तुमको।

बन जाओ सच्चे, आग्रह करता तुमसे मैं, आधा जीवन बिता दो मेरी ख़ातिर।

बेहतर है ये उस साधारण जीवन से

जो जीते तुम, मेहनत करते देह की ख़ातिर,

सहते तमाम दुख-तकलीफ़ें इंसान सह नहीं पाता जिन्हें।

दुनिया तुम्हारी आरामगाह है, क्या यकीन कर सकते हो?

बचकर मेरी ताड़ना से,

क्या तुम इस दुनिया में सहजता से मुस्कुरा सकते हो?

छुपाया जा न सके, दिल के जिस ख़ालीपन को,

क्या पल दो पल की ख़ुशियों से उसे तुम ढक सकते हो?

बना सकते हो मूर्ख तुम अपने घरवालों को,

मगर बना नहीं सकते मूर्ख तुम मुझे।

क्या मायने हैं इसके,

बेहद मुहब्बत करना ख़ुद से और भागना मेरी ताड़ना से?

क्या मायने हैं इसके, बचना मेरी क्षणिक ताड़ना से

और भोगना शर्मिंदगी और सज़ा सदा के लिये?

दुनिया तुम्हारी आरामगाह है, क्या यकीन कर सकते हो?

बचकर मेरी ताड़ना से, क्या तुम इस दुनिया में सहजता से मुस्कुरा सकते हो?

छुपाया जा न सके, दिल के जिस ख़ालीपन को,

क्या पल दो पल की ख़ुशियों से उसे तुम ढक सकते हो?

बना सकते हो मूर्ख तुम अपने घरवालों को,

मगर बना नहीं सकते मूर्ख तुम मुझे।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'एक वास्तविक व्यक्ति होने का क्या अर्थ है' से रूपांतरित

पिछला: 636 क्या तुम ऐसे व्यक्ति हो जिसने ताड़ना और न्याय को हासिल किया है?

अगला: 638 यदि तुम परमेश्वर के न्याय से भाग निकलते हो, तो क्या होगा?

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें