58 घर की ओर गमन

1

मैं सोचता था भोलेपन में,

मेरे सपने पूरे होंगे जग में।

बेहतर जीवन बनाऊँगा,

अपने ख़ून-पसीने से।

मगर नाकामियों ने सिखाया,

ये बेतुके ख़्याल हैं मेरे।

बुराइयों, साज़िशों से भरी इस दुनिया में,

ज़मीर-विवेक सब खो गए मेरे।

शोहरत-दौलत के पीछे भागकर,

एक जानवर की ज़िंदगी जी मैंने।

दिल तोड़ दिया मेरा

बेदर्दी, लापरवाह दुनिया ने।

लोग लड़ते-झगड़ते, एक-दूजे को मारते,

झूठ बोलते और हिंसा करते।

जीने की कोई आसान राह नहीं

बिना जान-पहचान, चालबाज़ियों के।

सही राह पे चल के, ईश्वर में आस्था रख के भी,

भेदभाव होगा, जेल की सज़ा होगी।


देखता हूँ साफ़-साफ़, ये दुनिया

बुराई और अंधकार से भरी है।

आहत हूँ, बेबस हूँ मैं।

दिल में पीड़ा से भरा हूँ मैं।

मेहनत करके भी कोई राह नहीं मिली है।

वो सुंदर घर कहाँ है, जिसकी दिल में चाहत है?


2

एक परिचित आवाज़ पुकारती है।

ईश्वर के मधुर वचन, सुकून देते दिल को मेरे।

देखता हूँ ये मानव-पुत्र है जो बोलता है,

मेरे द्वार पे दस्तक देता है।

ईश्वर के सामने आकर देखता हूँ,

कलीसिया ही नया स्वर्ग और धरती है।

लोग यहाँ निर्मल हैं, नेक हैं,

सच्चाई से पेश आते हैं।

यहाँ निष्पक्षता, धार्मिकता है।

ईश-वचनों का, सत्य का बोलबाला है।

वे जीवन के रहस्य उजागर करते हैं,

मेरे दिल को जगाते हैं, जीवन ज़्यादा साफ़ होता है।

न्याय से गुज़रकर, सत्य जानकर,

जान गया नेकी और बुराई में अंतर।

अब न भागता मैं शोहरत-दौलत के पीछे,

बच निकला मैं शैतान के जाल से।


अब ईमानदार हूँ, ईश्वर-आशीष पाता हूँ।

दिल में सुकून है; चैन है।

तेरा धन्यवाद ईश्वर, तूने मार्गदर्शन किया।

सही राह पर चल पड़ा हूँ मैं।

बहुत प्यारा है ईश्वर; बहुत तरसता है मेरा दिल उसके लिए।

सत्य पर अमल करूँगा, कर्तव्य निभाऊँगा, ईश्वर से आजीवन प्रेम करूँगा।


ईश्वर के सामने आकर देखता हूँ,

कलीसिया ही नया स्वर्ग और धरती है।

लोग यहाँ निर्मल हैं, नेक हैं, सच्चाई से पेश आते हैं।

यहाँ निष्पक्षता, धार्मिकता है।

मैं ईश्वर का आज्ञापालन और उससे प्रेम करता सदा।

पिछला: 57 मेरे दिल में परमेश्वर है

अगला: 59 सत्य को स्वीकार करना बुद्धिमान कुँवारी होना है

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

परमेश्वर का प्रकटन और कार्य परमेश्वर को जानने के बारे में अंत के दिनों के मसीह के प्रवचन सत्य के अनुसरण के बारे में I न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सत्य वास्तविकताएं जिनमें परमेश्वर के विश्वासियों को जरूर प्रवेश करना चाहिए मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवात्मक गवाहियाँ मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवात्मक गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें