471 परमेश्वर के वचन हैं, कभी न बदलने वाले सत्य

1

परमेश्वर के वचन हैं, कभी न बदलने वाले सत्य।

प्रभु दाता हैं जीवन के, बस वो ही रहनुमा हैं इन्सां के।

उनके सार तय करते हैं प्रभु के वचनों की कीमत और माने,

ना कि इंसान उन्हें माने या ना माने।

अगर ना भी समझे कोई इन्सां, अहमियत उन वचनों की,

इंसान के लिए उनकी कीमत और मदद अपार है।

परमेश्वर के वचन हैं, कभी न बदलने वाले सत्य।

प्रभु दाता हैं जीवन के, बस वो ही रहनुमा हैं इन्सां के।

2

जो करते हैं ख़िलाफ़त और अपमान वचनों का,

उनके लिये परमेश्वर बस इतना कहते हैं:

वक्त और सच्चाइयां परमेश्वर की गवाह होंगी,

जो दिखलाएंगे वचन उनके हैं सत्य, राह और जीवन;

दिखलाएंगे कहा जो भी प्रभु ने सत्य है,

इसे ही इंसां को संजो लेना और मान लेना चाहिए।

परमेश्वर के वचन हैं, कभी न बदलने वाले सत्य।

प्रभु दाता हैं जीवन के, बस वो ही रहनुमा हैं इन्सां के।

3

प्रभु को मानते हैं जो, प्रभु चाहते हैं वो जानें:

वो इंसां जो ना स्वीकारें वचन उनके या

अपने कामों के ज़रिये ना करें उन्हें पूरा,

जो इन्सां ख़ोज ना पाये कोई मकसद,

या हो नाकाम पाने में उद्धार उनके वचनों में,

यही वो लोग हैं सारे, निंदा हुई जिनकी परमेश्वर के वचनों में।

परमेश्वर की मुक्ति से वो रह गये वंचित।

उनके लिये प्रभु का दण्ड कभी ज़्यादा दूर ना होगा।

परमेश्वर के वचन हैं, कभी न बदलने वाले सत्य।

प्रभु दाता हैं जीवन के, बस वो ही रहनुमा हैं इन्सां के।

परमेश्वर के वचन हैं, कभी न बदलने वाले सत्य।

प्रभु दाता हैं जीवन के, बस वो ही रहनुमा हैं इन्सां के।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'तुम लोगों को अपने कर्मों पर विचार करना चाहिए' से रूपांतरित

पिछला: 470 परमेश्वर के वचन : इंसान के जीने के इकलौते सिद्धान्त

अगला: 472 सत्य जीवन का सबसे ऊंचा सूत्र है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें