146 अन्यजाति के देशों में परमेश्वर का नाम फैलेगा

मानवता की विनयशीलता को बढ़ावा देना,

परमेश्वर के न्याय का उद्देश्य है;

मानव का रूपांतरण करना,

परमेश्वर की ताड़ना का उद्देश्य है।

परमेश्वर का काम अपने प्रबंधन के लिये है मगर,

कुछ भी ऐसा नहीं है जो इंसान के हित में ना हो।

परमेश्वर चाहता है, इस्राएल के परे की धरती,

इस्राएलवासियों की तरह आदेश माने,

बना सके उन्हें सच्चे मानव,

ताकि इस्राएल के परे की धरती पर,

पांव परमेश्वर के जम जाएं।

ये परमेश्वर का प्रबंधन है, ये परमेश्वर का प्रबंधन है।

अन्यजातियों की धरती पर, ये उसका काम है।

हैं बहुत से लोग जो आज,

परमेश्वर के प्रबंधन से अंजान हैं।

क्योंकि उनकी चिंताएं, उनकी इच्छाएं,

अपने भविष्य पर एकाग्र हैं।

चाहे कुछ भी बोले परमेश्वर, वो ना तो उसको,

और ना ही उसके काम को खोजते हैं।

इंसान तो बस सोचता है कल की धरती के विषय में।

इंसान तो बस सोचता है कल की धरती के विषय में।

गर यही चलता रहा,

तो कैसे परमेश्वर का काम फैलेगा?

कैसे दुनिया में सुसमाचार फैलेगा?

जान लो, जब परमेश्वर का काम फैलेगा,

तुम सब दूर-दूर तक बिखर जाओगे।

जिस तरह यहोवा ने इस्राएल पर किया,

उसी तरह परमेश्वर तुम लोगों पर प्रहार करेगा,

धरती पर सुसमाचार फैलेगा,

परमेश्वर का काम अन्यजातियों की धरती पर फैलेगा।

जवां हो या बुज़ुर्ग हो, सभी में परमेश्वर का नाम फैलेगा,

सभी जनजातियों के मुख से

परमेश्वर का जय जयकार निकलेगा।

आख़िरी वक्त में, अंतिम युग में,

अन्यजाति के देशों में परमेश्वर का नाम गूंजेगा।

अन्यजातियां देखकर परमेश्वर के काम को,

उसे सर्वशक्तिमान पुकारेंगी,

और उसके वचन सत्य होंगे एक दिन।

परमेश्वर लोगों को ये एहसास करा देगा,

वो महज़ इस्राएलियों का परमेश्वर नहीं है,

वो अन्यजाति के देशों का भी परमेश्वर है,

और उनका भी जिन्हें उसने शापित किया है।

दिखा देगा हर इंसान को, वो हर रचना का परमेश्वर है।

यही सबसे बड़ा है काम परमेश्वर का,

यही मकसद है उसके आख़िरी दिनों के काम का,

यही है काम जो अंतिम दिनों में वो करेगा,

यही है काम जो अंतिम दिनों में वो करेगा,

यही है काम जो अंतिम दिनों में वो करेगा,

यही है काम जो अंतिम दिनों में वो करेगा।

— 'वचन देह में प्रकट होता है' से रूपांतरित

पिछला: 145 परमेश्वर की बुद्धि, शैतान की साज़िशों का सामना करने में प्रकट होती है

अगला: 149 देहधारण के मायने

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें