14 प्रकट हुआ परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर

1

काम कर रहा है परमेश्वर अखिल विश्व में।

पूरब में जो शोर गरजता, शिथिल न होता है,

हिला रहा है सभी पंथ, सम्प्रदायों को।

ये परमेश्वर की वाणी जो, वर्तमान में ले आई है सबको।

प्रकट हुआ परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर।

प्रकट हुआ परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर।

उसकी वाणी जीत लेगी सबको

इस धारा में आकर वे उसके अधीन हो जायेंगे।

क्योंकि इस धरती की महिमा ईश्वर ने, बहुत पहले ही वापस ले ली।

पूरब से उसने वो महिमा फिर से जारी की है।

प्रकट हुआ परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर।

प्रकट हुआ परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर।

2

कौन नहीं चाहता देखे परमेश्वर की महिमा को?

कौन नहीं ऐसा जो उसकी राह देखे आतुरता से?

कौन नहीं है प्यासा, फिर से उसके दर्शन को?

कमी नहीं खलती है उसकी सुन्दरता की किसको?

कौन रोशनी की ओर न आना ही चाहेगा?

कौन कनान की सम्पदा को न देखेगा?

कौन मुक्तिदाता लौट आये ऐसा न चाहेगा?

कौन सर्वशक्तिमान का गुणगान न करना चाहेगा? गुणगान न करना चाहेगा?

प्रकट हुआ परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर।

प्रकट हुआ परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर।

परमेश्वर की वाणी पूरी धरती पर फैलानी है।

उसे बहुत से वचन कहने हैं अपने चुनिंदों से।

वो अखिल ब्रह्मांड से और मानवता से यूं बात करता है,

प्रबल गर्जना हिला देती ज्यों नदियों और पहाड़ों को।

यही वजह है वचन परमेश्वर के बनते मानव की पूंजी।

वचन परमेश्वर के परमप्रिय लगते हैं हर इक मानव को।

पूरब से पश्चिम को सीधी, चमकती है बिजली।

परमेश्वर के वचन का त्याग, करना लोग नहीं चाहते, करना लोग नहीं चाहते।

प्रकट हुआ परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर।

प्रकट हुआ परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर।

3

परमेश्वर के वचनों की थाह नहीं है, फिर भी सुख का सागर लाते हैं।

परमेश्वर के आगमन पर सब ख़ुश हैं, जैसे आने पर नव-शिशु के।

ईश्वर-वाणी सबको मोहित कर उसके सम्मुख लाती है।

परमेश्वर विधिवत आता है अब से इंसानों के बीच।

यही वजह है आराधना करने आ जाते हैं सारे जन।

परमेश्वर जो महिमा और वचन देता उसके कारण,

परमेश्वर-सम्मुख सब आते हैं, और पूर्वी बिजली को देखते हैं।

परमेश्वर उतर आया है पूरब में “ज़ैतून के पर्वत” पर।

बहुत समय से है धरती पर, “यहूदी का बेटा” न होकर।

वो पूरब की दामिनी है, क्योंकि जी उठा फिर से परमेश्वर।

गया छोड़कर मानव को अब फिर प्रकट हुआ महिमा लेकर।

परमेश्वर है वो जिसको पूजा था युग-युग पहले,

वो “शिशु” जिसको त्यागा था इस्राएलियों ने उस हालत में।

वो वर्तमान युग का वैभवशाली सर्वशक्तिमान परमेश्वर है! सर्वशक्तिमान परमेश्वर है!

प्रकट हुआ परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर।

प्रकट हुआ परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर।

4

उसकी चाहत तो बस इतना हासिल करना है:

सम्मुख आये जनमानस परमेश्वर के सिंहासन के,

देखे उसका मुख, उसके काम, और सुने वाणी उसकी।

यही अंत है, यही चरम है उसकी योजना का,

और प्रयोजन परमेश्वर के प्रबंधन का।

सभी राष्ट्र करते हैं पूजन और स्वीकार उसको।

करते सारे मानव विश्वास और हैं प्रजा उसकी, और हैं प्रजा उसकी।

प्रकट हुआ परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर।

प्रकट हुआ परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर।

प्रकट हुआ परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर।

प्रकट हुआ परमेश्वर जग के पूरब में महिमा लेकर।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'सात गर्जनाएँ गूँजती हैं— भविष्यवाणी करती हैं कि राज्य के सुसमाचार पूरे ब्रह्मांड में फैल जाएँगे' से रूपांतरित

पिछला: 13 परमेश्वर की महिमा पूर्व से चमकती है

अगला: 15 परमेश्वर है लौटा जीत के साथ

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें