713 स्वभाव में बदलाव के लक्षण

1 स्वभाव में बदलाव की एक विशेषता होती है। वो यह है कि, सत्य को स्वीकार करने और उन चीज़ों को मानने में सक्षम होना जो सही हैं और सत्य के अनुरूप हैं। चाहे कोई भी तुम्‍हें सुझाव दे—चाहे वे युवा हों या बूढ़े, चाहे तुम्‍हारी उनसे अच्छी तरह से पटती हो, चाहे तुम लोगों के बीच कोई शिकायत हो—जब तक कि वे कुछ ऐसा कहते हैं जो सही है, सत्य के अनुरूप है, और परमेश्वर के परिवार के कार्य के लिए फायदेमंद है, तब तक तुम इसे ग्रहण और स्वीकार कर सकते हो। तुम्‍हें किसी भी अन्य कारकों से प्रभावित नहीं होना चाहिए। यह उस विशेषता का पहला पहलू है। दूसरा यह है कि किसी समस्‍या का सामना होने पर सत्य की खोज करने में सक्षम होना। उदाहरण के लिए, तुम किसी नई समस्या का सामना करते हो जिसे कोई भी नहीं समझता है, तो तुम सत्य की तलाश कर सकते हो, यह देख सकते हो कि बातों को सत्य के सिद्धांतों के अनुरूप बनाने के लिए और परमेश्वर की अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए तुम्‍हें क्या करना चाहिए।

2 एक और विशेषता है परमेश्वर की इच्छा के बारे में मननशील होना। तुम्‍हें परमेश्वर की इच्छा के बारे में कैसे मननशील होना चाहिए यह इस बात पर निर्भर करता है कि तुम किस प्रकार अपने कर्तव्य को कर रहे हो और इस कर्तव्य में परमेश्वर की तुमसे क्या अपेक्षाएँ हैं। तुम्‍हें इस सिद्धांत को अच्‍छी तरह समझ लेना चाहिए। अपना कर्तव्‍य परमेश्‍वर की अपेक्षानुसार पूरा करना चाहिए, और इसे परमेश्‍वर को संतुष्‍ट करने के लिए करना चाहिए। तुम्‍हें परमेश्‍वर की इच्‍छा भी समझनी चाहिए, और तुम्‍हारे कर्तव्‍य का वांछित परिणाम क्‍या है, एवं तुम्‍हे ज़िम्‍मेदारी और आस्‍थापूर्ण रूप से कार्य करना चाहिए। ये सभी परमेश्‍वर की इच्‍छा के प्रति विचारशील होने के तरीके हैं। यदि तू यह नहीं जानता है कि जो तू कर रहा है, उसमें परमेश्वर की इच्छा पर कैसे मननशील हुआ जाए, तो उसे पूरा करने के लिए, और परमेश्वर को संतुष्ट करने के लिए तुझे कुछ खोज अवश्य करनी चाहिए। अगर आप इन तीन सिद्धांतों को अमल में ला सकें, आप उनके सहारे जिस तरह वास्तव में जी रहे हैं, उसे माप सकें, और अभ्यास के मार्ग को खोज सकें, तो फिर आप सैद्धांतिक तरीके से मामलों को संभाल रहे होंगे। चाहे आपका सामना जिस किसी भी बात से हो, या चाहे आपको जिस किसी भी समस्या से निपटना पड़ रहा हो, आपको हमेशा तलाश करनी चाहिये कि आपको किन सिद्धांतों के अनुसार अभ्यास करना चाहिए, उनमें से प्रत्येक में क्या विवरण शामिल हैं, उन्हें अमल में कैसे लाया जाये ताकि आप सिद्धांतों का उल्लंघन न करें। एक बार जब आप में इन बातों की स्पष्ट समझ होगी, तो आप स्वाभाविक रूप से सत्य पर अमल कर पाएँगे।

— "मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'केवल सत्य को अभ्यास में ला कर ही तू भ्रष्ट स्वभाव के बंधनों को त्याग सकता है' से रूपांतरित

पिछला: 712 जिन लोगों का स्वभाव बदल गया है उनकी अभिव्यक्तियाँ

अगला: 714 स्वभाव-संबंधी बदलाव हासिल कर चुके लोग इंसान के समान जी सकते हैं

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें