441 परमेश्वर के साथ सामान्य रिश्ता कैसे स्थापित करें

1

परमेश्वर से सामान्य रिश्ते की

शुरुआत होती है परमेश्वर के सामने अपना दिल करके शांत।

अगर तुम्हें समझ न आए परमेश्वर की इच्छा,

तो भी पूरे करो उसके प्रति अपने कर्तव्य।

परमेश्वर की इच्छा प्रकट होने और अभ्यास में लाने के लिए

इंतज़ार करने में बहुत देर नहीं हुई।

जब परमेश्वर से तुम्हारा रिश्ता होगा सही,

तो अपने आस-पास के लोगों के साथ भी रिश्ता होगा सही।

परमेश्वर से सामान्य रिश्ता होता है संदेह से मुक्त,

परमेश्वर के कार्य का करता है पालन।

सही इरादों के साथ आओ सिंहासन के सामने, ख़ुद को रख दो अलग।

परमेश्वर की खोज करो स्वीकार, परमेश्वर के सामने हो समर्पित,

उसके परिवार के हितों को रखो आगे।

अगर तुम करते हो ऐसे अभ्यास,

तो परमेश्वर से तुम्हारा रिश्ता होगा सामान्य। ओह, सामान्य। ओह, सामान्य।

2

परमेश्वर के वचन खाओ-पीओ, यही है वह चट्टान जिस पर सब कुछ है बना।

परमेश्वर की इच्छा के अनुसार करो काम, विरोध न करो, रुकावट न डालो।

ऐसी बातें न करो या बोलो,

जो पहुंचाते नहीं हैं लाभ तुम्हारे भाइयों और बहनों को।

शर्मसारी के काम न कर, न्यायी और ईमानदार बन,

सब कुछ परमेश्वर के योग्य बना।

परमेश्वर से सामान्य रिश्ता होता है संदेह से मुक्त,

परमेश्वर के कार्य का करता है पालन।

सही इरादों के साथ आओ सिंहासन के सामने, ख़ुद को रख दो अलग।

परमेश्वर की खोज करो स्वीकार, परमेश्वर के सामने हो समर्पित,

उसके परिवार के हितों को रखो आगे।

अगर तुम करते हो ऐसे अभ्यास,

तो परमेश्वर से तुम्हारा रिश्ता होगा सामान्य। ओह, सामान्य। ओह, सामान्य।

3

हालांकि देह है कमज़ोर, किसी भी नुकसान को अनदेखा करते हुए

तुम सेवा कर सकते हो परमेश्वर की ऐसे जैसे है वह सबसे महत्वपूर्ण।

अपने लिए लालसा न करो, धार्मिकता में कार्य करो।

अपने लिए लालसा न करो, धार्मिकता में कार्य करो।

(सामान्य। सामान्य। सामान्य। सामान्य।)

परमेश्वर से सामान्य रिश्ता होता है संदेह से मुक्त,

परमेश्वर के कार्य का करता है पालन।

सही इरादों के साथ आओ सिंहासन के सामने, ख़ुद को रख दो अलग।

परमेश्वर की खोज करो स्वीकार, परमेश्वर के सामने हो समर्पित,

उसके परिवार के हितों को रखो आगे।

अगर तुम करते हो ऐसे अभ्यास,

तो परमेश्वर से तुम्हारा रिश्ता होगा सामान्य। ओह, सामान्य। ओह, सामान्य।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर के साथ तुम्हारा संबंध कैसा है?' से रूपांतरित

पिछला: 440 एक सही आध्यात्मिक जीवन हमेशा बनाये रखना चाहिए

अगला: 442 परमेश्वर के साथ सामान्य संबंध रखना महत्वपूर्ण है

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें