प्रतिदिन की रोटी

आप कितनी धार्मिक परम्पराओं को मानते हैं? कितनी बार आपने परमेश्वर के वचन का विरोध किया और अपने-अपने मार्गों को अपनाया? कितनी बार आपने परमेश्वर के वचनों का आचरण किया क्योंकि आपमें उसके बोझ का एहसास है और उसकी इच्छा पूरी करना चाहते हो? परमेश्वर के वचनों को समझें और उसको निभाएं। करनी और कथनी के प्रति सिद्धांतवादी बनें, यह नियम में बंधना नहीं है या कुड़कुड़ाकर बस किसी तरह पालन करना है। अपितु, यह एक सत्य पर चलना है और परमेश्वर के वचन से जीवन व्यतीत करना है। मात्र इस प्रकार का चाल चलन ही परमेश्वर को संतुष्ट करता है। कोई परम्परा जो परमेश्वर को प्रसन्न करे, वह कोई नियम नहीं है बल्कि सत्य पर चलना है।

अगला: 

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2023 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें