169 भ्रष्ट मानवता को आवश्यकता है देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की

I

दूषित मानवता को चाहिये देहधारी परमेश्वर का कार्य।

दूषित मानवता को चाहिये देहधारी परमेश्वर का कार्य।

देह बना परमेश्वर क्योंकि, शैतान की रूह नहीं है लक्ष्य उसका,

ना अन्य कोई चीज़ है, बस मानव है लक्ष्य उसके काम का।

मानव की देह को, दूषित किया शैतान ने,

इसी वजह से लक्ष्य बना मानव, परमेश्वर के काम का।

मानव ही है मुक्ति-स्थल परमेश्वर का।

मानव ही है मुक्ति-स्थल परमेश्वर का।

मानव नश्वर जीव है, बस देह है।

परमेश्वर ही उसकी रक्षा कर सकता है।

अपने कामों की ख़ातिर, उत्तम परिणामों की ख़ातिर,

परमेश्वर को, मानव बनकर आना होगा,

मानव चूंकि देह है, पापों पर वश नहीं है उसका।

उसकी ख़ातिर परमेश्वर को, देह धारण करना होगा,

मानव छूट नहीं सकता ख़ुद, देह की इन ज़ंजीरों से।

उसकी ख़ातिर परमेश्वर को, देह धारण करना होगा।

उसकी ख़ातिर परमेश्वर को, देह धारण करना होगा।


II

मानव-देह को कर दिया है दूषित शैतान ने,

बहुत अहित हुआ है देह का, और बना अज्ञानी है।

मानव देह में परमेश्वर आता है,

क्योंकि उसके उद्धार का लक्ष्य है मानव,

और मानव-तन के प्रयोग से, शैतान, डालता है परमेश्वर के कामों में व्यवधान।

मानव-विजय के द्वारा परमेश्वर शैतान से संग्राम करता है,

संग्राम करता है, संग्राम करता है,

साथ ही वो मानव को बचाता भी है।

अपना काम पूरा करने को, परमेश्वर को,

मानव देह में आना होगा, आना होगा।

कायम रहकर मानव देह में शैतान ने,

मानव देह को दूषित कर डाला परमेश्वर को उसे पराजित करना होगा।

शैतान से संग्राम करने और मानव की रक्षा करने,

परमेश्वर को इस धरती पर, मानव बनकर आना होगा।

यही एक है असली काम। यही एक है असली काम।


III

परमेश्वर मानव बनकर, जब करता है काम

तो सच में वो शैतान से करता है संग्राम।

वो देह में रहकर आत्मिक-जगत का काम करता है,

और आत्मिक-जगत में अपने सारे काम को धरती पर साकार करता है।

परमेश्वर जिस मानव को विजय करता है, वो परमेश्वर की नहीं मानता,

जबकि इंसानों में होता है शैतान का रूप पराजित,

और अंत में जिसे बचाया जाता है, वो मानव है, वो मानव है।

बड़ा ज़रूरी था परमेश्वर इंसान बने,

शैतान से संग्राम करने,

जीव का चोला पहने और जीव के चोले में, विद्रोही मानव को जीते।

बड़ा ज़रूरी था परमेश्वर इंसान बने, और जीव का चोला पहने,

बचाने उस मानव को, जिसका चोला वैसा ही है,

जिसका अहित किया है शैतान ने।

मानव परमेश्वर का बैरी है, परमेश्वर को उसे जीतना होगा।

मानव लक्ष्य है परमेश्वर के उद्धार का;

परमेश्वर को देह लेकर, मानव बनकर आना होगा।


IV

इसी तरह परमेश्वर का काम आसां होगा।

परमेश्वर शैतान को हरा सकता है,

परमेश्वर मानव को जीत सकता है,

परमेश्वर मानव को बचा सकता है।

परमेश्वर मानव को बचा सकता है।

परमेश्वर मानव को बचा सकता है।


"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला: 168 अंत के दिनों का मसीह राज्य का प्रवेश द्वार है

अगला: 170 परमेश्वर के दोनों देहधारणों की ज़रूरत है मानवजाति को

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर धर्मोपदेश और संगति अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें