394 परमेश्वर के लिए तुम्हारा विश्वास हो सबसे ऊँचा

1

गर चाहते हो तुम करना यक़ीन,

गर पाना चाहते हो तुम परमेश्वर को और उसकी संतुष्टि,

गर तुम दर्द न सहो और मेहनत न करो,

तुम इन चीज़ों को प्राप्त नहीं कर सकोगे।

तुम सब ने सुने हैं बहुत प्रचार।

भले ही तुमने सुना है, इसका ये अर्थ नहीं है कि वचन तुम्हारे हैं।

तुम्हें उनको आत्मसात और परिवर्तित करना चाहिए

ऐसी चीज़ में जो तुम से संबन्धित हो।

तुम केवल परमेश्वर में विश्वास से प्राप्त करोगे,

गर तुम इसे मानो जीवन की महानतम चीज़ की तरह,

जो तुम खाते या पीते हो, जो तुम पहनते हो,

या धरती पर किसी भी चीज़ से भी ज़्यादा महत्वपूर्ण।

2

इन वचनों को जीवन में लागू करो और अपने अस्तित्व में लाओ,

इन्हें अनुमति दो तुम्हें जीने में राह दिखाने को,

तुम्हारे जीवन में अर्थ और वास्तविक मूल्य लाने को,

तब सार्थक होगा तुम्हारा इन वचनों को सुनना।

गर वचन परमेश्वर के नहीं लाते हैं तुम्हारे जीवन में सुधार और महत्व,

तो तुम्हारा सुनने का कोई मतलब नहीं है।

ओ, तुम केवल परमेश्वर में विश्वास से प्राप्त करोगे,

गर तुम इसे मानो जीवन की महानतम चीज़ की तरह,

जो तुम खाते या पीते हो, जो तुम पहनते हो,

या धरती पर किसी भी चीज़ से भी ज़्यादा महत्वपूर्ण।

3

गर तुम मानते हो जब समय है तुम्हारे पास,

असमर्थ हो अपना पूरा ध्यान विश्वास में देने में,

यदि तुम केवल सफल होने को ऐसा काम करते हो,

तो तुम्हें प्राप्त नहीं होगा कुछ भी, ओ, कुछ भी नहीं।

ओ, तुम केवल परमेश्वर में विश्वास से प्राप्त करोगे,

गर तुम इसे मानो जीवन की महानतम चीज़ की तरह,

जो तुम खाते या पीते हो, जो तुम पहनते हो,

या धरती पर किसी भी चीज़ से भी ज़्यादा महत्वपूर्ण, हाँ।

तुम केवल परमेश्वर में विश्वास से प्राप्त करोगे,

गर तुम इसे मानो जीवन की महानतम चीज़ की तरह,

जो तुम खाते या पीते हो, जो तुम पहनते हो,

या धरती पर किसी भी चीज़ से भी ज़्यादा महत्वपूर्ण,

या धरती पर किसी भी चीज़ से भी ज़्यादा महत्वपूर्ण,

या धरती पर किसी भी चीज़ से भी ज़्यादा महत्वपूर्ण,

सबसे ज़्यादा महत्वपूर्ण।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है X' से रूपांतरित

पिछला: 393 अपने विश्वास में उस मार्ग का अनुसरण करो जिस पर पवित्र आत्मा अगुआई करता है

अगला: 395 सच्चे विश्वासी की ज़िम्मेदारियाँ

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें