73 देखें कौन बेहतर गवाही देता है परमेश्वर की

1

प्रेम है मुझे तुम से सर्वशक्तिमान परमेश्वर।

मैं गाता हूँ तुम्हारी स्तुति में,

तुम्हारे लिये सर्वशक्तिमान परमेश्वर,

मैं नाचता हूँ हर दिन खुशी में।

ईश्वर के उत्कर्ष और कृपा से,

उसके सिंहासन के सामने हम उन्नत होते।

ईश्वर की स्तुति हम करते हैं,

अपने वचनों से वह हमारा दिल जीतता है।

नाचो ख़ुशी से भाइयो-बहनो,

नाचो ख़ुशी से।

स्तुति-गान करो ख़ुशी से।

ईश्वर के लिये बेपनाह प्यार मेरा,

प्रेरित करता है मुझे इस तरह नाचने के लिये।

2

खाता-पीता हूँ,

आनंद लेता हूँ उसके वचनों का,

मैं ईश्वर के रूबरू आज आकर।

न्याय उसका स्वीकार कर,

मैं शुद्ध हो रहा हूँ,

मैं ख़ुश हूँ इंसान की तरह जीकर।

ईश्वर का न्याय है उसका सच्चा प्रेम

इम्तहान असल में उसके आशीष ही हैं।

ईश्वर ने मुझे नया जीवन दिया है।

स्तुति करूँगा सदा ईश्वर की मैं।

नाचो ख़ुशी से भाइयो-बहनो,

नाचो ख़ुशी से।

स्तुति-गान करो ख़ुशी से।

ईश्वर के लिये बेपनाह प्यार मेरा,

प्रेरित करता है मुझे इस तरह नाचने के लिये।

3

ईश्वर के वचनों में महान अधिकार है।

मुश्किलों में वो हमें पार लगाते हैं।

वो हमेशा राह दिखाते हैं, और बचाते हमें।

दयावान और प्रिय लगता ईश्वर हमें।

हों भले ही कितने भी इम्तहान,

हर दिन हम ईश्वर को प्रेम करेंगे।

मुश्किलों में पूर्ण होती आस्था हमारी।

बुद्धिमान है, ईश्वर, शक्तिमान है।

नाचो ख़ुशी से भाइयो-बहनो,

नाचो ख़ुशी से।

स्तुति-गान करो ख़ुशी से।

ईश्वर के लिये बेपनाह प्यार मेरा,

प्रेरित करता है मुझे इस तरह नाचने के लिये।

4

बयाँ कर नहीं सकते ईश्वर के प्रेम की महानता।

स्तुति करेंगे सदा हम ईश्वर की।

एक मन के साथ साक्षी हैं परमेश्वर के हम।

इच्छा पूरी करेंगे हम ईश्वर की।

हम अपना फ़र्ज़ निभायेंगे वफ़ादारी से।

ताकि लौटा सकें हम ईश्वर का प्रेम।

पाता है सिय्योन में महिमा ईश्वर।

दिल हमारा भरा है आनन्द से।

नाचो ख़ुशी से भाइयो-बहनो,

नाचो ख़ुशी से।

स्तुति-गान करो ख़ुशी से।

ईश्वर के लिये बेपनाह प्यार मेरा,

प्रेरित करता है मुझे इस तरह नाचने के लिये।

पिछला: 72 परमेश्वर के लिये प्रेम-गीत सदा गाते रहेंगे हम

अगला: 74 ओ मेरे प्रिय, मैं तलाश में हूं तुम्हारी

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें