479 परमेश्वर के वचनों के प्रति इंसान का जो रवैया होना चाहिए

1

मैं बोलता हूँ सत्य वचन

कोई भी हो तुम चाहे, वचन हैं सारी इंसानियत के लिए।

सत्य के सेवक बनो।

तुम्हें अपने जीवन में सत्य से अधिक वास्ता नहीं,

मैं साफ़ कहता हूँ, सत्य के सेवक बनो।

ये तुम्हें मेरी चेतावनी है। ये तुम्हें मेरी चेतावनी है।

सत्य की नज़र से देखो मेरे वचनों को, ध्यान से, ईमानदारी से देखो।

किसी वचन या सत्य को अनदेखा न करो। अनादर से न देखो मेरे वचनों को।

2

दुष्टता को त्याग दो, बदसूरती को त्याग दो, इनके दास न बनो।

सत्य के सेवक बनो।

सत्य को न रौंदो, ईश्वर के घर के किसी कोने को न गंदा करो।

सत्य के सेवक बनो।

ये तुम्हें मेरी चेतावनी है। ये तुम्हें मेरी चेतावनी है।

सत्य की नज़र से देखो मेरे वचनों को, ध्यान से, ईमानदारी से देखो।

किसी वचन या सत्य को अनदेखा न करो। अनादर से न देखो मेरे वचनों को।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'तीन चेतावनियाँ' से रूपांतरित

पिछला: 478 परमेश्वर के वचनों के प्रति कैसा दृष्टिकोण अपनायें

अगला: 480 जीवन को परमेश्वर के वचनों से भरो

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें