978 परमेश्वर की इंसान को चेतावनी

1

बहुत-सी इच्छाएँ हैं परमेश्वर की।

उसकी इच्छा है, तू आचरण अपना बेहतर रख सके,

अपने फ़र्ज़ में वफ़ादार रहे,

सत्य और इंसानियत हो तुझमें, इंसानियत हो तुझमें।

बन सके एक ऐसा इंसान, जो परमेश्वर की ख़ातिर अपना सबकुछ दे सके,

अपनी ज़िंदगी के अलावा और भी बहुत कुछ दे सके, बहुत कुछ दे सके।

2

पैदा होती हैं ये सारी उम्मीदें तेरी कमियों से, भ्रष्टता से और नाफ़रमानी से।

अपने उल्लंघनों की पहले जाँच करनी चाहिये तुझे।

यहीं से तू पहले शुरुआत कर।

जो अनुरूप नहीं हैं सच्चाई के,

अपने उन तमाम विचारों-व्यवहारों की जाँच कर।

सीधी-सादी हैं अपेक्षाएं परमेश्वर की,

मगर इतना ही नहीं है, जो वो चाहता है तुझसे।

न उपहास कर, न तुच्छ समझ परमेश्वर की अपेक्षाओं को,

संजीदा बन, ख़ारिज न कर तू इस काम को।

3

आगे, हर उल्लंघन, हर विद्रोह के लिये,

हर एक से निपटे जो, ऐसे सत्य की तलाश कर,

अपने विद्रोही ख़्यालों, बर्ताव और उल्लंघन की जगह,

सच्चाई का अभ्यास कर।

तीसरा, ज़िंदगी सच्चाई से जी, चालाकी या कपट न कर।

इन तीन बातों को अगर पूरा करता है तू,

जिसके सपने साकार होते हैं, ऐसा ख़ुशकिस्मत इंसान है तू।

4

शायद इन तीन शर्तों को संजीदगी से ले या लापरवाही से तू,

ख़ैर, परमेश्वर का प्रयोजन है कि तू

साकार करे अपने सपनों को और अमल में लाए अपने आदर्शों को तू, आदर्शों को तू।

तुझे बेवकूफ़ बनाना मकसद नहीं उसका।

अपने विचारों, योजनाओं, हिसाब-किताब को, दरकिनार कर दे तू।

परमेश्वर की माँगों को संजीदगी से लेना शुरु कर दे तू।

वरना, अपने काम का वो अंत कर देगा, भस्म करके तमाम इंसानों को।

क्योंकि कर नहीं सकते प्रवेश परमेश्वर के राज्य में,

या अगले युग में शैतान की तर्ज़ पर, बुराई में लिप्त इंसान हैं जो।

आधिकारिक तौर पर कहता है तुझसे परमेश्वर,

परवाह नहीं उसे, कितनी मेहनत से

या कितने बेहतर ढंग से काम करता है तू,

कितना काबिल या नामवर है तू,

कितनी बारीकी से उसका अनुसरण करता है तू,

अपनी प्रवृत्ति में कितना उन्नत है तू,

परमेश्वर की माँगों को अगर पूरा नहीं करता,

तो उसकी प्रशंसा कभी पा नहीं सकता तू।

सीधी-सादी हैं अपेक्षाएं परमेश्वर की,

मगर इतना ही नहीं है, जो वो चाहता है तुझसे।

न उपहास कर, न तुच्छ समझ परमेश्वर की अपेक्षाओं को,

संजीदा बन, ख़ारिज न कर तू इस काम को,

तू इस काम को, तू इस काम को।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'अपराध मनुष्य को नरक में ले जाएँगे' से रूपांतरित

पिछला: 977 तुम्हें परमेश्वर द्वारा अनुमोदित होने का प्रयास करना चाहिए

अगला: 979 परमेश्वर मनुष्य के कर्मों के बारे में क्या सोचता है

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें