250 परमेश्वर का प्रेम कितना सच्चा है

1

हे परमेश्वर! तूने देहधारण किया, दीन बनकर, गुप्त रहकर, मानव जाति को बचाने के लिए सत्य व्यक्त किया, 

फिर भी मैंने तुझे न जाना और अपनी अवधारणाओं के आधार पर तुरंत तेरे बारे में निष्कर्ष निकाला। मैं कितना मूर्ख और अंधा था! 

हे परमेश्वर! मानव के उद्धार के लिए तूने भयंकर शर्मिंदगी उठायी, फिर भी मैं तेरी इच्छा से अनजान रहा।

हे परमेश्वर! तूने सत्य व्यक्त किया और इंसान को जीवन प्रदान किया, फिर भी मैंने न खोज की न जांच की।

मैं धार्मिक अवधारणा के चंगुल में था; मैं आंख मूंदकर धर्म के पादरियों की आराधना करता रहा और मनुष्य का अनुसरण करता रहा। 

तूने सब देखा और उन बातों को दिल से लगा लिया; तू निरंतर बोलता रहा, तेरे वचन मेरे दिल को पुकारते रहे।

मैं तुझ में विश्वास भी करता रहा और तेरी आराधना भी करता रहा, फिर भी मैं तेरी वाणी को पहचान क्यों नहीं पाया?

मैं तुझ में विश्वास तो करता था, मगर फिर भी मैं तुझे दरकिनार करके इंसान का अनुसरण क्यों करता था? 

तू मेरे प्रति धैर्यवान और सहिष्णुता था, मेरे नींद से जागने की प्रतीक्षा कर रहा था।

आखिरकार, तेरे वचनों ने मुझे जगा दिया; तेरी वाणी पहचान कर मैं तेरे पास लौट आया।

2 

हे परमेश्वर! तेरे न्याय के वचनों ने मुझे जीत लिया और मैं तेरे आगे झुक गया।

तेरे न्याय और ताड़ना के वचनों के मध्य, मैंने अपनी भयंकर भ्रष्टता को देखा।

हे परमेश्वर! तूने मानवजाति के उद्धार के लिए निस्वार्थ भाव से त्याग किया, जबकि मेरा आत्म-त्याग और व्यय केवल आशीष पाने के लिए था।

हे परमेश्वर! तू सच्चे दिल से चाहता था कि मनुष्य सत्य की खोज करे, जबकि मैं केवल हैसियत और प्रतिष्ठा के पीछे भाग रहा था।

मैं तुझ में विश्वास करता था, फिर भी मुझे पता न था कि सत्य कितना कीमती है; मैं अपनी भ्रष्टता और शैतानी स्वभाव में ही जीता रहा।

मेरा स्वभाव अहंकारी, कपटी और घिनौना था; मैं सचमुच तेरे सामने रहने लायक न था।

तेरे वचनों के प्रकाशन और न्याय के कारण मुझे ज्ञान हुआ और अपने आप से घृणा हो गयी।

तेरे न्याय, परीक्षणों और शुद्धीकरण के कारण मैं अपनी भ्रष्टता से मुक्त हुआ और एक नई शुरुआत की।

मैं भाग्यशाली हूं कि मैंने तेरे न्याय और ताड़ना का आनंद लिया; मेरा भ्रष्ट स्वभाव शुद्ध हो गया है।

सचमुच, यह तेरा परम प्रेम और उद्धार है। मैं अपना पूरा जीवन तुझे तेरे प्रेम का प्रतिफल देने में खपा दूंगा। 

पिछला: 249 परमेश्वर ने मुझे बहुत प्रेम दिया है

अगला: 251 परमेश्वर से प्रेम करने के अवसर को संजोकर रखो

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें