835 परमेश्वर उन्हीं को पूर्ण बनाता है जो प्रेम करते हैं उसे

1

गर चाहते हो पूर्ण बनाए तुम लोगों को परमेश्वर,

तो अच्छी हो या बुरी, हर चीज़ का अब अनुभव लेना सीखो।

जिन चीज़ों का भी सामना करो, उनमें प्रबुद्ध होना सीखो।

लाभ होना चाहिये इससे तुम्हें।

गर चाहते हो पूर्ण बनाए तुम लोगों को परमेश्वर,

तो देखना ये कभी निष्क्रिय न बना दे तुम्हें।

परमेश्वर की तरफ़ खड़े हो जाओ, और इस पर विचार करो।

इसे इंसानी नज़रिये से न देखो।

गर चाहते हो पूर्ण बनाए तुम लोगों को परमेश्वर,

तो अनुभव के इस तरीके को आज़माकर देखो,

हो जाएगा दिल बोझिल तुम्हारा जीवन के लिये,

रहोगे तुम सदा उसकी मौजूदगी की रोशनी में,

भटकोगे नहीं आसानी से तुम कभी अपने अभ्यास में।

खुल जाएँगी विशाल संभावनाएँ तुम लोगों के लिये।

तुम लोगों को परमेश्वर से अगर सच्चा प्रेम है,

तो उसके द्वारा तुम्हें पूर्ण किये जाने के बहुत से अवसर हैं।

गर परमेश्वर द्वारा प्राप्त और पूर्ण किये जाने के,

उसकी आशीष और विरासत को पाने के,

तुम्हारे इरादे अटल हैं तो परमेश्वर द्वारा पूर्ण किये जाने की अनेक संभावनाएँ हैं।

2

गर चाहते हो पूर्ण बनाए तुम लोगों को परमेश्वर,

तो केवल संकल्प होना कभी काफ़ी नहीं है।

अभ्यास में गलतियों से बचने के लिये, ज्ञान भी होना चाहिये तुम्हें।

ज़्यादातर लोगों ने महज़ परमेश्वर के अनुग्रह के

आनंद तक ही सीमित कर लिया है ख़ुद को।

वो लोग ऊँचे प्रकटन नहीं, सिर्फ़ थोड़े-से दैहिक सुख ही

पाना चाहते हैं परमेश्वर से।

ये दिखाता है दिल अभी उनका बाहर ही है।

पूर्ण किये जाने की उन्हें परवाह नहीं है।

जीवन उनका पतनशील और अशिष्ट है।

वो एकदम थोड़े में गुज़ारा करते हैं, भटकते हैं, बेमकसद अस्तित्व लेकर,

उन्हें जीवन में ज़रा-सा भी बदलाव हासिल नहीं है।

कुछ ही हैं जो अधिक समृद्धदायक चीज़ों को पाने के लिये,

उसके घर में अधिक ऊँचा वैभव पाने वाला बनने

और उसका अधिक आशीष पाने के लिये,

जिन चीज़ों का वे सामना करते हैं उनमें,

परमेश्वर के वचन में प्रवेश की खोज करते हैं।

हर चीज़ में पूर्ण और प्रबुद्ध होने की खोज करते हो अगर,

तो तुम लायक और पात्र हो परमेश्वर द्वारा पूर्ण किये जाने के लिये।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'प्रतिज्ञाएँ उनके लिए जो पूर्ण बनाए जा चुके हैं' से रूपांतरित

पिछला: 834 परमेश्वर उन्हें पूर्ण बनाता है, जो उसे सच में प्रेम करते हैं

अगला: 836 जो पूर्ण किए गए हैं उनके पास क्या है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें