133 हर युग में नया कार्य करता है परमेश्वर

1

बदलती नहीं कभी बुद्धि परमेश्वर की,

बदलता नहीं कभी चमत्कार परमेश्वर का,

बदलती नहीं कभी धार्मिकता परमेश्वर की,

बदलता नहीं कभी प्रताप परमेश्वर का।

बदलता नहीं कभी सार-तत्व परमेश्वर का,

बदलता नहीं कभी स्वरुप परमेश्वर का,

और कार्य उसका आगे बढ़ रहा है, गहरा हो रहा है;

कभी पुराना नहीं होता, सदा नया रहता है परमेश्वर।

नया नाम, नया काम, नई इच्छा, नया स्वभाव होता है हर युग में।

नया नाम, नया काम, नई इच्छा, नया स्वभाव होता है हर युग में।

2

लोग अगर न देख पाए इस स्वभाव को,

तो चढ़ा देंगे सूली पर, सीमांकित कर देंगे परमेश्वर को!

कार्य परमेश्वर का नया होता है सदा, कभी पुराना नहीं होता,

मगर स्वरूप परमेश्वर का कभी परिवर्तित नहीं होता।

परिभाषित कर नहीं सकते तुम गतिहीन भाषा में,

6,000 साल परमेश्वर के काम के।

जितना समझते हो तुम उतना सरल नहीं है परमेश्वर,

युगयुगांतर तक चलता है काम उसका।

यहोवा से यीशु बदल गया नाम उसका।

युगयुगान्तर में देखो बदल गया काम उसका!

नया नाम, नया काम, नई इच्छा, नया स्वभाव होता है हर युग में।

3

अग्रसर हो रहा है इतिहास, और आगे बढ़ रहा है।

6,000 साल की योजना का अंत करने,

काम परमेश्वर का सदा आगे बढ़ रहा है।

मगर अभी भी हर दिन, हर वर्ष, करने के लिये है नया काम।

नए मार्ग, नया काल, नई चीज़ें और ज़्यादा बड़े काम।

अटका नहीं है परमेश्वर पुराने तरीकों पर,

सदा अविरल चल रहा है नया काम।

नया नाम, नया काम, नई इच्छा, नया स्वभाव होता है हर युग में।

नया नाम, नया काम, नई इच्छा, नया स्वभाव होता है हर युग में।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर के कार्य का दर्शन (3)' से रूपांतरित

पिछला: 132 परमेश्वर का कार्य और वचन इंसान को जीवन देते हैं

अगला: 134 परमेश्वर का सार अपरिवर्तनीय है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें