77 सबसे प्यारे सर्वशक्तिमान परमेश्वर

1

सबसे प्यारे सर्वशक्तिमान परमेश्वर,

व्यवहारिक परमेश्वर!

आये हो तुम स्वर्ग से धरती पर, देहधारण कर।

रहते हो इंसानों के संग,

(तुम्हें) जान कभी ना पाया कोई।

दीन बन के, छुपकर रहते हो, वचन कहते हो,

मार्ग अनंत जीवन का लाते हो।

इंसाँ के उद्धार की ख़ातिर,

कष्ट और अपमान सहते हो।

इंसान को अपना जीवन देते हो,

तुम हमें बहुत प्यारे लगते हो।

सबसे प्यारे सर्वशक्तिमान परमेश्वर!

करेंगे तुम्हें हम प्यार सदा,

तुम सबसे प्यारे हो धरती पर।

2

सबसे प्यारे सर्वशक्तिमान परमेश्वर,

व्यवहारिक परमेश्वर!

दिल और प्रेम तुम्हारे जैसा मिल नहीं सकता दुनिया में।

न्याय करते, ताड़ना देते तुम इंसानों को,

हर तरह से इम्तहान लेते हो, शुद्ध उन्हें करते हो।

अपने कार्य और वचनों से तुम शुद्ध करते,

बचाते हो इंसानों को।

पूरा सत्य हमें देते हो,

हम पर अपना सारा प्यार लुटा देते हो।

प्रेम और न्याय ने तुम्हारे,

जीत लिया है हृदय हमारा पूरी तरह से।

सबसे प्यारे सर्वशक्तिमान परमेश्वर!

करेंगे तुम्हें हम प्यार सदा,

तुम सबसे प्यारे हो धरती पर।

3

सबसे प्यारे सर्वशक्तिमान परमेश्वर,

व्यवहारिक परमेश्वर!

दूर हो रही है तुम्हारे न्याय से भ्रष्टता हमारी।

समझते हैं हम बुद्धि और सर्वशक्तिमत्ता तुम्हारी,

जानते हैं धार्मिकता, पवित्रता तुम्हारी।

अनुभव करते हम प्रेम तुम्हारा,

सच्चा है ये, असली है ये।

हमें बचाने की ख़ातिर, इतनी बड़ी कीमत अदा करते हो तुम।

हर तरह से प्यारे हो तुम,

कैसे भला जुदा हो सकतें हैं तुम से हम कभी।

सबसे प्यारे सर्वशक्तिमान परमेश्वर!

करेंगे तुम्हें हम प्यार सदा,

तुम सबसे प्यारे हो धरती पर।

पिछला: 76 परमेश्वर के प्रति मेरा प्रेमपूर्ण लगाव

अगला: 78 हमारा प्यारा

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें