196 दो देहधारण देह में ईश्वर के कार्य को पूरा करते हैं

अपने पहले देहधारण में ईश्वर ने काम पूरा न किया;

उसने सिर्फ एक ही चरण किया, जो देह में करना जरूरी था।

1

देहधारण का काम पूरा करने, ईश्वर फिर देह में लौटा है,

वो देह की सामान्यता और वास्तविकता को जीता है,

आम देह में ईश-वचनों को प्रकट करते हुए,

देहधारण का काम पूरा करता है।

दूसरा देहधारण सार में पहले जैसा है,

बस ज्यादा वास्तविक और ज्यादा सामान्य है।

विजय के कार्य में देह में पूरा ईश-कार्य पूर्ण हो जाएगा।

छुटकारे का काम तो बस शुरुआत थी देहधारण के काम की;

विजय-कार्य करने वाला देह देहधारण का काम पूरा करेगा।

2

यीशु का देह पाप-बलि बनाया गया

जब सूली पर चढ़ाकर उसका बलिदान किया गया।

आम इंसानी देह से, उसने हराया शैतान को,

और इंसान को सूली से बचाया।

नए देहधारण में पूरे देह से

वो विजय-कार्य करता है, और शैतान पर विजय पाता है।

सिर्फ सामान्य, वास्तविक देह पूरा कर सके ये काम,

मजबूत गवाही के साथ।

विजय के कार्य में देह में पूरा ईश-कार्य पूर्ण हो जाएगा।

छुटकारे का काम तो बस शुरुआत थी देहधारण के काम की;

विजय-कार्य करने वाला देह देहधारण का काम पूरा करेगा।

3

इस देहधारी ईश्वर की सेवकाई में

आत्मा का कार्य साकार होता है देह में।

देह का कर्तव्य है बोलकर

इंसान को जीतना, प्रकट और पूर्ण करना,

और उसे पूरी तरह अलग कर देना।

विजय के कार्य में देह में पूरा ईश-कार्य पूर्ण हो जाएगा।

छुटकारे का काम तो बस शुरुआत थी देहधारण के काम की;

विजय-कार्य करने वाला देह देहधारण का काम पूरा करेगा।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर द्वारा धारण किये गए देह का सार' से रूपांतरित

पिछला: 195 क्या परमेश्वर उतना ही सरल है जितना तुम कहते हो?

अगला: 197 इंसान के उद्धार के लिये हैं परमेश्वर के दो देहधारण

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें