7 सर्वशक्तिमान परमेश्वर का पवित्र आध्यात्मिक देह प्रकट हो चुका है

1

प्रकट कर दिया है अपना महिमामय देह,

सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने सम्मुख सबके।

हो चुका है प्रकट उसका पवित्र देह;

स्वयं परमेश्वर है वो: पूर्ण सच्चा परमेश्वर है वो।

जगत बदला है पूरा तो बदला है देह भी।

परमेश्वर का व्यक्तित्व है रूपांतरण उसका,

स्वर्ण मुकुट सिर पर उसके।

सफ़ेद लबादा तन पर, स्वर्ण बंध वक्ष पर उसके।

हर चीज़ जगत की है चरण-पीठ उसकी, आँखें अग्नि-लौ की मानिंद उसकी,

दुधारी तलवार मुख में, दाएं हाथ में सप्त-तारे।

राज्य-पथ असीम और प्रकाशमान,

उदित होकर जगमगाती महिमा परमेश्वर की।

पर्वत जयजयकार करें, जल ख़ुशियाँ मनाएँ;

सूरज, चाँद-सितारे घूमें अपनी व्यवस्था में,

करें अगवानी एक सच्चे परमेश्वर की,

पूरी की जिसने प्रबंधन योजना छ: हज़ार वर्षों की, लौटा है जीतकर!


2

नाचें-कूदें आनंद मनाएं, जयजयकार करें परमेश्वर की सब।

सच्चा सर्वशक्तिमान परमेश्वर!

आसीन होता अपने सिंहासन पर सर्वशक्तिमान परमेश्वर!

उसके पवित्र नाम का गुणगान करो!

सर्वशक्तिमान की विजय-पताका लहराती, भव्य रूप में सिय्योन पर्वत पर!

करता हर देश जयजयकार, गाता हर इक जन ऊँचे-साफ़ सुर में!

आनंदित है सिय्योन पर्वत, उभर रही है महिमा परमेश्वर की!

सोचा न था सपने में भी भेंट कभी होगी उससे,

पर आज हुई भेंट सचमुच परमेश्वर से।

रूबरू होता हूँ हर दिन, खोल देता हूँ दिल अपना आगे उसके।

स्रोत है मेरे खान-पान का परमेश्वर, हर चीज़ की आपूर्ति करता परमेश्वर।

जीवन, वचन, चिंतन, विचार और क्रियाएं,

चमके उसकी महिमा उन पर जब वो हर कदम पर राह दिखाए।

नाफ़रमानी करे कोई दिल अगर,

न्याय फ़ौरन आ जाए, न्याय फ़ौरन आ जाए।


3

खाऊँ-पिऊँ, रहूँ साथ परमेश्वर के;

आनंद मनाऊँ और साथ चलूँ परमेश्वर के।

पाऊँ महिमा और आशीष एक साथ, राज करूँ उसके राज्य में उसके साथ।

ओह, इतना आनंद! और इतनी मधुरता!

रूबरू उसके हर दिन, वो हमसे बतियाँ करता।

करते बातें उससे, प्रबुद्ध होते हर दिन, और देखते कुछ नया हर नये दिन।

खुले हमारे नयन आत्मिक, हुए उजागर रहस्य आध्यात्मिक!

मुक्त है जीना पवित्र जीवन। रोको न तुम अपने कदम।

बढ़ते जाओ आगे-आगे, आगे है एक अद्भुत जीवन।

मधुर ज़ायका पा लेना बस नाकाफ़ी है, परमेश्वर की ओर रहो गतिमान तुम।

सब चीज़ों का समावेश है, और प्रचुर हैं,

अगर कहीं कुछ कम है, तो वो है उसके हाथों में।

करो सक्रिय सहयोग, करो प्रवेश उसके अंतर में,

नहीं रहेगा फिर कुछ भी पहले जैसा।

ऊँचा होगा जीवन हमारा,

न कर पाएगा परेशान कोई इंसान, कोई बात, न चीज़ कोई।


—वचन, खंड 1, परमेश्वर का प्रकटन और कार्य, आरंभ में मसीह के कथन, अध्याय 15 से रूपांतरित

पिछला: 6 सर्वशक्तिमान परमेश्वर धार्मिकता के सूर्य के समान प्रकट होता है

अगला: 8 सम्राट की तरह शासन करता है सर्वशक्तिमान परमेश्वर

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

परमेश्वर का प्रकटन और कार्य परमेश्वर को जानने के बारे में अंत के दिनों के मसीह के प्रवचन सत्य के अनुसरण के बारे में I न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सत्य वास्तविकताएं जिनमें परमेश्वर के विश्वासियों को जरूर प्रवेश करना चाहिए मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवात्मक गवाहियाँ मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवात्मक गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें