पवित्रा आत्मा सैद्धांतिक तरीके में काम करता है

21 दिसम्बर, 2017

किन शुटिंग लिनयी शहर, शैंडॉन्ग प्रांत

कुछ समय से, यद्यपि मैंने परमेश्वर के वचनों को खाना और पीना बंद नहीं किया था, मैं कभी भी प्रकाश को महसूस नहीं करती थी। मैं ने इसके लिए परमेश्वर से प्रार्थना की थी लेकिन, उसके बाद भी, मुझे प्रबुद्ध नहीं किया गया था। इसलिए मैं सोचती थी कि, "परमेश्वर द्वारा हर मनुष्य को प्रबुद्ध करने का समय एक होता है, इसलिए इसके लिए शीघ्रता करने की कोशिश करने का कोई उपयोग नहीं है।" इसके बाद, मैं "धैर्यपूर्वक" परमेश्वर की प्रबुद्धता का इंतजार करते हुए, नियम का पालन करती थी और किसी चिंता के बिना परमेश्वर के वचनों के वचनों को खाती और पीती थी।

फिर एक दिन, मैंने परमेश्वर के ये वचन पढ़े: "जब तुम्हारा हृदय परमेश्वर के सामने शांत रहेगा, केवल तभी सत्य की तुम्हारी खोज और तुम्हारे स्वभाव में आए परिवर्तन सफल होंगे। चूँकि तुम परमेश्वर के सामने बोझ से दबे हुए आते हो, और चूँकि तुम हमेशा महसूस करते हो कि तुममें कई तरह की कमियाँ हैं, कि ऐसे कई सत्य हैं जिन्हें जानना तुम्हारे लिए जरूरी है, तुम्हें बहुत सारी वास्तविकता का अनुभव करने की आवश्यकता है, और कि तुम्हें परमेश्वर की इच्छा का पूरा ध्यान रखना चाहिए—ये बातें हमेशा तुम्हारे दिमाग़ में रहती हैं। ऐसा लगता है, मानो वे तुम पर इतना ज़ोर से दबाव डाल रही हों कि तुम्हारे लिए साँस लेना मुश्किल हो गया हो, और इस प्रकार तुम्हारा हृदय भारी-भारी महसूस करता हो (हालाँकि तुम नकारात्मक स्थिति में नहीं होते)। केवल ऐसे लोग ही परमेश्वर के वचनों की प्रबुद्धता स्वीकार करने और परमेश्वर के आत्मा द्वारा प्रेरित किए जाने के योग्य हैं। यह उनके बोझ के कारण है, क्योंकि उनका हृदय भारी-भारी महसूस करता है, और, यह कहा जा सकता है कि परमेश्वर के सामने जो कीमत वे अदा कर चुके हैं और जो पीड़ा उन्होंने झेली है, उसके कारण वे उसकी प्रबुद्धता और रोशनी प्राप्त करते हैं, क्योंकि परमेश्वर किसी के साथ विशेष व्यवहार नहीं करता। लोगों के प्रति अपने व्यवहार में वह हमेशा निष्पक्ष रहता है, लेकिन वह लोगों को मनमाने ढंग से और बिना किसी शर्त के भी नहीं देता। यह उसके धर्मी स्वभाव का एक पहलू है" ("वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर के साथ सामान्य संबंध स्थापित करना बहुत महत्वपूर्ण है')। परमेश्वर के इन वचनों पर विचार करके, मेरी समझ में आ गया कि: परमेश्वर एक धार्मिक परमेश्वर है। वह मनुष्य के लिए अपनी व्यवस्था में कभी भी मनमाना नहीं होता है, और मनुष्य को बिना शर्त के नहीं देता है। लोगों को परमेश्वर की प्रबुद्धता और रोशनी हासिल करने के लिए, परमेश्वर के समक्ष अपने दिलों को शांत अवश्य करना चाहिए और ऐसा दिल रखना चाहिए जो परमेश्वर के वचनों के लिए तरसता और उसकी खोज करता हो। उन्हें अवश्य अपनी खुद की जिंदगियों की ज़िम्मेदारी वहन करनी चाहिए और परमेश्वर के वचनों के अंदर अपनी खुद की कमियों को खोजना चाहिए। अपनी ज़िम्मेदारी वहन करते हुए, उन्हें उसकी इच्छा का पूरा ध्यान रखने और सत्य में और अधिक गहरा जाने के लिए परमेश्वर के वचनों को अवश्य उद्देश्यपूर्ण ढंग से खाना और पीना चाहिए। परमेश्वर के साथ कार्य करने के लिए व्यावहारिक रूप से ऐसी कीमत चुका कर ही, व्यक्ति परमेश्वर की प्रबुद्धता हासिल कर सकता है। बीती बातों पर विचार करने पर, मैं कोई ज़िम्मेदारी वहन नहीं कर रही थी और न ही परमेश्वर के वचनों को खाने और पीने के लिए बिल्कुल भी कोई लालायित दिल रख रही थी। हर बार जब मैं परमेश्वर के वचन की किताब उठाती थी, तो मैं जल्दी-जल्दी पन्ने पलटा करती और मैं देखती कि मैंने इस अंश को पढ़ा था और उस अंश को पढ़ा था, और सोचती थी मुझे प्रत्येक अंश के बारे में मोटी-मोटी जानकारी ही थी। फिर मैं कोई पुराना अंश खोजा करती, उसे सरसरी तौर पर पढ़ती, और बस मेरा काम पूरा हो जाता था। जब मैं परमेश्वर के वचन खाती और पीती थी, तो केवल कुछ नियमों और अभ्यासों को बनाए रखने पर ध्यान केन्द्रित करते हुए, मेरे लिए उन वचनों के मात्र शाब्दिक अर्थ को समझना ही पर्याप्त होता था। मैं निश्चित रूप से उस सत्य को अधिक नहीं देखती थी जिसमें प्रवेश करने की मुझे जरूरत थी, न ही मैं परमेश्वर के दिल को संतुष्ट कर रही थी। मैं अपनी खुद की जिंदगी के लिए बिल्कुल भी ज़िम्मेदारी वहन नहीं कर रही थी, न ही मैं खुद को पर्याप्त सत्य से सुसज्जित नहीं करने के बारे में चिंतित थी; मैं बेपरवाही के साथ परमेश्वर के वचनों का अपना खाना और पीना बस सँभाल रही थी। परमेश्वर के वचनों के प्रति ऐसी लापरवाह प्रवृत्ति के साथ, मैंने उसकी प्रबुद्धता और रोशनी को कैसे हासिल कर सकती थी? मैं वाकई परमेश्वर के साथ कार्य नहीं कर रही थी, और बिना देखे परमेश्वर की प्रबुद्धता का इंतजार करने के लिए एक बहाने के रूप में "परमेश्वर द्वारा हर मनुष्य को प्रबुद्ध करने का समय होता है" का उपयोग कर रही थी। मैं वाकई कितनी अज्ञानी हो रही थी! केवल अब मैं इसे जानती हूँ, यद्यपि परमेश्वर द्वारा हर मनुष्य को प्रबुद्ध करने का समय होता है, यह काफी सत्य है, मनुष्य पर पवित्र आत्मा के कार्य के पीछे एक सिद्धांत होता है। परमेश्वर के साथ सकारात्मक रूप से और सक्रिय रूप से कार्य करने में समर्थ होने के लिए मनुष्य में खुद भी लालसा, खोजने वाला ह्रदय अवश्य होना चाहिए। केवल तभी पवित्र आत्मा मनुष्य पर कार्य कर सकता है और परमेश्वर की इच्छा की मनुष्य की समझ को प्रबुद्ध और प्रकाशित कर सकता है, जिसके कारण वे उसके वचनों के सत्य को समझ पाते हैं।

हे परमेश्वर! मैं तेरे द्वारा ठीक समय पर दी गई प्रबुद्धता के लिए तुझे धन्यवाद देती हूँ जिसने मुझे मेरे खुद के अनुभव में भटकाव को पहचानने में मदद की। अब मैं एक लालला वाला, खोजी दिल रखने, तेरे वचनों को खाने और पीने के लिए अपनी ज़िम्मेदारी को वहन करने, तेरे वचनों के माध्यम से प्राप्त प्रबुद्धता की आगे खोज करने, खुद को सत्य में और अधिक गहराई से प्रवेश करवाने, और अपनी जिंदगी को अधिक से अधिक विकसित करने के लिए तेरे साथ सकारात्मक और सक्रिय रूप से काम करने के लिए पीछे लौटना चाहती हूँ।

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।

संबंधित सामग्री

बाह्य आवरणों के आधार पर राय कायम करना नितांत बेतुका होता है

यिफान शांगच्‍यु नगर, हेनन प्रांत पहले, मैं अक्सर लोगों के बाह्य आवरण से उनके बारे में राय बनाती थी और आकर्षक व्यक्तित्व, ज्ञानी, वाक्‍पटु...

ओहदा खोने के बाद

हर बार जब मैं किसी को एक अगुआ के पद से बदले जाने और इस कारण उनके दुखी, कमजोर या रुष्ट होने के बारे मेँ सुनती थी तो ऐसे लोगों के प्रति मेरे मन मेँ निरादर का भाव आ जाता था।

एक सच्ची रिपोर्ट का इनाम

अप्रैल 2011 में, मुझे देश के दूसरे हिस्से की एक कलीसिया में याओ लान नाम की अगुआ की जगह लेनी पड़ी अपना पद मुझे सौंपने के दौरान, जब याओ लान...

स्वार्थ का हल कैसे करें

सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहते हैं, "वह मानक क्या है जिसके द्वारा किसी व्यक्ति के कर्मों का न्याय अच्छे या बुरे के रूप में किया जाता है? यह...