थोड़ी इंसानियत के साथ जीना यकीनन बढ़िया होता है

31 अक्टूबर, 2020

सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहते हैं, "उसकी 6,000-वर्षीय प्रबंधन योजना के समापन से पहले—इससे पहले कि वह मनुष्य की प्रत्येक श्रेणी का परिणाम स्पष्ट करे—पृथ्वी पर परमेश्वर का कार्य उद्धार के लिए होगा; इसका प्रयोजन विशुद्ध रूप से उन लोगों को पूर्ण बनाना—पूरी तरह से—और उन्हें अपने प्रभुत्व की अधीनता में लाना है, जो उससे प्रेम करते हैं। इससे कोई फ़र्क नहीं पड़ता कि परमेश्वर लोगों को कैसे बचाता है, यह सब उन्हें उनके पुराने शैतानी स्वभाव से अलग करके किया जाता है; अर्थात्, वह उनसे जीवन की तलाश करवाकर उन्हें बचाता है। यदि वे ऐसा नहीं करते, तो उनके पास परमेश्वर के उद्धार को स्वीकार करने का कोई रास्ता नहीं होगा। ... अतीत में, उद्धार के उसके साधन में परम प्रेम और करुणा दिखाना शामिल था, यहाँ तक कि उसने संपूर्ण मानवजाति के बदले में अपना सर्वस्व शैतान को दे दिया। वर्तमान अतीत जैसा नहीं है : आज तुम लोगों को दिया गया उद्धार अंतिम दिनों के समय में प्रत्येक व्यक्ति का उसके प्रकार के अनुसार वर्गीकरण किए जाने के दौरान घटित होता है; तुम लोगों के उद्धार का साधन प्रेम या करुणा नहीं है, बल्कि ताड़ना और न्याय है, ताकि मनुष्य को अधिक अच्छी तरह से बचाया जा सके। इस प्रकार, तुम लोगों को जो भी प्राप्त होता है, वह ताड़ना, न्याय और निर्दय मार है, लेकिन यह जान लो : इस निर्मम मार में थोड़ा-सा भी दंड नहीं है। मेरे वचन कितने भी कठोर हों, तुम लोगों पर जो पड़ता है, वे कुछ वचन ही हैं, जो तुम लोगों को अत्यंत निर्दय प्रतीत हो सकते हैं, और मैं कितना भी क्रोधित क्यों न हूँ, तुम लोगों पर जो पड़ता है, वे फिर भी कुछ शिक्षाप्रद वचन ही हैं, और मेरा आशय तुम लोगों को नुकसान पहुँचाना या तुम लोगों को मार डालना नहीं है। क्या यह सब तथ्य नहीं है? जान लो कि आजकल हर चीज़ उद्धार के लिए है, चाहे वह धार्मिक न्याय हो या निर्मम शुद्धिकरण और ताड़ना। भले ही आज प्रत्येक व्यक्ति का उसके प्रकार के अनुसार वर्गीकरण किया जा रहा हो या मनुष्य की श्रेणियाँ प्रकट की जा रही हों, परमेश्वर के समस्त वचनों और कार्य का प्रयोजन उन लोगों को बचाना है, जो परमेश्वर से सचमुच प्यार करते हैं। धार्मिक न्याय मनुष्य को शुद्ध करने के उद्देश्य से लाया जाता है, और निर्मम शुद्धिकरण उन्हें निर्मल बनाने के लिए किया जाता है; कठोर वचन या ताड़ना, दोनों शुद्ध करने के लिए किए जाते हैं और वे उद्धार के लिए हैं" ("वचन देह में प्रकट होता है" में 'मनुष्य के उद्धार के लिए तुम्हें सामाजिक प्रतिष्ठा के आशीष से दूर रहकर परमेश्वर की इच्छा को समझना चाहिए')। मुझे लगता था कि परमेश्वर लोगों पर अनुग्रह करके और उन्हें आशीष देकर अपना प्रेम दिखाता है। मुझे समझ में नहीं आता था कि परमेश्वर अपने न्याय और ताड़ना को भी प्रेम क्यों कहता है। लेकिन फिर परमेश्वर के वचनों ने मेरा न्याय किया, मुझे उजागर किया, मेरा निपटारा और शुद्धिकरण किया, तो मुझे अपने अहंकारी, आत्म-निष्ठ शैतानी प्रकृति की थोड़ी-बहुत समझ हासिल हुई। मेरी धृष्टता कम हुई और मैंने सजग होकर परमेश्वर से प्रार्थना की और समस्या का सामना करने पर सत्य की खोज की; मैं औरों की राय भी सुनने लगी और किंचित अच्छे इंसान की तरह जीने लगी। इस तरह से मैंने सच्चे अर्थों में अनुभव किया कि परमेश्वर का न्याय और ताड़ना इंसान के उद्धार के लिए है और यही सच्चा प्रेम है।

पिछले साल कलीसिया एक फ़िल्म बनाने की तैयारी कर रही थी, तो भाई-बहनों ने निर्देशक का काम मुझे सौंपने की सिफारिश की। मुझे याद है, जब पहली बार मैंने वो काम शुरू किया था, तो मुझे थोड़ी घबराहट हुई थी, मगर परमेश्वर से निरंतर प्रार्थना करने के बाद धीरे-धीरे मेरा मन शांत हो गया, और मैं काम शुरू कर सकी। फ़िल्म बनाने के तरीके सीखने के लिए मैंने कड़ी मेहनत की, और धीरे-धीरे उस हुनर के कुछ हिस्सों पर मेरी पकड़ मज़बूत हो गयी। और फिर, भाई-बहनों ने मेरी योजनाओं को अपनाना शुरू कर दिया। मेरे द्वारा निर्देशित फिल्म को देखने के बाद, सभी ने उसकी बहुत तारीफ की। अगुआ ने भी कहा कि मैं फिल्म निर्देशक बनने के लिए ही बनी हूँ। ये सुनकर मैं बहुत खुश हुई और सोचने लगी "थोड़ा और अभ्यास करूँगी, तो मैं यकीनन बहुत काबिल निर्देशक बन जाऊंगी।" उसके बाद से भाई-बहनों के साथ काम करते समय, मैं पहले की तरह संकोची नहीं रहती थी, बल्कि आत्मविश्वास के साथ बात करती, और अपना सिर ऊंचा किये रहती। मैं यह भी चाहती थी कि हर चीज़ में मेरा ही फैसला अंतिम हो, किसी दूसरे को मैं कुछ नहीं समझती थी। जैसे ही कोई मेरी योजना पर सवाल उठाता या कोई दूसरा सुझाव देता, मैं नहीं मानती थी, अधीर हो जाती थी और उन्हें नीची नज़र से देखती थी। मुझे लगता मैं हर मामले में उनसे आगे हूँ, उन्हें बिना किसी हंगामे के मेरा कहा मानना चाहिए। मेरी नज़र में, वे सिर्फ छोटी-मोटी बातें उठा रहे थे, जो चर्चा के योग्य ही नहीं थीं। तो मैं उनको चुप कराने के लिए हमेशा पूछती, "क्या यह सिद्धांत का सवाल है?" एक बार, मुख्य पात्र बहन झांग ने वो पोशाकें मुझे दिखायीं जो उसने पसंद की थीं। मैंने सोचा, "तुम्हारी पसंद इतनी ख़राब क्यों है?" मैंने उससे जबरन सारी नयी पोशाकें पसंद करवायीं। मैंने उसकी पसंद की बहुत-सी पोशाकों को नामंज़ूर कर दिया। मेरे मन में यह विचार समाया हुआ था कि निर्देशक मैं हूँ, तो मैंने सोचा कि मेरी समझ ही सही है और इन सबको मेरी बात सुननी चाहिए। भाई-बहन मेरे कारण बेबस महसूस करने लगे और अब उनमें कोई सुझाव देने की इच्छा नहीं थी। यह देख कर मुझे वाकई बुरा लगा, लेकिन फिर मैंने सोचा, मुझे हमारे काम का ही ख्याल है, और मैं इस बारे में बहुत अलग-थलग नहीं रह सकती। इसलिए, मैंने इस बात पर ज़्यादा ध्यान नहीं दिया। उस दौरान मेरे अगुआ ने मुझसे सहभागिता की और मुझे यह कह कर उजागर किया कि मैं बहुत घमंडी हूँ और लोगों पर काबू करना चाहती हूँ, उन्होंने मुझसे दूसरों पर नज़रें गड़ाने के बजाय खुद पर गौर करने और अपनी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए सत्य का अभ्यास करने को कहा। लेकिन तब मुझे अपनी खुद की प्रकृति की कोई समझ नहीं थी। मुझे लगा मैं अपने काम में सचमुच ज़िम्मेदार हूँ। मैं बस वैसी ही विद्रोही, ज़िद्दी बनी जीती रही, मैं अब भाई-बहनों के साथ ठीक से काम नहीं कर पा रही थी। समय के साथ, हमारे काम में समस्याएँ सिर उठाती रहीं, जिनसे हमारी तरक्की में रुकावट पैदा हुई।

एक दिन, मैंने सुना कि मेरे एक परिचित टीम अगुआ को घमंडी होने, सत्य को स्वीकार न करने और भाई-बहनों को बेबस करने के कारण निकाल दिया गया है। इससे मेरे मन में थोड़ा डर पैदा हो गया। मुझे पता था कि मैं भी ठीक उस टीम अगुआ जैसा ही बर्ताव कर रही थी। मैंने अंदाज़ा लगाया कि परमेश्वर मुझे चेतावनी दे रहे हैं, इसलिए मैंने फैसला किया कि अब मैं पहले की तरह रोब नहीं जमा सकती। इसके बजाय मुझे खुद को काबू में रखना होगा, ज़्यादा विनम्रता से बोलना होगा, और दूसरों को काम के बारे में अच्छे ढंग से बता कर उनसे चर्चा करनी होगी। लेकिन मुझे अभी भी अपनी खुद की प्रकृति के बारे में कोई समझ नहीं थी, इसलिए मैं इसे सुलझाने के लिए सत्य को नहीं खोज रही थी।

कुछ समय बाद, हमारी टीम की तरक्की बहुत धीमी होने के कारण, अगुआ ने मेरे साथ काम करने के लिए बहन लियू की व्यवस्था की। पहले-पहल मैं इसे मंज़ूर ही नहीं कर पायी। मैंने सोचा कि अगुआ को ज़रूर मेरी काबिलियत पर शक है, लेकिन चूंकि इसकी व्यवस्था की जा चुकी थी, इसलिए इच्छा न होने पर भी मैंने मान लिया। उसके बाद से काम की चर्चाओं के दौरान, मैंने पाया कि अगुआ हमेशा बहन लियू की सलाह लिया करते थे। इस बात पर मैं वाकई बेचैन थी और मुझे लगा कि अगुआ मेरे बारे में ऊंची राय नहीं रखते। मुझे बहन लियू से चिढ़ हो गयी। बल्कि इससे भी ज़्यादा, मेरे मन में बहन लियू के प्रति विरोध था। मैं उसे मंज़ूर नहीं कर पा रही थी। इसलिए जब कभी हम अपने काम की चर्चा करते, मैं तेवर चढ़ाये वहां चुपचाप बैठी रहती। एक बार, उसने टीम के काम में कुछ समस्याएं देखीं और फिर सुझाव दिये जिन्हें हमारे सब भाई-बहनों ने सचमुच पसंद किया, मगर मुझे एक भी सुझाव मंज़ूर नहीं था। मैंने उसके एक भी सुझाव को सुनने से मना कर दिया। जब सब लोगों ने मेरी राय जाननी चाही, तो मैंने अपना गुस्सा दबा कर कहा : "कुछ भी।" अगुआ ने तब यह कह कर मेरा निपटान किया कि मैं परमेश्वर के घर के काम को कायम नहीं रख रही हूँ। मुझे सचमुच बुरा लगा, मैं जानती थी कि चाहे जो भी हो, परमेश्वर के घर के काम में, मैं अपनी हताशा ज़ाहिर नहीं कर सकती। लेकिन मैं इसे दबा नहीं पायी। मैंने सोचा, "अगर आप हर समय बहन लियू की ही बात सुनती रहेंगी, तो चर्चा को रह क्या गया है?" मैं सोचती रही कि हर बात में मैं ही सही हूँ, इसलिए काम के बारे में हुई अगली कुछ चर्चाओं में मैं अपनी राय से चिपकी रही और बहन लियू के सुझाव उचित होने पर भी मैं सहमत नहीं हुई। मुझे लगा वह दिखावा कर रही है। एक बार उसने एक ख़ास कलाकार की सिफारिश की, तो मैंने उस कलाकार से जुड़े बहुत-सारे मुद्दे उठा दिये और उसके सुझाव को नामंज़ूर कर दिया। मैं उसकी बात सुनना ही नहीं चाहती थी। सारे काम की कर्ता-धर्ता मैं खुद बनना चाहती थी। बहन लियू मेरे कारण बेबस महसूस कर रही थी और फिर उसने सुझाव देना बंद कर दिया। उस दौरान, चूंकि मैं एक घमंडी, दंभी स्वभाव में जी रही थी और सत्य को नहीं खोज रही थी, इसलिए मेरी आत्मा धीरे-धीरे अंधेरों में समा गयी। मैं हर रोज़ उदास महसूस करने लगी, लगता जैसे परमेश्वर खुद को मुझसे छुपा रहे हैं। मेरे पास परमेश्वर से प्रार्थना में कहने को कुछ भी नहीं था और जब मैं परमेश्वर के वचन पढ़ती, तो मैं उनको समझ नहीं पाती थी। मेरा दिमाग़ खाली था, मैं अपने काम में कमसमझ थी। किसी भी समस्या पर ध्यान नहीं जा रहा था। मैं बेचैनी में जीते हुए महसूस करती रही मानो कुछ तो होने वाला है।

कुछ दिन बाद, हमारी अगुआ हमारे साथ एक सभा करने आयीं। उन्होंने मेरे स्वभाव को उजागर किया और कहा कि मैं बहुत घमंडी हूँ, बहुत निरंकुश हूँ, काम में मनमानी करती हूँ और मैंने वाकई हमारे काम में गड़बड़ी पैदा की है। उन्होंने मुझसे कहा कि घर जाकर कुछ गहन धार्मिक-कार्य करूं और आत्मचिंतन करूं। यह सुन कर मुझे धक्का लगा, लेकिन मैंने ईमानदारी से परमेश्वर से यह प्रार्थना की, "हे परमेश्वर, किसी भी हालात से मेरा सामना हो, मैं मानती हूँ कि यह सब आपके द्वारा नियोजित है और मैं समर्पण करना चाहती हूँ।" उस रात मैं बिल्कुल भी नहीं सो पायी। सोचती रही, "इतने समय तक मैं डायरेक्टर रही, लेकिन कल मुझे यहां से जाना होगा।" मैं इस ख़याल को छोड़ नहीं पा रही थी और वाकई परेशान थी, अपने आंसू रोक नहीं पा रही थी। मैं अपने धार्मिक-कार्य और आत्मचिंतन के इस मौके का इस्तेमाल करना चाहती थी, ताकि जहां लड़खड़ायी थी वहीं से खुद को संभाल सकूं। लेकिन घर लौटने के बाद, मैं परमेश्वर के वचनों पर ध्यान नहीं लगा सकी, मुझे वाकई बड़ी मुश्किल हो रही थी। मैं बस इतना ही कर पा रही थी कि परमेश्वर के सामने आकर बार-बार उसे पुकारूं। मैंने कहा, "हे परमेश्वर, मैं इतने कष्ट में हूँ। मेरी मदद करो और मेरे दिल की रक्षा करो ताकि मैं इस हालत में तुम्हारी इच्छा को समझ सकूं और खुद को जान सकूं।" परमेश्वर से निरंतर प्रर्थना करने पर आखिरकार मुझे थोड़ा सुकून मिला।

कुछ भाई-बहन अगले दिन मेरा हालचाल पूछने, मुझसे सहभागिता करने और मेरी मदद करने आये और उन्होंने मेरी कुछ समस्याओं का ज़िक्र किया। मुझे याद है एक बहन ने कहा था, "तुम अपने काम में कुछ हासिल करते ही अहंकारी हो जाती हो और चाहती हो कि हर चीज़ में तुम्हारा ही फैसला अंतिम हो। तुम सब-कुछ अपने हाथ में रखना चाहती हो, तुम्हारे साथ काम करने का कोई तरीका ही नहीं है।" एक भाई ने कहा, "काम के बारे में चर्चाओं के दौरान तुम्हारे न होने से हमें सुकून मिलता है, लेकिन तुम्हारे आते ही हम सब परेशान हो जाते हैं, इस डर से कि तुम हमारे विचारों और योजनाओं को नामंज़ूर कर दोगी।" उनके मुंह से निकला हर शब्द मेरे दिल में खंजर की तरह चुभ रहा था। उनसे रूबरू होकर मैं शर्मिंदा थी और मुझे बहुत बुरा लग रहा था। अपनी पूरी ज़िंदगी में, एक इंसान के रूप में मैंने कभी इतना विफल महसूस नहीं किया था। मैं इतनी बुरी हो गयी थी कि भाई-बहन मेरे पास आने की हिम्मत नहीं करते थे, और मुझे देख कर डरते थे। मैंने सोचा, "क्या मैं अब भी एक सही इंसान हूँ? मैं इतनी संवेदनाहीन कैसे हो सकती थी?" मुझे कभी इस बात का एहसास नहीं था कि मेरा घमंडी स्वभाव दूसरों को बेबस कर उन्हें इतना नुकसान पहुंचा सकता था। मुझे मालूम था कि मैं घमंडी हूँ और अगुआ मेरे साथ इस बारे में अक्सर सहभागिता करती थीं, मगर मैंने उस बात को कभी अहमियत नहीं दी। इसके बजाय, मैंने सोचा कि मेरा घमंड मेरे बहुत सक्षम होने का नतीजा है। गुणी और ऊंची क्षमता वाला कौन-सा इंसान अहंकारी नहीं होता? इसीलिए मैंने इससे छुटकारे के लिए कभी भी सत्य की खोज नहीं की। लेकिन भाई-बहनों की मदद और सहभागिता से आखिरकार मेरे दिल को सुकून मिला और मैं शांति के साथ अपने बर्ताव पर गौर कर सकी।

आत्मचिंतन करते वक्त, मैंने परमेश्वर के वचनों के दो अंश पढ़े। परमेश्वर कहते हैं, "अगर तुम्हारे भीतर वाकई सत्य है, तो जिस मार्ग पर तुम चलते हो वह स्वाभाविक रूप से सही मार्ग होगा। सत्य के बिना, बुरे काम करना आसान है और तुम यह अपनी मर्जी के बिना करोगे। उदाहरण के लिए, यदि तुम्हारे भीतर अहंकार और दंभ मौजूद हुआ, तो तुम परमेश्वर की अवहेलना करने से खुद को रोकना असंभव पाओगे; तुम्हें महसूस होगा कि तुम उसकी अवहेलना करने के लिए मज़बूर किये गये हो। तुम ऐसा जानबूझ कर नहीं करोगे; तुम ऐसा अपनी अहंकारी और दंभी प्रकृति के प्रभुत्व के अधीन करोगे। तुम्हारे अहंकार और दंभ के कारण तुम परमेश्वर को तुच्छ समझोगे और उसे ऐसे देखोगे जैसे कि उसका कोई महत्व ही न हो, वे तुमसे स्वयं की प्रशंसा करवाने की वजह होंगे, निरंतर तुमको दिखावे में रखवाएंगे और अंततः परमेश्वर के स्थान पर बैठाएंगे और स्वयं के लिए गवाही दिलवाएंगे। अंत में तुम आराधना किए जाने हेतु सत्य में अपने स्वयं के विचार, अपनी सोच, और अपनी स्वयं की धारणाएँ बदल लोगे। देखो लोग अपनी उद्दंडता और अहंकारी प्रकृति के प्रभुत्व के अधीन कितनी बुराई करते हैं!" ("अंत के दिनों के मसीह की बातचीत के अभिलेख" में 'केवल सत्य की खोज करके ही स्वभाव में बदलाव लाया जा सकता है')। "अहंकार मनुष्‍य के भ्रष्‍ट स्‍वभाव की जड़ है। लोग जितने ही ज़्यादा अहंकारी होते हैं, उतनी ही अधिक संभावना होती है कि वे परमेश्‍वर का प्रतिरोध करेंगे। यह समस्‍या कितनी गम्‍भीर है? अहंकारी स्‍वभाव के लोग न केवल बाकी सभी को अपने से नीचा मानते हैं, बल्कि, सबसे बुरा यह है कि वे परमेश्‍वर को भी हेय दृष्टि से देखते हैं। भले ही कुछ लोग, बाहरी तौर पर, परमेश्‍वर में विश्‍वास करते और उसका अनुसरण करते दिखायी दें, तब भी वे उसे परमेश्‍वर क़तई नहीं मानते। उन्‍हें हमेशा लगता है कि उनके पास सत्‍य है और वे अपने बारे में बहुत ऊँचा सोचते हैं। यही अहंकारी स्वभाव का सार और जड़ है और इसका स्रोत शैतान में है। इसलिए, अहंकार की समस्‍या का समाधान अनिवार्य है। यह भावना कि मैं दूसरों से बेहतर हूँ—एक तुच्‍छ मसला है। महत्‍वपूर्ण बात यह है कि एक व्‍यक्ति का अहंकारी स्‍वभाव उसको परमेश्‍वर के प्रति, उसके विधान और उसकी व्‍यवस्‍था के प्रति समर्पण करने से रोकता है; इस तरह का व्‍यक्ति हमेशा दूसरों पर सत्‍ता स्‍थापित करने की ख़ातिर परमेश्‍वर से होड़ करने की ओर प्रवृत्‍त होता है। इस तरह का व्‍यक्ति परमेश्‍वर में तनिक भी श्रद्धा नहीं रखता, परमेश्‍वर से प्रेम करना या उसके प्रति समर्पण करना तो दूर की बात है" (परमेश्‍वर की संगति)। मैंने परमेश्वर के वचनों से यह जाना कि मेरा घमंड और दंभ मुझसे परमेश्वर के खिलाफ विद्रोह और विरोध करवा रहे थे। एक निर्देशक के रूप में काम करते हुए, जब मुझे थोड़ी सफलता मिली तो मैंने सोचा यह मेरी खुद की कड़ी मेहनत का नतीजा है, मैं दूसरों से बेहतर हूँ। मैंने दूसरों की उपेक्षा करना शुरू कर दिया, और ज़िद के साथ घमंड करती रही, यही चाहती रही कि हर चीज़ में मेरा ही फैसला अंतिम हो। जब मैं अपने काम में परिणाम हासिल नहीं कर सकी तो मैंने कभी इस बात पर गौर नहीं किया कि कहीं समस्या मेरे साथ तो नहीं, बल्कि अपने भाई-बहनों को ही निशाना बनाने लगी। मैंने दूसरों को नीचा दिखाने के इरादे से उनका निपटान किया और उन्हें खरी-खोटी सुनायी। मैंने घमंड और दंभ की वजह से हर किसी को नीची नज़र से देखा। मैं किसी भी दूसरे की काबिलियत को देख नहीं पायी, और सोचा कि बस मेरी योजनाएं ही सबसे बढ़िया हैं। मैं हर मोड़ पर सभी के सुझावों को नामंज़ूर कर देती, और सब पर रोब चलाने की कोशिश करती। अपने घमंड और दंभ के कारण मैं खुद को जान नहीं पायी, कई बार अपनी काँट-छाँट और निपटान के बाद भी मैंने इसे स्वीकार नहीं किया या आत्मचिंतन नहीं किया। मुझमें एक खोजी का दिल था ही नहीं। जब मेरे काम की तरक्की धीमी हो गयी और यह स्पष्ट हो गया कि मैं काम को नहीं संभाल पा रही हूँ, तब भी मैं दूसरों के साथ काम नहीं करना चाहती थी या अपने काम में उनकी दखलंदाज़ी नहीं चाहती थी। मुझे लगा कि इससे मेरे अधिकार पर असर पड़ेगा और मेरी शोहरत और पद को खतरा होगा। मैं सर्वेसर्वा होना चाहती थी, और चाहती थी कि मेरा ही फैसला अंतिम हो। क्या मैं परमेश्वर के विरोध के मार्ग पर नहीं चल रही थी? जब बहन लियू को उसके काम में थोड़ी सफलता मिली जिससे मेरे पद को खतरा पैदा हुआ, तब मुझे पता था कि वह सही है और उसके सुझाव से परमेश्वर के घर के कार्य को फ़ायदा होगा, लेकिन मैंने उसे स्वीकार नहीं किया। इसके बदले, मैं मीन-मेख निकालने में लग गयी, और जब मैंने देखा कि हमारे भाई-बहन उसकी बात पर राज़ी हैं, तो मैं इसे पचा नहीं पायी, और कलीसिया के काम में अपनी भड़ास निकालने लगी। मैं अपनी शोहरत और रुतबे की रक्षा के लिए परमेश्वर के घर को नुकसान होता देखने को तैयार थी। तो परमेश्वर के लिए मेरा आदर कहाँ था? मेरी अंतरात्मा और समझदारी कहाँ थी? मैंने देखा कि मैं अपने घमंडी और दंभी शैतानी स्वभाव के अनुसार जी रही थी, भाई-बहनों पर अपनी सोच और राय थोप रही थी, मानो वही सत्य हो, मैंने हर चीज़ में लोगों को मेरी ही बात मानने को मजबूर किया। क्या यह परमेश्वर से बराबरी करने और दूसरों पर काबू करने की चाह नहीं थी? मैं काफी पहले ही परमेश्वर के प्रशासनिक आदेशों की अवहेलना चुकी थी : "मनुष्य को स्वयं को बड़ा नहीं दिखाना चाहिए, न अपनी बड़ाई करनी चाहिए। उसे परमेश्वर की आराधना और बड़ाई करनी चाहिए" ("वचन देह में प्रकट होता है" में 'दस प्रशासनिक आदेश जो राज्य के युग में परमेश्वर के चुने लोगों द्वारा पालन किए जाने चाहिए')। आखिरकार मैं जान गयी कि मैं खस्ता हाल में हूँ। ऐसा लग रहा था मानो मैं हर रोज़ अपना कर्तव्य निभा रही हूँ, मुझमें खुद को खपाने का जूनून सवार है, लेकिन हर प्रकार से मैं शैतानी स्वभाव ही प्रकट कर रही थी। मेरे सारे काम सत्य के विरुद्ध थे, मैं कलीसिया के काम में गड़बड़ी पैदा कर रही थी। मैं दुष्टता कर रही थी, परमेश्वर का विरोध कर रही थी, और उसके स्वभाव का अपमान कर रही थी! मैंने सोचा आखिर मैं इस हद तक कैसे पहुँच गयी। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि मेरी प्रकृति घमंडी और अकड़ालू थी। मैंने कभी भी सत्य को स्वीकार नहीं किया, इसलिए मैं परमेश्वर के कोप की भागीदार बनी। मैंने देखा कि शैतान ने मुझे गहराई से भ्रष्ट कर दिया है, मुझमें सत्य की वास्तविकता बिल्कुल भी नहीं है। इतना महत्वपूर्ण काम हाथ में लेने की सामर्थ्य मुझे परमेश्वर द्वारा ऊंचा उठाए जाने के कारण मिली थी, और अपने कर्तव्य में थोड़ी सफलता पूरी तरह से पवित्र आत्मा के कार्य के कारण मिली थी, इस वजह से बिल्कुल भी नहीं कि मुझमें कोई काबिलियत थी। मैंने देखा कि जब मैं अपने काम के लिए अपनी घमंडी प्रकृति पर भरोसा करती, तब पवित्र आत्मा कार्य करना बंद कर देता और मैं कुछ भी नहीं समझ पाती या कोई हल नहीं निकाल पाती। लेकिन इसके बावजूद मुझे ठीक ही लगता था। मैं इतनी घमंडी थी कि कुछ भी समझ नहीं पा रही थी, मुझमें खुद की ज़रा भी समझ नहीं थी। यह जान लेने के बाद मैंने अपनी घमंडी प्रकृति के प्रति नाराज़गी और घृणा महसूस करना शुरू किया।

फिर मैंने परमेश्वर के ये वचन पढ़े : "तुम सब पाप और व्यभिचार की धरती पर रहते हो; और तुम सब व्यभिचारी और पापी हो। आज तुम न केवल परमेश्वर को देख सकते हो, बल्कि उससे भी महत्वपूर्ण रूप से, तुम लोगों ने ताड़ना और न्याय प्राप्त किया है, तुमने वास्तव में गहन उद्धार प्राप्त किया है, दूसरे शब्दों में, तुमने परमेश्वर का महानतम प्रेम प्राप्त किया है। वह जो कुछ करता है, उस सबमें वह तुम्हारे प्रति वास्तव में प्रेमपूर्ण है। वह कोई बुरी मंशा नहीं रखता। यह तुम लोगों के पापों के कारण है कि वह तुम लोगों का न्याय करता है, ताकि तुम आत्म-परीक्षण करो और यह ज़बरदस्त उद्धार प्राप्त करो। यह सब मनुष्य को संपूर्ण बनाने के लिए किया जाता है। प्रारंभ से लेकर अंत तक, परमेश्वर मनुष्य को बचाने के लिए पूरी कोशिश कर रहा है, और वह अपने ही हाथों से बनाए हुए मनुष्य को पूर्णतया नष्ट करने का इच्छुक नहीं है। आज वह कार्य करने के लिए तुम लोगों के मध्य आया है, और क्या ऐसा उद्धार और भी बड़ा नहीं है? अगर वह तुम लोगों से नफ़रत करता, तो क्या फिर भी वह व्यक्तिगत रूप से तुम लोगों का मार्गदर्शन करने के लिए इतने बड़े परिमाण का कार्य करता? वह इस प्रकार कष्ट क्यों उठाए? परमेश्वर तुम लोगों से घृणा नहीं करता, न ही तुम्हारे प्रति कोई बुरी मंशा रखता है। तुम लोगों को जानना चाहिए कि परमेश्वर का प्रेम सबसे सच्चा प्रेम है। यह केवल लोगों की अवज्ञा के कारण है कि उसे न्याय के माध्यम से उन्हें बचाना पड़ता है; यदि वह ऐसा न करे, तो उन्हें बचाया जाना असंभव होगा" ("वचन देह में प्रकट होता है" में 'विजय के कार्य की आंतरिक सच्चाई (4)')। मैंने परमेश्वर के वचनों को बार-बार पढ़ा। मुझे स्नेह का मीठा एहसास हुआ और मैं बहुत प्रेरित हुई। मैंने देखा कि मुझे इस प्रकार उजागर करके परमेश्वर मुझे निकम्मा नहीं ठहरा रहा था या हटा नहीं रहा था, वह जान-बूझ कर मेरे लिए मुश्किल खड़ी नहीं कर रहा था। ऐसा वह वाकई मेरे उद्धार के लिए कर रहा था। मेरी प्रकृति इतनी घमंडी और कठोर है और परमेश्वर को मेरी ज़रूरत का पता है। अपने कर्तव्य का अवसर गँवा कर और भाई-बहनों द्वारा काँट-छाँट और निपटान से गुज़र कर, मुझे अपने घमंडी स्वभाव का पता चला. मैं जिस रास्ते पर चल रही थी उस पर गौर कर सकी और परमेश्वर के आगे सच्चाई से प्रायश्चित कर सकी ताकि मैं अब उसके खिलाफ विद्रोह कर उसका विरोध न करूं। हालांकि इस प्रक्रिया से गुज़रने पर मुझे पीड़ा और नकारात्मकता का अनुभव हुआ, उस प्रकार के न्याय और ताड़ना के बिना मेरे सुन्न पड़े दिल को जगाया नहीं जा सकता था। मैं अपने बर्ताव पर गौर नहीं कर पाती या परमेश्वर के धार्मिक स्वभाव को जान नहीं पाती। मैं सच्चाई से परमेश्वर के आगे प्रायश्चित नहीं कर पाती, बल्कि उससे बराबरी और उसका विरोध करती रहती, आखिरकार उसके स्वभाव का अपमान करती और दंड पाती। आखिरकार मैंने खुद महसूस किया कि परमेश्वर के वचनों का न्याय और प्रकाशन मेरी रक्षा के लिए था और उसका सबसे सच्चा प्रेम था। यह जान लेने के बाद मैंने परमेश्वर का बड़ा आभार माना और महसूस किया कि मुझे भविष्य में सत्य का ईमानदारी से अनुसरण करना चाहिए, ताकि मैं अपने भ्रष्ट स्वभाव को त्याग कर इंसानियत के साथ जी सकूं।

उसके बाद से मैं लगातार प्रार्थना करती रही और खोज करती रही। मैंने सोचा कि मैं अपने घमंडी स्वभाव के साथ जीना और परमेश्वर का विरोध करना कैसे बंद करूं। खोज करते वक्त मैंने परमेश्वर के ये वचन पढ़े : "अहंकारी प्रकृति तुम्‍हें दुराग्रही बनाती है। जब लोगों का ऐसा दुराग्रही स्‍वभाव होता है, तो क्‍या वे स्‍वेच्‍छाचारी और अविवेकी होने की ओर उन्‍मुख नहीं होते? तब तुम अपने दुराग्रह से मुक्ति कैसे पा सकते हो? जब तुम्‍हारे मन में कोई विचार होता है, तुम उसे प्रकट करते हो और कहते हो कि तुम इस मसले पर क्‍या सोचते हो और क्‍या विश्‍वास करते हो, और फिर, तुम हर किसी से इसके बारे में बात करते हो। सबसे पहले, तुम अपने दृष्टिकोण पर रोशनी डाल सकते हो और सत्‍य को जानने की कोशिश कर सकते हो; इस दुराग्रही स्‍वभाव पर विजय पाने के लिए उठाया जाने वाला पहला क़दम है। दूसरा क़दम तब होता है जब दूसरे लोग अपनी असहमतियों को व्‍यक्‍त करते हैं—ऐसे में दुराग्रही होने से बचने के लिए तुम किस तरह का अभ्यास कर सकते हो? पहले तुम्हारा रवैया विनम्र होना चाहिए, जिसे तुम सही समझते हो उसे बगल में रख दो, और हर किसी को संगति करने दो। भले ही तुम अपने तरीके को सही मानो, तुम्‍हें उस पर ज़ोर नहीं देते रहना चाहिए। यह, सर्वप्रथम, एक तरह की प्रगति है; यह सत्‍य की खोज करने, स्‍वयं को नकारने और परमेश्‍वर की इच्‍छा पूरी करने की प्रवृत्ति को दर्शाता है। जैसे ही तुम्‍हारे भीतर यह प्रवृत्ति पैदा होती है, उस समय तुम अपनी धारणा से चिपके नहीं रहते, तुम प्रार्थना करते हो। चूँकि तुम सही और गलत का भेद नहीं जानते, इसलिए तुम परमेश्वर को अवसर देते हो कि वह तुम्‍हें उजागर करे और बताए कि करने लायक सबसे श्रेष्‍ठ और सबसे उचित कर्म क्‍या है। जैसे-जैसे संगति में हर कोई शामिल होता है, पवित्र आत्‍मा तुम सभी को प्रबुद्धता प्रदान करता है" (परमेश्‍वर की संगति)। मुझे परमेश्वर के वचनों में अभ्यास का एक रास्ता मिला। अगर मैं घमंड में न जीना चाहूँ या अपने कर्तव्य में मनमानी न करना चाहूँ, तो मेरे दिल में सत्य को खोजने की इच्छा और परमेश्वर का आदर होना चाहिए। मुझे भाई-बहनों के साथ सहयोग करना होगा और जब कोई मतभेद हो, तो मुझे खुद को नकार कर अपने अहंकार को दूर रखना होगा, परमेश्वर से प्रार्थना करनी होगी और सत्य को खोजना होगा। सिर्फ इसी मनोभाव के साथ मैं ज़्यादा आसानी से पवित्र आत्मा द्वारा प्रबुद्ध की जा सकूंगी, और मैं अपने खुद के विचारों से चिपके रहने के लिए परमेश्वर के खिलाफ विद्रोह करने, उसका विरोध करने और परमेश्वर के घर के कार्य को नुकसान पहुंचाने की हद तक कभी नहीं जाऊंगी। यह सब जान लेना मेरे दिल में एक रोशनी चमकने जैसा था। मैंने यह प्रार्थना की : "हे परमेश्वर, अब से, मैं भाई-बहनों के साथ मिल-जुल कर काम करना चाहती हूँ, ताकि हम साथ-साथ सत्य को खोज सकें और सिद्धांतों के अनुसार अपना कर्तव्य निभा सकें।"

उसके कुछ समय बाद, मेरे काम के लिए मुझे सुलेख (कैलिग्राफी) की कुछ पंक्तियाँ लिखने को कहा गया। यह सुन कर मैंने सोचा, "सुलेख के कुछ अक्षर तो कुछ भी नहीं हैं। मैंने सुलेख का अध्ययन किया है, इसलिए इसको लेकर मैं बहुत आश्वस्त हूँ।" मैंने दो-चार तरह से लिखा, तब उन्हें देखने के बाद बहन लियू ने कहा, "मेरे ख्याल से बुरा नहीं है।" मुझे उसी वक्त फिर उससे विद्वेष महसूस हुआ, मैंने सोचा, "तुम इतने अनमने ढंग से कह रही हो। क्या मेरा सुलेख इतना बुरा है? मैंने इसका अध्ययन किया है, मैं इसमें माहिर हूँ। क्या मैं इसके बारे में तुमसे ज़्यादा नहीं जानती? मुझे लगता है तुम्हें इस तरह की चीज़ की समझ नहीं है, और तुम जान-बूझ कर मीन-मेख निकाल रही हो।" लेकिन जब ये विचार मेरे दिमाग में कौंध रहे थे, मैंने अचानक महसूस किया कि मैं गलत हूँ। क्या यह फिर से घमंडी स्वभाव प्रकट करना नहीं है? मैं समय गँवाये बिना परमेश्वर के सामने प्रार्थना करने आ पहुँची : "हे परमेश्वर, मैं एक खोजी और आज्ञाकारी रवैया रखना चाहती हूँ, स्वयं को अलग रखना चाहती हूँ, और अपने कर्तव्य को अपना सब-कुछ देना चाहती हूँ।" इस मनोभाव के साथ मैंने एक और तरीके से सुलेख लिखा, बहन लियू ने उसे देखने के बाद पूछा कि क्या मैं इसे और अधिक साफ़-सुथरा बना सकती हूँ, और फिर कुछ सुझाव दिये। अनेक भाई-बहनों ने वास्तव में कहा कि यह बिल्कुल ठीक है। मैं पहले जैसी थी, उस आधार पर, अगर सोचती कि मैं सही हूँ और दूसरे लोगों को मेरी बात माननी चाहिए, तो कुछ और कहने को रहता ही नहीं, और मैं इसी सोच में और डूब जाती। लेकिन उस वक्त मेरी सोच वो नहीं थी। मैंने सोचा, "भाई-बहन हमारे कर्तव्य के बारे में सोच कर अलग-अलग दृष्टिकोण पेश कर रहे हैं। कोई भी मेरे लिए मुश्किल खड़ी करने के इरादे से ऐसा नहीं कर रहा है। ज़रूरी नहीं है कि मेरे ही विचार सही हों। अंत में, हमें फैसला करना होगा कि हमारे काम के लिए सबसे बढ़िया नतीजे किससे मिलेंगे।" इस सोच के साथ मैंने पहल करते हुए कहा : "मैं एक और विकल्प पेश करूं तो कैसा रहेगा और तब आप लोग फैसला कर सकेंगे कि कौन-सा सबसे बढ़िया है।" इस मनोभाव के साथ लिखते हुए मैं बहुत शांति और सुकून महसूस कर रही थी, नाक कटने का ख्याल तो दिल में आया ही नहीं। सुलेख लिख लेने के बाद, मैंने उनसे और सुझाव मांगे, तब भाई-बहनों ने मुझे और भी सुझाव दिये। सभी सुझाव अच्छे थे। उस वक्त मुझे लगा कि मुझमें सचमुच बहुत-सी कमियाँ हैं और भाई-बहनों के पास बहुत-से विशेष गुण हैं जो मुझमें नहीं थे। उनके अनेक विचारों और सुझावों ने मेरी कमियों की भरपाई कर दी। इसलिए हर किसी की मदद से, एक-दूसरे की कमियों की भरपाई करके हम अंत में अपने काम में ज़्यादा सफल हुए। कुछ समय तक भाई-बहनों के साथ इस तरह काम करके मुझे वाकई बड़ा सुकून महसूस होने लगा, और मैं बाकी सब लोगों के बहुत करीब महसूस करने लगी। मैं पहले की तरह न तो ढीठ या मुंहज़ोर थी, न ही घमंडी, और जब दूसरे मेरे करीब आये तो मुझसे मिलना उनके लिए मुश्किल नहीं था। मैंने यह भी पाया कि भाई-बहनों के सुझावों को स्वीकार करना उतना कठिन नहीं था, और मैं उनकी बतायी अपनी कमियों को भी सही ढंग से ले पा रही थी। वैसे कुछ चीज़ें हुईं जो मुझे ठीक नहीं लगीं और मैंने थोड़ा घमंड अवश्य दिखाया, लेकिन भाई-बहनों के याद दिलाने पर, मैं फ़ौरन परमेश्वर के सामने आ सकी। मैं स्वयं को दूर रखने, सत्य को खोजने, और सिद्धांतों के अनुसार अपना कर्तव्य निभाने को तैयार थी। इन सबसे गुज़रने के बाद, मैंने जो चीज़ वाकई दिल से महसूस की, वो सच्ची खुशी की भावना थी। मैंने देखा कि आखिरकार मैं परमेश्वर के वचनों का अभ्यास कर पा रही हूँ, जो पहले मेरे लिए बहुत मुश्किल था। स्वयं को परे रख कर दूसरों के सुझावों को मानना पहले बहुत कठिन होता था, लेकिन अब मैं परमेश्वर के वचनों का कुछ हद तक अभ्यास कर पा रही हूँ। आखिरकार मैं अब थोड़ी इंसानियत के साथ जी सकती हूँ। मैं पहले जैसी घमंडी नहीं हूँ, मैं परमेश्वर के लिए उतनी घिनौनी नहीं हूँ, और मेरी वजह से अब पहले की तरह दूसरे लोग बेबस नहीं हो रहे हैं। जब कभी मैं इन सबके बारे में सोचती हूँ, मैं परमेश्वर का आभार मानती हूँ। अगर परमेश्वर ने मेरा निपटान और काँट-छाँट नहीं की होती, उसका न्याय और उसके वचनों का प्रकाशन नहीं मिला होता, तो न जाने मैं अब तक कितनी घमंडी या नीच बन गयी होती। आज जो थोड़ी-सी समझ और बदलाव मैंने हासिल किया है वह पूरी तरह से परमेश्वर के वचनों के न्याय और ताड़ना के कारण है।

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

अहंकार को खत्म करने का मार्ग है

शियावचेन ज़ेंगज़ो सिटी, हेनान प्रदेश अहंकार मेरा घातक दोष है। मैं अक्सर ही अपना अहंकारी स्वभाव दिखाया करती थी, हमेशा सोचती थी कि मैं अन्य...

एक आध्यात्मिक पुनर्जन्म

मैं एक गरीब ग्रामीण परिवार में पैदा हुआ था जो अपनी सोच में पिछड़ा हुआ था। मैं छोटी उम्र से ही घमंडी था और हैसियत की मेरी इच्छा विशेष रूप से प्रबल थी।