अंत के दिनों के बारे में बाइबल की भविष्यवाणी सच हो गयी है और नूह के दिन आ गये हैं: मनुष्य के पुत्र के आगमन के रहस्य के बारे में जानें

18 मई, 2020
सूचीपत्र

नूह के दिन आ गये हैं: यह क्या संकेत है?

अंत के दिनों में प्रभु का आगमन कैसे होगा?

अंत के दिनों में प्रभु क्या काम करने के लिए आता है?

हमें प्रभु के प्रकटन और कार्य का अभिवादन कैसे करना चाहिए?

नूह के दिन आ गये हैं: यह क्या संकेत है?

जब हम नूह के दिनों के इंसान की बात करते हैं, हर कोई जानता है कि हत्या और आगजनी, लूट और चोरी, और अनैतिकता उस समय के लोगों का दूसरा स्वभाव बन गया था। वे परमेश्वर से दूर हो गये और उसके वचनों पर ध्यान नहीं दिया, और अंत में परमेश्वर ने बड़े जलजले से उन्हें नष्ट कर दिया। फिर हम आज की दुनिया के लोगों को देखते हैं: वे बुराई पसंद करते हैं, और किसी भी शहर की सडकों और गलियों में केरोके बार, फुट मसाज पार्लर्स, शराबखाने और डांस क्लब जैसी जगहें हर कोई देख सकता है; लोग खाते, पीते और मजे लेते, देह के आनंद में लिप्त रहते हैं; ज्यादातर लोग प्रसिद्धि, लाभ और पद के लिए एक दूसरे से होड़ करते हैं, एक दूसरे से लड़ते हैं, एक दूसरे के खिलाफ षडयंत्र करते हैं, और एक दूसरे को धोखा देते हैं, दोस्त और रिश्तेदार भी अपवाद नहीं हैं। सभी लोग सच से तंग होते हैं, वे अनीति से प्यार करते हैं और पाप में जीते हैं; कोई भी सत्य की तलाश या सच्चे मार्ग को खोजने की पहल नहीं करता और यहाँ तक कि वे खुले तौर पर परमेश्वर को नकारते और उसका विरोध करते हैं। सम्पूर्ण मानवजाति शैतान की प्रभुता में रहती है, यहाँ तक कि जो लोग प्रभु में विश्वास करते हैं, वे भी सांसारिक प्रवृतियों को निभाने के लिए खुद का स्तर गिरा लेते हैं। वे अधर्मी सुखों की इच्छा रखते हैं, और हमेशा पाप करने और फिर स्वीकार करने के चक्र में जीते हैं, हालांकि वे प्रभु की शिक्षाओं को अच्छी तरह जानते हैं, लेकिन उन्हें व्यवहार में नहीं लाते हैं। ऐसे कृत्य मदद नहीं कर सकते हैं लेकिन दो हज़ार साल पहले प्रभु यीशु द्वारा की गई भविष्यवाणी की याद दिलाते हैं: "जैसा नूह के दिनों में हुआ था, वैसा ही मनुष्य के पुत्र के दिनों में भी होगा। जिस दिन तक नूह जहाज पर न चढ़ा, उस दिन तक लोग खाते–पीते थे, और उनमें विवाह होते थे। तब जल-प्रलय ने आकर उन सब को नष्‍ट किया। ... मनुष्य के पुत्र के प्रगट होने के दिन भी ऐसा ही होगा" (लूका 17:26-30). इस भविष्यवाणी से हम देख सकते हैं कि जब अंत के दिनों के लोग नूह के समय के लोगों की तरह भ्रष्ट और दुष्ट हो जायेंगे, तो प्रभु फिर से आयेगा। लेकिन प्रभु किस तरह प्रकट होगा? और हमें उसका स्वागत किस तरह करना चाहिए?

अंत के दिनों में प्रभु का आगमन कैसे होगा?

अंत के दिनों में प्रभु का आगमन कैसे होगाकई लोग बाइबल में इस पद की बात करते हैं: "और मनुष्य के पुत्र को बड़ी सामर्थ्य और ऐश्‍वर्य के साथ आकाश के बादलों पर आते देखेंगे" (मत्ती 24:30)। वे मानते हैं कि जब प्रभु वापस लौटेगा, तो वह किसी बादल पर खुलेआम सवारी करेगा, और हमें सीधे स्वर्ग के राज्य में ले जायेगा और हर कोई उसे देखेगा, और इसलिए वे प्रभु के किसी बादल पर आने की निष्क्रिय प्रतीक्षा करते हैं। हालाँकि, सच्चाई यह है कि हमने बाइबल की भविष्यवाणियों की अवहेलना की है, जो कहती है कि एक तरीका और है जिससे प्रभु वापस लौटेगा, जैसे कि, "देख, मैं चोर के समान आता हूँ" (प्रकाशितवाक्य 16:15), "यदि तू जागृत न रहेगा तो मैं चोर के समान आ जाऊँगा" (प्रकाशितवाक्य 3:3)। "देख, मैं द्वार पर खड़ा हुआ खटखटाता हूँ; यदि कोई मेरा शब्द सुनकर द्वार खोलेगा, तो मैं उसके पास भीतर आकर उसके साथ भोजन करूँगा और वह मेरे साथ" (प्रकाशितवाक्य 3:20)। "क्योंकि जैसे बिजली पूर्व से निकलकर पश्‍चिम तक चमकती है, वैसे ही मनुष्य के पुत्र का भी आना होगा" (मत्ती 24:27)। और "इसलिये तुम भी तैयार रहो, क्योंकि जिस घड़ी के विषय में तुम सोचते भी नहीं हो, उसी घड़ी मनुष्य का पुत्र आ जाएगा" (मत्ती 24:44)। इन भविष्यवाणियों में प्रभु के लौटने का उल्लेख है "चोर के समान" और यह कि वह "द्वार पर खड़ा हुआ खटखटाता" हुआ आयेगा। यह साबित करता है कि प्रभु चुपचाप और गुप्त रूप से लौटेगा और यह बिना किसी को पता लगे होगा। इन पदों में "मनुष्य के पुत्र का आना" और "मनुष्य का पुत्र आ जाएगा" और "मनुष्य का पुत्र" के किसी भी संदर्भ का अर्थ देहधारी परमेश्वर है, का उल्लेख भी है। केवल एक मनुष्य का जन्म और जो सामान्य मानवता रखता हो, उसे ही "मनुष्य का पुत्र" कहा जा सकता है; अगर प्रभु अपने पुनरुत्थान के बाद अपने आध्यात्मिक शरीर में आता, तो उसे "मनुष्य का पुत्र" नहीं कहा जा सकता था। इसलिए यह दर्शाता है कि अंत के दिनों में प्रभु मनुष्य के बीच काम करने के लिए देह में गुप्त रूप से वापस लौटता है।

इस बिंदु पर, कुछ लोग उलझन महसूस करते हुए सोच सकते हैं, "बाइबल दोनों भविष्यवाणियाँ करती है कि प्रभु बादलों के साथ आयेगा और सभी आँखें उसे देखेंगी, लेकिन साथ ही यह कि प्रभु देह में गुप्त रूप से आयेगा। क्या यह विरोधाभास नहीं है?" असल में, परमेश्वर के वचनों में कोई विरोधाभास नहीं है। प्रभु का आगमन दो तरीके से होता है: एक तरीका है कि वह खुलेआम बादलों के साथ आता है, जबकि दूसरा यह है कि वह चुपके से एक चोर की तरह आता है। परमेश्वर द्वारा की गई हर चीज की भविष्यवाणी परिपूर्ण और संपन्न होगी, लेकिन परमेश्वर चरणों में कार्य करता है और उसके कार्य की एक योजना है। परमेश्वर पहले देहधारी होता है और मनुष्य को बचाने का अपना कार्य करने के लिए गुप्त रूप से आता है, और फिर वह बादल पर सवार होकर, सज्जनों को पुरस्कार और दुष्टों को दंड देने के लिए सबके सामने प्रकट होता है।



अंत के दिनों में प्रभु क्या काम करने के लिए आता है?

परमेश्वर पहले गुप्त रूप से क्यों आता है? यह परमेश्वर के उस कार्य के बारे में है जो परमेश्वर अंत के दिनों में प्रकट होकर करता है। चलो बाइबल के इन पदों को पढ़ें: "क्योंकि वह समय आ पहुँचा है कि पहले परमेश्‍वर के लोगों का न्याय किया जाए" (1 पतरस 4:17)। "जो मुझे तुच्छ जानता है और मेरी बातें ग्रहण नहीं करता है उसको दोषी ठहरानेवाला तो एक है: अर्थात् जो वचन मैं ने कहा है, वही पिछले दिन में उसे दोषी ठहराएगा" (यूहन्ना 12:48)। "उसने बड़े शब्द से कहा, 'परमेश्‍वर से डरो, और उसकी महिमा करो, क्योंकि उसके न्याय करने का समय आ पहुँचा है; और उसका भजन करो, जिसने स्वर्ग और पृथ्वी और समुद्र और जल के सोते बनाए'" (प्रकाशितवाक्य 14:7)। "जो जय पाए उसे मैं अपने परमेश्‍वर के मन्दिर में एक खंभा बनाऊँगा, और वह फिर कभी बाहर न निकलेगा" (प्रकाशितवाक्य 3:12)। "मुझे तुम से और भी बहुत सी बातें कहनी हैं, परन्तु अभी तुम उन्हें सह नहीं सकते। परन्तु जब वह अर्थात् सत्य का आत्मा आएगा, तो तुम्हें सब सत्य का मार्ग बताएगा" (यूहन्ना 16:12-13)। और परमेश्वर के वचन कहते हैं, "यद्यपि यीशु ने मनुष्यों के बीच अधिक कार्य किया, फिर भी उसने केवल समस्त मानवजाति के छुटकारे का कार्य पूरा किया और वह मनुष्य की पाप-बलि बना; उसने मनुष्य को उसके समस्त भ्रष्ट स्वभाव से छुटकारा नहीं दिलाया। मनुष्य को शैतान के प्रभाव से पूरी तरह से बचाने के लिए यीशु को न केवल पाप-बलि बनने और मनुष्य के पाप वहन करने की आवश्यकता थी, बल्कि मनुष्य को उसके शैतान द्वारा भ्रष्ट किए गए स्वभाव से मुक्त करने के लिए परमेश्वर को और भी बड़ा कार्य करने की आवश्यकता थी। और इसलिए, अब जबकि मनुष्य को उसके पापों के लिए क्षमा कर दिया गया है, परमेश्वर मनुष्य को नए युग में ले जाने के लिए वापस देह में लौट आया है, और उसने ताड़ना एवं न्याय का कार्य आरंभ कर दिया है। यह कार्य मनुष्य को एक उच्चतर क्षेत्र में ले गया है" ("वचन देह में प्रकट होता है" के लिए प्रस्तावना)।

इन पदों के माध्यम से हम देख सकते हैं कि जब प्रभु अंत के दिनों में लौटेगा, वह अधिक सत्य व्यक्त करेगा और न्याय का कार्य करेगा। वह हमारी भ्रष्टता का न्याय करने और उसे उजागर करने के लिए "वचन जो [वह स्वयं] बोला" का उपयोग करेगा, ताकि हम खुद पर विचार कर सकें, सच्चा पश्चाताप करें और बदलें, अंततः परमेश्वर द्वारा शुद्ध किये जायें और वो विजेता बनें जिन्हें उसके राज्य में ले जाया जाता है। इसका कारण है कि भले ही प्रभु यीशु द्वारा हमें छुटकारा मिल गया है और हमारे पापों को क्षमा कर दिया गया है, लेकिन हमारे पाप की जड़, यानी हमारी पापी प्रकृति हमारे अंदर गहराई से पैठ जमाये है और हम इसके द्वारा नियंत्रित होते हैं, हम अक्सर पाप करते रहने के अलावा और कुछ नहीं कर सकते। ये सिर्फ कुछ उदाहरण हैं: जब दूसरे लोग हमारे हितों के खिलाफ जाकर काम करते हैं, तो हम उनसे नफरत कर सकते हैं और यहाँ तक कि उनसे नाराज हो जाते हैं; आम तौर पर, हम कहते हैं कि हम परमेश्वर के प्रति निष्ठावान रहेंगे और उसकी आज्ञा मानेंगे, लेकिन जब कुछ ऐसा होता है जो हमें पसंद नहीं होता, तो हम परमेश्वर को गलत समझते हैं और उसे दोष देते हैं और गंभीर मामलों में तो हम परमेश्वर को छोड़ तक देते हैं। इससे पता चलता है कि हमने पाप की बेड़ियों और बंधनों से खुद को नहीं छुड़ाया है, हम अभी भी पाप करने और फिर उसे स्वीकार करने की अवस्था में रह रहे हैं, हमें देहधारी परमेश्वर की आवश्यकता है जो हमें हमेशा के लिए भ्रष्टाचार से मुक्त करे और न्याय का कार्य करे। जब हम परमेश्वर की वाणी सुनते हैं, परमेश्वर के समक्ष बढाये जाते हैं, और उसके वचनों के न्याय और ताड़ना का अनुभव करते हैं, जब हमारे भ्रष्ट स्वभावों को शुद्ध किया जाता है, तो हम किसी भी परिस्थिति में परमेश्वर को समर्पित हो सकते हैं, उसकी आराधना कर सकते हैं और उससे प्रेम कर सकते हैं, यानी जब हम परमेश्वर द्वारा विजेता बनाये जाते हैं। प्रकाशितवाक्य की किताब की भविष्यवाणी के रूप में ये 14,4000 विजेता हैं, और यह प्रकाशितवाक्य के अध्याय 14, पद 4 में पूरी तरह से पूर्ण होती है: "ये वे हैं जो स्त्रियों के साथ अशुद्ध नहीं हुए, पर कुँवारे हैं; ये वे ही हैं कि जहाँ कहीं मेम्ना जाता है, वे उसके पीछे हो लेते हैं; ये तो परमेश्‍वर के निमित्त पहले फल होने के लिये मनुष्यों में से मोल लिए गए हैं।" अगर प्रभु पहले सम्पूर्ण महिमा के साथ एक बादल पर लौट आये, तो सभी लोग उसकी आराधना के लिए खुद को दंडवत करेंगे। फिर मनुष्य की प्रकृति के भीतर बसे परमेश्वर के प्रति विद्रोह और विरोध को उजागर करना मुमकिन नहीं होगा, और परमेश्वर के लिए हमारा न्याय करते हुए हमारी भ्रष्टता की अभिव्यक्तियों को लक्ष्य बनाकर सत्य व्यक्त करना निराधार होगा। यहाँ तक कि अगर परमेश्वर ने हमारे भ्रष्ट सार को प्रकट भी किया, तो हम इसे स्वीकार नहीं करेंगे, और हम शुद्ध किये और बदले नहीं जा सकेंगे। ऐसा होने पर, परमेश्वर विजेता बनाने के अपने कार्य को करने में असमर्थ होगा।

इसके अलावा, अंत के दिनों में, परमेश्वर हर तरह के इंसान को उजागर करेगा, हर एक को उसकी किस्म के अनुसार अलग करेगा, सज्जनों को पुरस्कृत और दुष्टों को दंडित करेगा। अगर प्रभु सम्पूर्ण महिमा के साथ एक बादल पर लौट आये, तो सभी लोग उसे देख सकेंगे, उसका स्वागत करने और उसके प्रति समर्पित होने के लिए खुद को जमीन पर दंडवत करेंगे। कोई भी इंसान, चाहे वह परमेश्वर को मानता हो या शैतान से वास्ता रखता हो, चाहे वह सत्य से प्रेम करता हो या नहीं, चाहे वह परमेश्वर की आज्ञा मानता हो या उसका विरोध करता हो, परमेश्वर द्वारा उजागर नहीं किया जा सकता। फिर बाइबल में जैसा कहा गया है, कटाई और छंटाई और हर एक को उसकी किस्म के अनुसार अलग करने, बकरियों में से भेड़ को और गेहूँ में से भूसे को अलग करने का काम पूरा नहीं हो सकता। हालाँकि परमेश्वर जानता है कि कौन अच्छा है और कौन बुरा, फिर भी अगर लोगों को उजागर नहीं किया गया, तो वे इसे स्वीकार नहीं करेंगे, इससे सहमत होने की बात तो दूर रही। इसलिए यह स्पष्ट है कि परमेश्वर हमेशा के लिए मनुष्य को बचाने के लिए, विजताओं का समूह बनाने के लिए और हर एक को उसकी किस्म के अनुसार अलग करने के लिए अंत के दिनों में न्याय का कार्य करता है। ऐसा करने के लिए, उसे पहले देहधारण करना होगा और गुप्त रूप से आना होगा। एक बार जब विजेताओं का समूह बना दिया जाता है, परमेश्वर के गुप्त कार्य की अवधि पूर्ण हो जाती है, उसके बाद ही परमेश्वर खुले तौर पर बादलों के साथ आयेगा, सज्जनों को पुरस्कार और दुष्टों को दंड देना शुरू करने के लिए सभी राष्ट्रों और लोगों के सामने प्रकट होगा। वे सभी जिन्होंने परमेश्वर के न्याय के कार्य को स्वीकार कर लिया है और जिन्हें शुद्ध किया गया है, अंततः परमेश्वर के राज्य में ले जाये जायेंगे, जबकि वे जिन्होंने देहधारी परमेश्वर के कार्य को स्वीकार नहीं किया है, और जो परमेश्वर का विरोध, तिरस्कार और निंदा करते हैं, उन सभी को दुष्ट सेवकों और जंगली घास के रूप में उजागर किया जायेगा। आपदाओं में ऐसे लोग ज्यादा विलाप करते और दांत पीसते रह जाएंगे और उन सभी लोगों को मिटा दिया जायेगा। इसके बाद ही प्रकाशितवाक्य की किताब की यह भविष्यवाणी पूरी होगी: "देखो, वह बादलों के साथ आनेवाला है, और हर एक आँख उसे देखेगी, वरन् जिन्होंने उसे बेधा था वे भी उसे देखेंगे, और पृथ्वी के सारे कुल उसके कारण छाती पीटेंगे" (प्रकाशितवाक्य 1:7)।

हमें प्रभु के प्रकटन और कार्य का अभिवादन कैसे करना चाहिए?

जबकि देहधारी परमेश्वर गुप्त रूप से कार्य कर रहा है, हम प्रभु का स्वागत करने में सक्षम होने के लिए क्या कर सकते हैं? प्रकाशितवाक्य 3:20 कहता है: "देख, मैं द्वार पर खड़ा हुआ खटखटाता हूँ; यदि कोई मेरा शब्द सुनकर द्वार खोलेगा, तो मैं उसके पास भीतर आकर उसके साथ भोजन करूँगा और वह मेरे साथ।" मत्ती 25:6 कहता है: "आधी रात को धूम मची: 'देखो, दूल्हा आ रहा है! उससे भेंट करने के लिये चलो।'" इन पदों के माध्यम से हम देख सकते हैं कि अंत के दिनों में परमेश्वर अपने कथनों का उपयोग हमारे दरवाजों पर दस्तक देने के लिए और लोगों के कोलाहल का उपयोग हमें यह खबर देने के लिए करेगा कि दूल्हा वापस आ गया है। जब कोई हमारे लिए सुसमाचार का प्रचार करता है, तो हमें खुले हृदय से खोज करनी चाहिए और परमेश्वर की वाणी पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। जब हम इसे परमेश्वर की वाणी के रूप में पहचानने लगते हैं, तब हमें जल्द ही इसे स्वीकार करना और समर्पित होना होगा और अंत के दिनों में परमेश्वर के कार्य के साथ तालमेल रखना होगा। प्रभु की वापसी का अभिवादन करने का यही अर्थ है।

इस समय, सिर्फ सर्वशक्तिमान परमेश्वर की कलीसिया खुलेआम गवाही दे रही है कि प्रभु गुप्त रूप से देह में आ गया है और वह सर्वशक्तिमान परमेश्वर, अंत के दिनों का मसीह है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने लाखों वचन व्यक्त किये हैं और वह परमेश्वर के घर से शुरू होने वाले न्याय का कार्य करता है, जो उसके समक्ष आता है, उन सभी का शुद्दिकरण और संशोधन करता है। सर्वशक्तिमान परमेश्वर प्रकट होकर लगभग 30 सालों से अपना कार्य कर रहा है, और उसने पहले ही विजेताओं का एक समूह बना लिया है—परमेश्वर का न्याय का कार्य अब पूर्णता के करीब है। पूरी दुनिया में एक के बाद एक आपदाएँ आ रही हैं; नूह के दिन नज़दीक आ गये हैं। हमें बुद्धिमान कुंवारियाँ बनना होगा और सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अंत के दिनों के कार्य की जांच करने में शीघ्रता करनी होगी, ऐसा करने पर ही हमारे पास प्रभु का स्वागत करने और आपदाओं के आने से पहले स्वर्ग में उठाये जाने का मौका होगा। अगर हम प्रभु के बादलों के साथ आने वाले विचार से चिपके रहते हैं, देहधारी परमेश्वर के कार्य की खोज और जांच करने से इनकार करते हैं, तो हम प्रभु द्वारा त्याग दिए और हटा दिए जायेंगे, हम दंडित किये जायेंगे और आपदाओं में मिट जायेंगे। यह वैसा ही है जैसा सर्वशक्तिमान परमेश्वर कहता है: "कई लोग मैं क्या कहता हूँ इसकी परवाह नहीं करते हैं, किंतु मैं ऐसे हर तथाकथित संत को बताना चाहता हूँ जो यीशु का अनुसरण करते हैं, कि जब तुम लोग यीशु को एक श्वेत बादल पर स्वर्ग से उतरते हुए अपनी आँखों से देखो, तो यह धार्मिकता के सूर्य का सार्वजनिक प्रकटन होगा। शायद वह तुम्हारे लिए एक बड़ी उत्तेजना का समय होगा, मगर तुम्हें पता होना चाहिए कि जिस समय तुम यीशु को स्वर्ग से उतरते हुए देखोगे, यही वह समय भी होगा जब तुम दण्ड दिए जाने के लिए नीचे नरक में चले जाओगे। वह परमेश्वर की प्रबंधन योजना की समाप्ति का समय होगा, और यह तब होगा जब परमेश्वर सज्जन को पुरस्कार और दुष्ट को दण्ड देगा। क्योंकि परमेश्वर का न्याय मनुष्य के संकेतों को देखने से पहले ही समाप्त हो चुका होगा, जब वहाँ सिर्फ़ सत्य की अभिव्यक्ति ही होगी" ("वचन देह में प्रकट होता है" में "जब तक तुम यीशु के आध्यात्मिक शरीर को देखोगे, तब तक परमेश्वर स्वर्ग और पृथ्वी को नया बना चुका होगा")।



दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

विभिन्न युगों में परमेश्वर के अलग-अलग नाम का क्या महत्व है

यहोवा परमेश्वर ने पुराने नियम में हमें स्पष्ट रूप से बताया है: "मैं ही यहोवा हूँ और मुझे छोड़ कोई उद्धारकर्ता नहीं" (यशायाह 43:11)। "यहोवा...

इन चार बातों को समझने से, परमेश्वर के साथ हमारा रिश्ता और भी क़रीबी हो जाएगा

लेखिका: ज़ियोमो, चीन बाइबल कहती है, "परमेश्‍वर के निकट आओ तो वह भी तुम्हारे निकट आएगा" (याकूब 4:8)। ईसाई होने के नाते, केवल परमेश्वर के...

अंत के दिनों की भविष्यवाणियां पूरी हो चुकी हैं: यीशु मसीह के आगमन का स्वागत कैसे करें

लेखक: एन्युआन, फ़िलीपींस सूचीपत्र प्रभु का आगमन कैसे होगा? लौटकर आने पर प्रभु कौन सा काम करेगा? प्रभु की वापसी का स्वागत कैसे करें...

जब प्रभु यीशु अंत के दिनों में दरवाज़े पर दस्तक देते हैं, तो हमें उनका स्वागत कैसे करना चाहिये?

शियाओ फेई परमेश्वर पर विश्वास करने में मेरे प्रवेश के बाद, भाइयों और बहनों को "द गुड मैन इज़ नॉकिंग एट द डोर" ('भला आदमी दरवाज़े पर दस्तक दे...