2021 Hindi Christian Testimony Video | अ‍पने कर्तव्य में अपनी मंशाएँ सुधारना

09 अक्टूबर, 2021

इस वीडियो में, मुख्य किरदार को एक कलीसिया अगुआ के रूप में चुना जाता है। पहले तो वह यह सोचती है कि बतौर अगुआ सत्य पर उसकी संगति दूसरों से स्पष्ट होनी चाहिए, उसे समस्याओं के सार को समझने में सक्षम होना चाहिए, और उसे भाई-बहनों को जीवन में उनके प्रवेश को लेकर आने वाली हर समस्या हल करने में सक्षम होना चाहिए। उसे लगता है कि दूसरों का आदर और समर्थन पाने का यही एक तरीका है। कर्तव्य से जुड़ा उसका शुरुआती बिंदु और उसके इरादे सही नहीं हैं—वह निरंतर एक अगुआ के रूप में अपने ओहदे को बरकरार रखने के बारे में ही सोच रही है, उसे यह डर है कि अगर उसने दूसरों की समस्याएँ न सुलझाईं तो वे उसका मान नहीं करेंगे, और वह सभाओं में हमेशा बहुत घबराई हुई रहती है। परिणामस्वरूप, उसकी संगति बेजान होती है और सभाएं दिनोदिन अपना प्रभाव खोने लगती हैं। समस्या आखिर है कहाँ? इसके समाधान के लिए वह सत्य की खोज कैसे करती है? और परमेश्वर के कौन-से वचनों में उसे अभ्यास और प्रवेश करने का मार्ग प्राप्त होता है? इसे जानने के लिए अ‍पने कर्तव्य में अपनी मंशाएँ सुधारना देखें।

और देखें

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

साझा करें

रद्द करें