परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर का कार्य और मनुष्य का अभ्यास" | अंश 156

परमेश्वर के दैनिक वचन | "परमेश्वर का कार्य और मनुष्य का अभ्यास" | अंश 156

202 |06 अगस्त, 2020

जिसमें दर्शन शामिल हैं वह मुख्यतः स्वयं परमेश्वर के कार्य की ओर संकेत करता है, और जिसमें रीति व्यवहार शामिल होता है उसे मनुष्य के द्वारा किया जाना चाहिए, और इसका परमेश्वर से कोई सम्बन्ध नहीं होता है। परमेश्वर के कार्य को स्वयं परमेश्वर के द्वारा पूर्ण किया गया है, और मनुष्य के रीति व्यवहार को स्वयं मनुष्य के द्वारा हासिल किया गया है। जिसे स्वयं परमेश्वर द्वारा किया जाना चाहिए उसे मनुष्य के द्वारा किए जाने की आवश्यकता नहीं है, और जिसका मनुष्य के द्वारा अभ्यास किया जाना चाहिए उससे परमेश्वर का कोई सम्बन्ध नहीं है। परमेश्वर का कार्य स्वयं उसकी सेवकाई है, और इसका मनुष्य से कोई सम्बन्ध नहीं है। इस कार्य को मनुष्य के द्वारा किए जाने की कोई जरूरत नहीं है, और, इससे बढ़कर, मनुष्य उस कार्य को करने में असमर्थ है जिसे परमेश्वर के द्वारा किया जाना है। जिसका अभ्यास करने के लिए मनुष्य से अपेक्षा की जाती है उसे मनुष्य के द्वारा पूरा किया जाना चाहिए, चाहे यह उसके जीवन का बलिदान हो, या गवाही देने के लिए उसे शैतान के हवाले करना हो—इन सब को मनुष्य के द्वारा पूरा किया जाना चाहिए। स्वयं परमेश्वर समस्त कार्य को पूरा करता है जिसे उसे पूरा करना चाहिए, और जिसे मनुष्य को करना चाहिए उसे मनुष्य को दिखाया गया है, तथा बाकि बचा हुआ कार्य मनुष्य पर छोड़ दिया गया है। परमेश्वर अतिरिक्त कार्य नहीं करता है। वह केवल उसी कार्य को करता है जो उसकी सेवकाई के अंतर्गत है, और वह केवल मनुष्य को मार्ग दिखाता है, तथा केवल मार्ग को खोलने का ही कार्य करता है, और मार्ग प्रशस्त करने का कार्य नहीं करता है; इसे मनुष्य के द्वारा समझा जाना चाहिए। सत्य को अभ्यास में लाने का अर्थ है परमेश्वर के वचनों को अभ्यास में लाना, और यह सब मनुष्य का कर्तव्य है, और यह वह है जिसे मनुष्य के द्वारा किया जाना चाहिए, और इसका परमेश्वर के साथ कोई लेना देना नहीं है। यदि मनुष्य मांग करता है कि परमेश्वर भी मनुष्य के समान उसी रीति से कष्ट उठाए और सत्य में परिष्कृत हो, तो मनुष्य अनाज्ञाकारी हो गया है। परमेश्वर का कार्य अपनी सेवकाई करना है, तथा मनुष्य का कर्तव्य है कि वह बिना किसी प्रतिरोध के परमेश्वर के सभी मार्गदर्शन को माने। वह जिसे मनुष्य को अवश्य प्राप्त करना है वह उसे पूरा करने के योग्य है, उस तरीके के बावजूद जिसके अंतर्गत परमेश्वर कार्य करता हैं एवं रहता है। केवल स्वयं परमेश्वर ही मनुष्य से अपेक्षाएं कर सकता है, कहने का तात्पर्य है, केवल स्वयं परमेश्वर ही मनुष्य से अपेक्षाएं करने के लिए उपयुक्त है। मनुष्य के पास कोई विकल्प नहीं होना चाहिए, उसे पूरी तरह से अधीन होने और अभ्यास करने के सिवाए कुछ नहीं करना चाहिए; यही वह एहसास है जिसे मनुष्य के द्वारा धारण किया जाना चाहिए। जब एक बार वह कार्य पूरा हो जाता है जिसे स्वयं परमेश्वर के द्वारा किया जाना चाहिए, तो मनुष्य से अपेक्षा की जाती है कि वह कदम दर कदम इसका अनुभव करे। यदि, अंत में, जब परमेश्वर का सम्पूर्ण प्रबंधन पूरा हो जाता है, जब मनुष्य ने अब तक वह कार्य नहीं किया है जिसकी अपेक्षा परमेश्वर के द्वारा की गई है, तो मनुष्य को दण्ड दिया जाना चाहिए। यदि मनुष्य परमेश्वर की अपेक्षाओं को पूरा नहीं करता है, तो यह मनुष्य की अनाज्ञाकारिता के कारण है; इसका अर्थ यह नहीं है कि परमेश्वर ने अपने कार्य को सावधानी से नहीं किया है। वे सभी जो परमेश्वर के वचनों को अभ्यास में नहीं ला सकते हैं, वे जो परमेश्वर की अपेक्षाओं को पूरा नहीं कर सकते हैं, और वे जो अपनी वफादारी नहीं दे सकते हैं और अपने कर्तव्य को निभा नहीं सकते हैं—उन सभी को दण्ड दिया जाएगा। आज, जो कुछ हासिल करने की अपेक्षा तुम सब से की जाती है वे अतिरिक्त मांगे नहीं हैं, किन्तु मनुष्य के कर्तव्य हैं, और वह है जिसे समस्त लोगों के द्वारा किया जाना चाहिए। यदि तुम लोग अपने कर्तव्य को निभाने, या इसे भली भांति करने में भी असमर्थ हो, तो क्या तुम सब स्वयं अपने ऊपर मुसीबतें नहीं ला रहे हो? क्या तुम लोग मृत्यु की याचना नहीं कर रहे हो? तुम लोग अब भी भविष्य एवं संभावनाओं की आशा कैसे कर सकते हो? परमेश्वर का कार्य मानवजाति के लिए है, तथा मनुष्य का सहयोग परमेश्वर के प्रबंधन के लिए है। जब परमेश्वर ने वह सब कुछ किया जिसको करने की उससे अपेक्षा की गई उसके पश्चात्, मनुष्य से अपेक्षा की जाती है कि वह अपने रीति व्यवहार में उदार हो, और परमेश्वर के साथ सहयोग करे। परमेश्वर के कार्य में, मनुष्य को कोई कसर बाकी नहीं रखना चाहिए, उसे अपनी वफादारी अर्पित करनी चाहिए, और अनगिनत अवधारणाओं में सलंग्न नहीं होना चाहिए, या निष्क्रिय होकर बैठना और मृत्यु की प्रतीक्षा नहीं करनी चाहिए। परमेश्वर मनुष्य के लिए स्वयं को बलिदान कर सकता है, अतः मनुष्य क्यों परमेश्वर के प्रति अपनी वफादारी को अर्पित नहीं कर सकता है? परमेश्वर मनुष्य के प्रति एक हृदय एवं एक मस्तिष्क का है, अतः मनुष्य क्यों थोड़ा सा भी सहयोग अर्पित नहीं कर सकता है? परमेश्वर मानवजाति के लिए कार्य करता है, अतः मनुष्य क्यों परमेश्वर के प्रबंधन के लिए अपने कुछ कर्तव्य पूरा नहीं कर सकता है? परमेश्वर का कार्य इतनी दूर तक आ गया है, फिर भी तुम लोग अभी भी देखते रहते हो किन्तु कोई कार्य नहीं करते हो, तुम लोग सुनते तो हो किन्तु हिलते नहीं। क्या ऐसे लोग विनाश के पात्र नहीं हैं? परमेश्वर ने पहले ही अपना सर्वस्व मनुष्य को अर्पित कर दिया है, अतः आज मनुष्य ईमानदारी से अपना कर्तव्य निभाने में असमर्थ क्यों है? परमेश्वर के लिए, उसका कार्य उसकी प्राथमिकता है, और उसके प्रबंधन का कार्य अत्यंत महत्वपूर्ण है। मनुष्य के लिए, परमेश्वर के वचनों को अभ्यास में लाना और परमेश्वर की अपेक्षाओं को पूरा करना ही उसकी प्राथमिकता है। तुम सब को इसे समझना चाहिए। तुम सभी से कहे गए वचन तुम्हारे सार-तत्व के केन्द्रीय भाग में पहुँच गए हैं, और परमेश्वर का कार्य अभूतपूर्व क्षेत्र में प्रवेश कर चुका है। अनेक लोग अभी भी सच्चाई को या इस मार्ग के झूठ को नहीं समझते हैं; वे अभी भी प्रतीक्षा कर रहे हैं और देख रहे हैं, और अपने कर्तव्य को नहीं निभा रहे हैं। इसके बजाए, वे परमेश्वर के द्वारा दिए गए प्रत्येक वचन एवं कार्य को जांचते हैं, वे इस बात पर ध्यान केन्द्रित करते हैं कि वह क्या खाता है एवं पहनता है, तथा उनकी अवधारणाएं और भी अधिक दुखदायी हो गई हैं। क्या ऐसे लोग बात का बतंगड़ नहीं बना रहे हैं? इस प्रकार के लोग कैसे ऐसे मनुष्य हो सकते हैं जो परमेश्वर को खोजते हैं? और वे कैसे ऐसे लोग हो सकते हैं जो जानते बूझते परमेश्वर के अधीन होते हैं? वे अपनी वाफदारी एवं कर्तव्य को अपने मस्तिष्क के पीछे रखते हैं, और इसके बजाए परमेश्वर के पते ठिकाने पर ध्यान केन्द्रित करते हैं। वे उपद्रवी हैं! यदि मनुष्य ने वह सब कुछ समझ लिया है जिसे समझने की अपेक्षा उससे की जाती है, और यदि वह उन सब को अभ्यास में ला चुका है जिसे अभ्यास में लाने की अपेक्षा उससे की जाती है, तो परमेश्वर निश्चय ही अपनी आशीषें मनुष्य को प्रदान करेगा, क्योंकि जो अपेक्षा परमेश्वर मनुष्य से करता है वह मनुष्य का कर्तव्य है, और यह वह है जिसे मनुष्य के द्वारा किया जाना चाहिए। यदि मनुष्य यह समझने में असमर्थ है कि किस बात को समझने के लिए उससे अपेक्षा की जाती है, और यदि वह उसे अभ्यास में लाने में असमर्थ है जिसे उसे अभ्यास में लाना चाहिए, तो मनुष्य को दण्ड दिया जाएगा। ऐसे लोग जो परमेश्वर के साथ सहयोग नहीं करते हैं वे परमेश्वर के प्रति शत्रुता रखते हैं, ऐसे लोग जो नए कार्य को स्वीकार नहीं करते हैं वे इसके विरुद्ध हैं, हालाँकि इस प्रकार के लोग ऐसा कुछ नहीं करते हैं जो स्पष्ट रूप से इसके विरुद्ध हो। वे सभी जो सत्य को अभ्यास में नहीं लाते है जिसकी अपेक्षा परमेश्वर के द्वारा की जाती है तो वे ऐसे लोग हैं जो जानबूझकर परमेश्वर के वचनों का विरोध करते हैं और उसके प्रति अनाज्ञाकारी हैं, भले ही ऐसे लोग पवित्र आत्मा के कार्य के प्रति "विशेष ध्यान" देते हों। ऐसे लोग जो परमेश्वर के वचनों का पालन नहीं करते हैं और परमेश्वर के अधीन नहीं होते हैं वे विद्रोही हैं, तथा वे परमेश्वर के विरोध में हैं। वे लोग जो अपने कर्तव्य को नहीं निभाते हैं वे ऐसे लोग हैं जो परमेश्वर के साथ सहयोग नहीं करते हैं, और वे लोग जो परमेश्वर के साथ सहयोग नहीं करते हैं वे ऐसे लोग हैं जो पवित्र आत्मा के कार्य को स्वीकार नहीं करते हैं।

— 'वचन देह में प्रकट होता है' से उद्धृत

सब
दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

साझा करें

रद्द करें