परमेश्वर के दैनिक वचन | "केवल पूर्ण बनाया गया ही एक सार्थक जीवन जी सकता है" | अंश 89

97 |08 अगस्त, 2020

जो कार्य अब किया जा रहा है वह लोगों से शैतान का त्याग करवाने, उनके पुराने पूर्वजों का त्याग करवाने के लिए किया जा रहा है। वचन के द्वारा सभी न्यायों का उद्देश्य मानवता के भ्रष्ट स्वभाव को उजागर करना है और लोगों को जीवन का सार समझने में समर्थ बनाना है। ये बार-बार के न्याय मनुष्य के हदयों को छेद देते हैं। प्रत्येक न्याय सीधे उनके भाग्य पर प्रभाव डालता है और उनके हृदयों को घायल करने के आशय से है ताकि वे उन सभी बातों को जाने दें और फलस्वरूप जीवन के बारे में जान जाएँ, इस गंदी दुनिया को जान जाएँ, और परमेश्वर की बुद्धि और सर्वशक्तिमत्ता को जान जाएँ तथा इस शैतान के द्वारा भ्रष्ट की गई मानवजाति को जान जाएँ। जितना अधिक इस प्रकार की ताड़ना और न्याय होते हैं, उतना ही अधिक मनुष्य का हृदय घायल किया जा सकता है और उतना ही अधिक उसकी आत्मा को जगाया जा सकता है। इन अत्यधिक भ्रष्ट और गहराई से धोखा देने वाले लोगों की आत्माओं को जगाना इस प्रकार के न्याय का लक्ष्य है। मनुष्य की कोई आत्मा नहीं है, अर्थात्, उसकी आत्मा बहुत समय पहले मर गई है और वह नहीं जानता है कि एक स्वर्ग है, नहीं जानता कि एक परमेश्वर है और निश्चित रूप से नहीं जानता कि वह मौत की खाई में संघर्ष कर रहा है; वह संभवतः किस प्रकार से जानने में समर्थ हो सकता है कि वह पृथ्वी पर इस दुष्ट नरक में जी रहा है? वह संभवतः कैसे जानने में समर्थ हो सकेगा कि उसका यह सड़ा हुआ शव, शैतान की भ्रष्टता के माध्यम से, मृत्यु के अधोलोक में गिर गया है? वह संभवतः कैसे जान सकेगा कि पृथ्वी पर प्रत्येक चीज़ मानवजाति के द्वारा काफी समय पहले ही सुधार किए जाने से परे तक बर्बाद कर दी गई है? और वह संभवतः कैसे जान सकेगा कि आज सृष्टा पृथ्वी पर आया है और भ्रष्ट लोगों के एक समूह को ढूँढ़ रहा है जिसे वह बचा सकता है? मनुष्य के द्वारा हर संभव शुद्धिकरण और न्याय का अनुभव करने के बाद भी, उसकी सुस्त चेतना नाममात्र को ही उत्तेजित होती है और लगभग पूरी तरह से उदासीन रहती है। मानवता इतनी पतित है! यद्यपि इस प्रकार का न्याय आसमान से गिरने वाले क्रूर ओलों के समान है, किन्तु यह मनुष्य के लिए सबसे बड़ा फ़ायदा है। यदि इस तरह से मनुष्यों का न्याय ना हो, तो कोई भी परिणाम नहीं निकलेगा और मनुष्य को दुर्भाग्य की खाई से बचाना नितान्त असम्भव हो जाएगा। यदि इस कार्य के लिए न हो, तो लोगों का अधोलोक से बाहर निकलना बहुत ही कठिन हो जाएगा क्योंकि उनके हृदय बहुत पहले ही मर चुके हैं और उनकी आत्माओं को शैतान के द्वारा बहुत पहले ही कुचल दिया गया है। तुम लोगों को बचाने के लिए, जो कि पतन की गहराईयों में डूब चुके हो, तुम लोगों को सख़्ती से पुकारने, तुम्हारा सख़्ती से न्याय करने की आवश्यकता है, और केवल तभी तुम लोगों के बर्फ जैसे ठंडे हृदयों को जगाया जा सकता है।

— 'वचन देह में प्रकट होता है' से उद्धृत

सब
दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

साझा करें

रद्द करें