अपना कर्तव्य करने का अर्थ है भरसक प्रयत्न करना | Hindi Christian Song With Lyrics

29 मई, 2020

जिस प्रभु यीशु के लिए हम तरस रहे हैं, वह लौट आया है! क्या आप अंत के दिनों में परमेश्वर के प्रकटन और कार्य को जानना चाहते हैं? क्या आप परमेश्वर के अंत समय के उद्धार को प्राप्त करना चाहते हैं? बेझिझक हमसे संपर्क करें।

अधिक देखें परमेश्वर के वचनों के भजन

https://www.youtube.com/playlist?list=PLzsaXtMKhYhfuIJjiRPDakv36LcacfYRD

इंसान का फ़र्ज़ निभाना, दरअसल,

है पूरा करना अपना निहित सभी,

जो भी हो संभव वो करना,

उसका फ़र्ज़ पूरा होगा तभी।

सेवा के दौरान इंसान के दोष

कम हो जाते हैं

अनुभव से, न्याय किए जाने से;

वे उसके फ़र्ज़ में ख़लल नहीं डालते।

जो सेवा बंद करते, समझौता करते,

अपनी सेवा में दोष के डर से

जो पीछे हट जाते हैं,

वे ही सबसे कायर होते हैं।

इंसान का फ़र्ज़ निभाना, दरअसल,

है पूरा करना अपना निहित सभी,

जो भी हो संभव वो करना,

उसका फ़र्ज़ पूरा होगा तभी।

इंसान का फ़र्ज़ निभाना, दरअसल,

है पूरा करना अपना निहित सभी,

जो भी हो संभव वो करना,

उसका फ़र्ज़ पूरा होगा तभी।

यदि ईश्वर सेवा में इंसान

कह न पाए जो कहना चाहिए

न पा सके अपने साध्य को,

लापरवाही, बेमन से काम करे,

तो वो खो देता है अपना मानवी फ़र्ज़।

ऐसा इंसान समझा जाता है साधारण और कचरा।

उसे सृजित प्राणी कैसे बुलाए कोई?

बाहर से चमकते हुए वो क्या भीतर से सड़ रहा नहीं?

इंसान का फ़र्ज़ निभाना, दरअसल,

है पूरा करना अपना निहित सभी,

जो भी हो संभव वो करना,

उसका फ़र्ज़ पूरा होगा तभी।

इंसान का फ़र्ज़ निभाना, दरअसल,

है पूरा करना अपना निहित सभी,

जो भी हो संभव वो करना,

उसका फ़र्ज़ पूरा होगा तभी, पूरा होगा तभी।

"मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना" से

WhatsApp: +91-875-396-2907

और देखें

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

साझा करें

रद्द करें