2021 Hindi Christian Testimony Video | रुतबे को छोड़ना आसान नहीं था

20 सितम्बर, 2021

वह एक धार्मिक अगुआ है और 30,000 से अधिक विश्वासियों की अगुवाई करता है, और फिर एक साथी कार्यकर्ता उसके साथ परमेश्वर के अंत के दिनों का सुसमाचार साझा करता है। वह जब सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन पढ़ता है तो वह पहचान लेता है कि यह परमेश्वर की वाणी है और समझ जाता है कि सर्वशक्तिमान परमेश्वर वापस लौटा प्रभु यीशु ही है। फिर भी, धार्मिक जगत में अपना रुतबा खो देने की चिंता में वह कश्मकश और गहरी उलझन में पड़ जाता है। पहले उसे लगता है कि परमेश्वर के अंत के दिनों का कार्य स्वीकार करने के बाद वह कलीसिया के अगुआ के रूप में अपनी स्थिति बरकरार रख पाएगा, लेकिन फिर उसे सुसमाचार फैलाने का काम सौंप दिया जाता है। वह न केवल इससे बहुत विचलित हो जाता है, बल्कि वह नाम और लाभ के लिए अपने भागीदार रह चुके भाई के साथ लड़ाई-झगड़ा करने लगता है। बाद में उसे परमेश्वर के अनुशासन का सामना करना पड़ता है—पुलिस एक हत्यारा होने का आरोप लगाकर उसे गिरफ्तार कर लेती है और पीट-पीटकर अधमरा कर देती है। प्रार्थना और खोज से, वह रुतबे के लिए लड़ने की अपनी प्रवृत्ति को कुछ-कुछ समझने लगता है और उसे यह एहसास होता है कि वह मसीह-विरोधी के रास्ते पर चल रहा है। वह अपना पद छोडने, परमेश्वर के आयोजनों के सम्मुख समर्पण करने और अपना कर्तव्य निभाने के लिए तैयार हो जाता है। उसकी समझ में यह बात भी आ जाती है कि परमेश्वर की ताड़ना और न्याय पूरी तरह से मनुष्य जाति को शुद्ध करने के लिए हैं।

और देखें

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

साझा करें

रद्द करें