Hindi Christian Testimony Video Based on a True Story | एक तूफ़ान के बीच बड़ी होना

25 अक्टूबर, 2021

कम्युनिस्ट पार्टी की पुलिस 20 वर्ष की उम्र में ही मी शू का पीछा कर बाहर सुसमाचार साझा करते समय उसे गिरफ़्तार कर लेती है। पुलिस बड़ी क्रूरता के साथ उसे यातना देती है, उसे ललचाने और धमकाने के लिए तरह-तरह की चालें चलती है, और बाद में उसका मत परिवर्तन करने, उसे अपनी आस्था छोड़ने और अपने भाई-बहनों को धोखा देने पर मजबूर करने के लिए एक गुप्त सोच बदलाव केंद्र में ले जाती है। इस पूरे मुश्किल दौर में वह परमेश्वर का सहारा लेती है, और परमेश्वर के वचनों की प्रबुद्धता और मार्गदर्शन से वह शैतान के प्रलोभनों और हमलों पर बार-बार विजय पाती है। वह गवाही देती है और परमेश्वर का अनुसरण करने के अपने संकल्प पर डटी रहती है।

और देखें

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

साझा करें

रद्द करें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें