इंसान का फ़र्ज़ सृजित प्राणी का उद्यम है | Hindi Christian Song With Lyrics

31 मई, 2020

जिस प्रभु यीशु के लिए हम तरस रहे हैं, वह लौट आया है! क्या आप अंत के दिनों में परमेश्वर के प्रकटन और कार्य को जानना चाहते हैं? क्या आप परमेश्वर के अंत समय के उद्धार को प्राप्त करना चाहते हैं? बेझिझक हमसे संपर्क करें।

अधिक देखें परमेश्वर के वचनों के भजन

https://www.youtube.com/playlist?list=PLzsaXtMKhYhfuIJjiRPDakv36LcacfYRD

मानव के कर्तव्य का

सम्बंध नहीं उसके आशीर्वाद या अभिशाप दिए जाने से।

फ़र्ज़ है वो जो उसे करना चाहिए, बिन भुगतान और शर्त के।

आशीषित का मतलब है अच्छाई का आनंद लेना,

मानव के न्याय और सिद्धि के पश्चात्।

शापित का मतलब जो बदल न पाए अपना स्वभाव

उसे सहनी होंगी यातनाएँ।

मानव को पूरा करना चाहिए कर्तव्य।

उसे करना चाहिए जो वह कर सकता है,

चाहे वह आशीषित हो, या अभिशापित हो।

ये बनाता है उसे अनुयायी, ये बनाता है उसे अनुयायी ईश्वर का।

ये बनाता है उसे अनुयायी ईश्वर का।

तुम्हें न करना चाहिए कर्त्तव्य आशीषों के लिए,

न ही करो इनकार अभिशाप के डर से।

कर्त्तव्य पूरे होने चाहिए।

तुम्हारी हार का मतलब है कि तुम बाग़ी हो।

आशीषित का मतलब है अच्छाई का आनंद लेना,

मानव के न्याय और सिद्धि के पश्चात्।

शापित का मतलब जो बदल न पाए अपना स्वभाव

उसे सहनी होंगी यातनाएँ।

मानव को पूरा करना चाहिए कर्तव्य।

उसे करना चाहिए जो वह कर सकता है,

चाहे वह आशीषित हो, या अभिशापित हो।

ये बनाता है उसे अनुयायी, ये बनाता है उसे अनुयायी ईश्वर का।

ये बनाता है उसे अनुयायी ईश्वर का।

"मेमने का अनुसरण करना और नए गीत गाना" से

WhatsApp: +91-875-396-2907

और देखें

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

साझा करें

रद्द करें