Christian Testimony Video | परमेश्वर के वचनों ने मुझे बदल दिया

27 अगस्त, 2020

कलीसिया में अपने काम में, मुख्य किरदार अपनी काबिलियत और अनुभव का फ़ायदा उठाती है। वह घमंडी और अहंकारी है, दूसरों के सुझावों पर ध्यान नहीं देती। टीम की अगुआ बन जाने पर वह और भी ज़्यादा घमंडी हो जाती है, जिससे भाई-बहन उसके सामने बेबस महसूस करने लगते हैं और कलीसिया के काम को नुकसान पहुँचता है। दूसरी बहनों द्वारा उसकी आलोचना की जाती है और अगुआ द्वारा उससे निपटा जाता है। इस स्थिति में परमेश्वर के वचनों को पढ़कर वह कैसे सत्य की खोज करती है और कैसे खुद पर विचार करती है? और उसके बाद वह कैसे खुद को बदलती है? इन सबके बारे में आपको "परमेश्वर के वचनों ने मुझे बदल दिया" में पता चलेगा।

और देखें

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

साझा करें

रद्द करें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें