परमेश्वर के दैनिक वचन | "प्रस्तावना" | अंश 390

यद्यपि बहुत से लोग परमेश्वर पर विश्वास करते हैं, किंतु बहुत कम लोग समझते हैं कि परमेश्वर पर विश्वास करने का अर्थ क्या है, और परमेश्वर के मन के अनुरूप बनने के लिये उन्हें क्या करना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि यद्यपि लोग "परमेश्वर" शब्द और "परमेश्वर का कार्य" जैसे वाक्यांश से परिचित हैं, किंतु वे परमेश्वर को नहीं जानते हैं, और उससे भी कम वे उसके कार्य को जानते हैं। इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि तब वे सभी जो परमेश्वर को नहीं जानते हैं, वे दुविधायुक्त विश्वास रखते हैं। लोग परमेश्वर पर विश्वास करने को गंभीरता से नहीं लेते हैं, क्योंकि परमेश्वर पर विश्वास करना उनके लिये अत्यधिक अनजाना और अजीब है। इस प्रकार, वे परमेश्वर की माँग से कम पड़ते हैं। दूसरे शब्दों में, यदि लोग परमेश्वर को नहीं जानते हैं, तो वे उसके कार्य को भी नहीं जानते हैं, तब वे परमेश्वर के इस्तेमाल के योग्य नहीं हैं, और उससे भी कम यह कि वे परमेश्वर की इच्छा को पूरा नहीं कर सकते हैं। "परमेश्वर पर विश्वास" का अर्थ, यह विश्वास करना है कि परमेश्वर है; यह परमेश्वर पर विश्वास की सरलतम अवधारणा है। इससे बढ़कर यह बात है कि परमेश्वर है, यह मानना परमेश्वर पर सचमुच विश्वास करना नहीं है; बल्कि यह मजबूत धार्मिक प्रभाव के साथ एक प्रकार का सरल विश्वास है। परमेश्वर पर सच्चे विश्वास का अर्थ इस विश्वास के आधार पर परमेश्वर के वचनों और कामों का अनुभव करना है कि परमेश्वर सब वस्तुओं पर संप्रभुता रखता है। इस तरह से तुम अपने भ्रष्ट स्वभाव से मुक्त हो जाओगे, परमेश्वर की इच्छा को पूरा करोगे और परमेश्वर को जान जाओगे। केवल इस प्रकार की यात्रा के माध्यम से ही तुम्हें परमेश्वर पर विश्वास करने वाला कहा जा सकता है। मगर लोग परमेश्वर पर विश्वास को अक्सर बहुत सरल और तुच्छ मानते हैं। ऐसे लोगों का विश्वास अर्थहीन है और कभी भी परमेश्वर का अनुमोदन नहीं पा सकता है, क्योंकि वे गलत पथ पर चलते हैं। आज, अभी भी कुछ ऐसे लोग हैं जो अक्षरों में, खोखले सिद्धान्तों में परमेश्वर पर विश्वास करते हैं। वे इस बात से अनजान हैं कि परमेश्वर पर उनके विश्वास में कोई सार नहीं है, और कि वे परमेश्वर का अनुमोदन पाने में असमर्थ हैं, और तब भी वे परमेश्वर से शांति और पर्याप्त अनुग्रह के लिये प्रार्थना करते हैं। हमें रुक कर स्वयं से प्रश्न करना चाहिए: क्या परमेश्वर पर विश्वास करना पृथ्वी पर वास्तव में सबसे अधिक आसान बात है? क्या परमेश्वर पर विश्वास करने का अर्थ, परमेश्वर से अधिक अनुग्रह पाने की अपेक्षा कुछ नहीं है? क्या जो लोग परमेश्वर पर विश्वास करते हैं पर उसे नहीं जानते हैं; और जो उस पर विश्वास तो करते हैं पर उसका विरोध करते हैं, सचमुच उसकी इच्छा को पूरा करते हैं?

— 'वचन देह में प्रकट होता है' से उद्धृत

परमेश्वर पर भरोसे का सच्चा अर्थ

परमेश्वर में भरोसा तो बहुत लोग करते हैं, मगर उसके असली मायने कुछ ही समझते हैं, उसके दिल के साथ धड़कने के लिए क्या करें, वे नहीं समझते हैं। बहुतों ने सुना है ‘परमेश्वर और उसका काम’, मगर न उसे जानते हैं, ना उसका काम। कोई अचरज नहीं, उनका विश्वास अंधा है। वे संजीदा भी नहीं क्योंकि ये अनजाना और अनूठा है। यही वजह है, वो परमेश्वर की मांगों से बहुत पीछे हैं। परमेश्वर को, उसके काम को जाने बिना, क्या उसके काम आ सकोगे? क्या परमेश्वर की इच्छा पूरी कर सकोगे? क्या परमेश्वर की इच्छा पूरी कर सकोगे? उसके वजूद में विश्वास करना काफी नहीं। ये बहुत आसान है, धार्मिक भी। ये उसमें सच्ची आस्था की तरह नहीं। परमेश्वर पर सच्ची आस्था के मायने हैं, तुम उसके काम का, वचनों का अनुभव लेते हो, इस विश्वास पर, कि परमेश्वर का प्रभुत्व है हर चीज़ पर। फिर तुम भ्रष्ट स्वभाव से मुक्ति पा सकोगे, परमेश्वर की इच्छा पूरी कर उसे जान सकोगे। यही है परमेश्वर पर सच्चे विश्वास का रास्ता। यही है परमेश्वर पर सच्चे विश्वास का रास्ता।

बहुत से मानते हैं परमेश्वर में विश्वास करना है सरल और सतही। ऐसे विश्वास का मतलब नहीं। कैसे करें परमेश्वर स्वीकार? वे हैं गलत पथ पर। जिन्हें महज अक्षरों, खोखली तालीम पर भरोसा है, नहीं जानते उनका विश्वास ख्याली है, परमेश्वर को स्वीकार नहीं। फिर भी वे शांति और कृपा की प्रार्थना करते हैं। सोचो क्या इतना सरल है भरोसा करना। क्या ये है बस शांति और कृपा मांगना? क्या तुम उसकी इच्छा पूरी कर सकते हो, जबकि उसे जाने बिना उसका विरोध करते हो?

परमेश्वर के वजूद में विश्वास करना काफी नहीं। ये बहुत आसान है, धार्मिक भी। ये उसमें सच्ची आस्था की तरह नहीं। परमेश्वर पर सच्ची आस्था के मायने हैं, तुम उसके काम का, वचनों का अनुभव लेते हो, इस विश्वास पर, कि परमेश्वर का प्रभुत्व है हर चीज़ पर। फिर तुम भ्रष्ट स्वभाव से मुक्ति पा सकोगे, परमेश्वर की इच्छा पूरी कर उसे जान सकोगे। यही है परमेश्वर पर सच्चे विश्वास का रास्ता। यही है परमेश्वर पर सच्चे विश्वास का रास्ता। यही है परमेश्वर पर सच्चे विश्वास का रास्ता।

'मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ' से

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें