परमेश्वर के दैनिक वचन | "आरंभ में मसीह के कथन : अध्याय 15" | अंश 51

सभी कलीसियाओं में परमेश्वर पहले से ही प्रकट हो चुका है। आत्मा बोल रहा है, वह एक प्रबल अग्नि है, उसमें महिमा है और वह न्याय कर रहा है; वह मनुष्य का पुत्र है, जो पाँवों तक का वस्त्र पहने हुए है और छाती पर सोने की पटुका बाँधे हुए है। उसके सिर और बाल श्‍वेत ऊन के समान उज्ज्वल हैं, और उसकी आँखें आग की ज्वाला के समान हैं; उसके पाँव उत्तम पीतल के समान हैं, मानो भट्ठी में तपे हुए हों; और उसके वचन अनेक जलों के समान हैं। वह अपने दाहिने हाथ में सात तारे लिए हुए है, और उसके मुख में तेज़ दोधारी तलवार है और उसका मुँह ऐसा प्रज्‍वलित है, जैसे सूर्य कड़ी धूप के समय चमकता हो!

सूर्य की कड़ी धूप के समय की चमक में, मनुष्य के पुत्र को देखा गया है, परमेश्वर ने अपने आप को खुले रूप से प्रकट किया है, परमेश्वर की महिमा प्रकट की गई है! परमेश्वर का गौरवशाली मुख अपनी चमक से चकाचौंध करता है; किसकी आंखें उसके प्रति अवज्ञा करने की हिम्मत कर सकती हैं? अवज्ञा का अर्थ है मृत्यु! अपने दिल में जो कुछ भी तुम सोचते हो, जो भी शब्द तुम कहते हो या जो कुछ भी तुम करते हो, उसके लिए थोड़ी-सी भी दया नहीं है। तुम लोग सब समझोगे और देखोगे कि तुम लोगों ने क्या पाया है—मेरे न्याय के अलावा कुछ नहीं! अगर तुम लोग मेरे वचनों को खाने और पीने के लिए अपना प्रयास नहीं करते हो, बल्कि मनमाने ढंग से बाधा डालते हो और मेरा निर्माण नष्ट करते हो, तो क्या मैं इसे बरदाश्‍त कर सकता हूं? मैं इस तरह के व्यक्ति के साथ नरमी नहीं करूंगा! यदि यह थोड़ा और गंभीर हुआ, तो तुम आग में भस्म हो जाओगे! सर्वशक्तिमान परमेश्वर एक आध्यात्मिक शरीर में प्रकट हुआ है, और सिर से पैर तक देह या रक्त से बिल्‍कुल जुड़ा नहीं है। वह ब्रह्मांडीय दुनिया से परे है, और तीसरे स्वर्ग के गौरवशाली सिंहासन पर बैठा प्रशासन करता है! ब्रह्मांड और सभी चीज़ें मेरे हाथों में हैं। मैं जो भी कहूंगा वही होगा। मेरा आदेश पूरा होगा। शैतान मेरे पैरों के तले है, वह एक अथाह गड्ढे में है! मेरे एक आदेश के जारी होने पर तो आकाश और पृथ्वी टल जाएंगे और उनका कोई अस्तित्‍व नहीं रहेगा! सभी चीज़ें नवीनीकृत हो जाएंगी और यह एक अटल सत्य है, जो अत्‍यधिक सत्य है। मैंने दुनिया को जीत लिया है, सभी दुष्टों पर विजय प्राप्त की है। मैं यहाँ बैठा तुम लोगों से बात कर रहा हूँ; जिनके पास कान हैं, उन्हें सुनना चाहिए और जो जीवित हैं उन्हें स्वीकार करना चाहिए।

दिन समाप्त हो जाएंगे; दुनिया की सभी चीज़ों का कोई मूल्य नहीं रहेगा, और सब कुछ नया बनकर उत्पन्न होगा। यह याद रखना! यह याद रखना! इस बात में कोई संदिग्‍धता नहीं हो सकती है! आकाश और पृथ्वी टल जाएँगे, परन्तु मेरी बातें कभी न टलेंगी! एक बार फिर मुझे तुम लोगों को प्रेरित करने दो: व्यर्थ में भागो मत! जागो! पश्चाताप करो और उद्धार हाथ में होगा! मैं पहले ही तुम लोगों के बीच प्रकट हो चुका हूं और मेरी वाणी उदय हो चुकी है। मेरी वाणी तुम लोगों के सामने उदय हो चुकी है, हर दिन वह तुम लोगों के सामने है, हर दिन वह ताज़ी और नई है। तुम मुझे देखते हो और मैं तुम्हें देखता हूं, मैं तुम्हारे साथ आमने-सामने निरंतर बात करता हूं। और फिर भी तुम मुझे अस्वीकार करते हो, तुम मुझे नहीं जानते हो; मेरी भेड़ें मेरे वचन सुनती हैं और फिर भी तुम लोग संकोच करते हो! तुम संकोच करते हो! तुम्हारा मन मोटा हो गया है, तुम्हारी आंखों को शैतान ने अंधा कर दिया है और तुम मेरे गौरवशाली मुख को देख नहीं पाते हो—यह कितना दयनीय है! कितना दयनीय है!

मेरे सिंहासन के सामने उपस्थित सात आत्माओं को पृथ्वी के सभी कोनों में भेजा जाता है और मैं कलीसियाओं से बात करने के लिए अपने संदेशवाहक भेजूंगा। मैं धर्मी और विश्वासयोग्य हूं, मैं वह परमेश्वर हूं जो मनुष्यों के दिल की गहराइयों की जांच करता है। पवित्र आत्मा कलीसियाओं से बात करता है और मेरे पुत्र के भीतर से निकलने वाले वचन मेरे हैं; जिनके कान हैं उन्हें सुनना चाहिए! जो जीवित हैं उन्हें स्वीकार करना चाहिए! बस उन्हें खाओ और पिओ, और संदेह न करो। जो लोग मेरी आज्ञा मानेंगे और मेरे वचनों का पालन करेंगे, उन्हें महान आशीष प्राप्त होंगे! जो लोग ईमानदारी से मेरे मुख की खोज करेंगे, उनके पास निश्चित रूप से नई रोशनी, नई प्रबुद्धता और नई अंतर्दृष्टि होगी; सब कुछ ताज़ा और नया होगा। मेरे वचन तुम्हारे लिए किसी भी समय प्रकट होंगे और वे तुम्हारी आत्मा की आंखें खोल देंगे ताकि तुम आध्यात्मिक दुनिया के सभी रहस्यों को देख सको और देख सको कि राज्य मनुष्य के बीच है। शरण में प्रवेश करो और सभी अनुग्रह और आशीष तुम्हें प्राप्त होंगे, अकाल और महामारी तुम्हें छू नहीं सकेंगी, भेड़िए, साँप, बाघ और तेंदुए तुम्हें नुकसान पहुंचाने में असमर्थ रहेंगे। तुम मेरे साथ जाओगे, साथ चलोगे और मेरे साथ महिमा में प्रवेश करोगे!

— ‘वचन देह में प्रकट होता है’ से उद्धृत

मनुष्य का पुत्र महिमा के साथ प्रकट हुआ है

परमेश्वर का प्रकटन हो चुका पहले ही, कलीसियाओं में। पवित्र आत्मा है वो जो बोलता है, वो प्रचण्ड आग है, प्रतापी है, वो न्याय कर रहा है। ये सच है, वो मनुष्य का पुत्र है, पाँव तक वो लिबास में है, सोने का कमरबन्द सीने तक बँधा है। सफ़ेद सिर और बाल उसके, ऊन की तरह सफ़ेद हैं। आँखें उसकी जलती लौ-सी हैं, पाँव भट्ठी में ताँबे-से हैं। उसकी आवाज़ के सुर पानियों-से हैं। हाथ में सात सितारे, मुँह में दुधारी तलवार है, चेहरा उसका तेज़ सूरज-सा चमकता है। प्रकट हो रहा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर आत्मिक देह में, न माँस है, न कतरा है लहू का सिर से पाँव तक। ऊँचा है सारे जहाँ से वो, विराजमान है महिमावान सिंहासन पर, तीसरे आसमान में ऊँचे सिंहासन से राज करता है वो हर चीज़ पर।

दी गई है गवाही मनुष्य के पुत्र की, प्रकट हुआ सबके सामने परमेश्वर। जैसे चमकता सूरज अपने पूरे ज़ोर पर, वैसे ही फैली है महिमा उसकी। परमेश्वर का महिमामय चेहरा चमकता शान से, चौंधिया देता ये आँखें सबकी। किसी नज़र में विरोध की हिम्मत नहीं। विरोध जो करेगा वो यकीनन मरेगा। चाहे कोई मन से या शब्दों से इसका विरोध करे, या दिखे विरोध उसके कामों में, ज़रा-सी भी दया नहीं है, देखोगे तुम लोग मिलता नहीं कुछ भी न्याय के सिवा तुम लोगों को। प्रकट हो रहा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर आत्मिक देह में, न माँस है, न कतरा है लहू का सिर से पाँव तक। ऊँचा है सारे जहाँ से वो, विराजमान है महिमावान सिंहासन पर, तीसरे आसमान में ऊँचे सिंहासन से राज करता है वो हर चीज़ पर।

हर चीज़ कायनात की है परमेश्वर के हाथ में। वैसा ही होगा, जैसा नियत करता परमेश्वर। है शैतान परमेश्वर के पैरों तले, अथाह गड्ढे में! जीत लिया दुष्टों को परमेश्वर ने। जब निकलेगी वाणी परमेश्वर की, तो दुनिया सारी ख़त्म हो जाएगी। मिट जायेंगे धरती और स्वर्ग, हर चीज़ नई हो जाएगी। ये सच्चाई कभी बदल नहीं सकती। जीत लिया है जगत को परमेश्वर ने। वो यहाँ बैठकर, बातें कर रहा है तुम से। हैं कान जिनके, उन्हें सुननी चाहिये। वो यहाँ बैठकर, बातें कर रहा है तुम से। ज़िंदा इंसान को परमेश्वर के वचन स्वीकारने चाहिये। प्रकट हो रहा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर आत्मिक देह में, न माँस है, न कतरा है लहू का सिर से पाँव तक। ऊँचा है सारे जहाँ से वो, विराजमान है महिमावान सिंहासन पर, तीसरे आसमान में ऊँचे सिंहासन से राज करता है वो हर चीज़ पर। राज करता है वो हर चीज़ पर।

‘मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ’ से

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

परमेश्वर के दैनिक वचन | "मात्र सत्य का अभ्यास करना ही वास्तविकता रखना है" | अंश 430

मनुष्य से परमेश्वर की अपेक्षा मात्र वास्तविकता के विषय में बात करने के योग्य होना ही नहीं है; अगर ऐसा हो तो क्या यह अति सरल नहीं होगा? तब...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "राज्य का युग वचन का युग है" | अंश 400

परमेश्वर ने निश्चय ही मनुष्यों को पूर्ण करने का निर्णय कर लिया है। वह चाहे किसी भी दृष्टिकोण से यह कहता है, सब बातें इन लोगों को पूर्ण...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "जो सच्चे हृदय से परमेश्वर के आज्ञाकारी हैं वे निश्चित रूप से परमेश्वर के द्वारा ग्रहण किए जाएँगे" | अंश 485

पवित्र आत्मा का कार्य दिन ब दिन बदलता जाता है, हर एक कदम के साथ ऊँचा उठता जाता है; आने वाले कल का प्रकाशन आज से भी कहीं ज़्यादा ऊँचा होता...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "केवल अंतिम दिनों का मसीह ही मनुष्य को अनंत जीवन का मार्ग दे सकता है" | अंश 140

परमेश्वर देहधारी हुआ और मसीह कहलाया, और इसलिए वह मसीह, जो लोगों को सत्य दे सकता है, परमेश्वर कहलाता है। इसके बारे में और कुछ भी अधिक कहने...