from Follow the Lamb and Sing New Songs

published on

परमेश्वर के प्रबंधन का उद्देश्य मानव जाति को बचाना है

परमेश्वर के वचन का भजन परमेश्वर के प्रबंधन का उद्देश्य मानव जाति को बचाना है परमेश्वर के प्रबंधन की एक एक चीज़ में दिखता है। परमेश्वर के प्रबंधन की एक एक चीज़ में दिखता है उसका प्रेम और उसकी दया। उसका प्रेम और उसकी दया। परमेश्वर के प्रबंधन की एक एक चीज़ में दिखता है उसका प्रेम और उसकी दया। उसका प्रेम और उसकी दया। मनुष्य को उसकी दयालु मंशा का एहसास हो न हो, वो बिना थके और रुके अपना कार्य करता रहता है। मनुष्य को उसके प्रबंधन की समझ हो न हो, परमेश्वर का कार्य हरेक को मदद और लाभ पहुँचाता रहता है। परमेश्वर के प्रबंधन की एक एक चीज़ में दिखता है उसका प्रेम और उसकी दया। उसका प्रेम और उसकी दया। शायद तुम्हें परमेश्वर के प्रेम और उसके दिए जीवन का एहसास न हो, लेकिन अगर तुम उस पर अपना विश्वास रखो, अगर तुम सत्य की तलाश में अटल रहो, एक दिन तुम ज़रूर देख पाओगे परमेश्वर की मुस्कुराहट। क्योंकि अपने प्रबंधन में परमेश्वर का उद्देश्य है कि वो शैतान के चंगुल से मानवता को निकाले, और उन्हें न त्यागे जिन्हें शैतान ने दूषित किया, और उन्हें न त्यागे जो उसकी मंशा के विपरीत हैं। परमेश्वर के प्रबंधन की एक एक चीज़ में दिखता है उसका प्रेम और उसकी दया। उसका प्रेम और उसकी दया। वचन देह में प्रगट होता है से

परमेश्वर के प्रबंधन का उद्देश्य मानव जाति को बचाना है

  • लोड हो रहा है...
साझा करें Facebook
साझा करें Twitter
साझा करें Google+
साझा करें Pinterest
साझा करें Reddit