परमेश्वर के दैनिक वचन | "भ्रष्ट मनुष्यजाति को देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की अधिक आवश्यकता है" | अंश 118

परमेश्वर ने देहधारण किया क्योंकि शैतान का आत्मा, या कोई अभौतिक चीज़ उसके कार्य का विषय नहीं है, परन्तु मनुष्य है, जो शरीर से बना है और जिसे शैतान के द्वारा भ्रष्ट किया गया है। निश्चित रूप से चूँकि मनुष्य की देह को भ्रष्ट किया गया है इसलिए परमेश्वर ने हाड़-मांस के मनुष्य को अपने कार्य का विषय बनाया है; इसके अतिरिक्त, क्योंकि मनुष्य भ्रष्टता का विषय है, उसने मनुष्य को अपने उद्धार के कार्य के समस्त चरणों के दौरान अपने कार्य का एकमात्र विषय बनाया है। मनुष्य एक नश्वर प्राणी है, और वह हाड़-मांस एवं लहू से बना हुआ है, और एकमात्र परमेश्वर ही है जो मनुष्य को बचा सकता है। इस रीति से, परमेश्वर को अपना कार्य करने के लिए ऐसा देह बनना होगा जो मनुष्य के समान ही गुणों को धारण करता है, ताकि उसका कार्य बेहतर प्रभावों को हासिल कर सके। परमेश्वर को अपने कार्य को ठीक तरह से करने के लिए देहधारण करना होगा क्योंकि मनुष्य देह से बना हुआ है, और पाप पर विजय पाने में या स्वयं को शरीर से अलग करने में असमर्थ है। यद्यपि देहधारी परमेश्वर का मूल-तत्व एवं उसकी पहचान, मनुष्य के मूल-तत्व एवं उसकी पहचान से बहुत अधिक भिन्न है, फिर भी उसका रूप मनुष्य के समान है, उसके पास किसी सामान्य व्यक्ति का रूप है, और वह एक सामान्य व्यक्ति का जीवन जीता है, और जो लोग उसे देखते हैं वे परख सकते हैं कि वह किसी सामान्य व्यक्ति से अलग नहीं है। यह सामान्य रूप एवं सामान्य मानवता उसके लिए पर्याप्त है कि वह सामान्य मानवता में अपने अलौकिक कार्य को अंजाम दे। उसका देह उसे सामान्य मानवता में अपना कार्य करने देता है, और मनुष्य के मध्य अपने कार्य को करने में उसकी सहायता करता है, इसके अतिरिक्त उसकी सामान्य मानवता मनुष्य के मध्य उद्धार के कार्य को क्रियान्वित करने के लिए सहायता करती है। यद्यपि उसकी सामान्य मानवता ने मनुष्य के बीच में काफी कोलाहल मचा दिया है, फिर भी ऐसे कोलाहल ने उसके कार्य के सामान्य प्रभावों पर कोई असर नहीं डाला है। संक्षेप में, उसके सामान्य देह का कार्य मनुष्य के लिए अत्यंत लाभदायक है। हालाँकि अधिकांश लोग उसकी सामान्य मानवता को स्वीकार नहीं करते हैं, उसका कार्य फिर भी प्रभावशाली हो सकता है, और उसकी सामान्य मानवता के कारण इन प्रभावों को हासिल किया जाता है। इसके विषय में कोई सन्देह नहीं है। देह में किए गए के उसके कार्य से, मनुष्य उसकी सामान्य मानवता के विषय में उन धारणाओं की अपेक्षा दस गुना या दर्जनों गुना ज़्यादा चीज़ों को प्राप्त करता है जो मनुष्य के मध्य मौजूद हैं, और ऐसी धारणाओं को अंततः उसके कार्य के द्वारा पूरी तरह से निगल लिया जाएगा। और वह प्रभाव जो उसके कार्य ने हासिल किया है, कहने का तात्पर्य है, मनुष्य का उसके बारे में ज्ञान, उसके विषय में मनुष्य की धारणाओं से बहुत अधिक है। वह कार्य जिसे वह शरीर में करता है उसकी कल्पना करने या उसे मापने हेतु कोई तरीका नहीं है, क्योंकि उसका देह हाड़-मांस के मनुष्य के समान नहीं है; यद्यपि बाहरी आवरण एक समान है, फिर भी मूल-तत्व एक जैसा नहीं है। उसका देह परमेश्वर के विषय में मनुष्य के मध्य कई धारणाओं को उत्पन्न करता है, फिर भी उसका देह मनुष्य को अत्यधिक ज्ञान अर्जित करने भी दे सकता है, और वह किसी भी व्यक्ति पर विजय प्राप्त कर सकता है जो वैसा ही बाहरी आवरण धारण किए हुए है। क्योंकि वह महज एक मनुष्य नहीं है, परन्तु मनुष्य के बाहरी आवरण के साथ परमेश्वर है, और कोई भी पूरी तरह से उसकी गहराई को माप नहीं सकता है एवं उसे समझ नहीं सकता है। सभी लोगों के द्वारा ऐसे अदृश्य एवं अस्पृश्य परमेश्वर से प्रेम एवं उसका स्वागत किया जाता है। यदि परमेश्वर बस एक आत्मा होता जो मनुष्य के लिए अदृश्य है, तो परमेश्वर पर विश्वास करना मनुष्य के लिए कितना आसान होता। मनुष्य अपनी कल्पना को बेलगाम कर सकता है, और अपने आपको प्रसन्न करने तथा अपने आपको खुश करने के लिए किसी भी आकृति को परमेश्वर की आकृति के रूप में चुन सकता है। इस रीति से, मनुष्य बिना किसी संकोच के कुछ भी कर सकता है जो उसके स्वयं के परमेश्वर को अति प्रसन्न करता है, और वह कार्य कर सकता है जिसे यह परमेश्वर करने की अत्यधिक इच्छा करता है। इसके अलावा, मनुष्य मानता है कि उसकी अपेक्षा परमेश्वर के प्रति कोई भी उससे अधिक भरोसेमंद एवं भक्त नहीं है, और यह कि बाकी सब बुतरस्त कुत्ते हैं, एवं परमेश्वर के प्रति वफादार नहीं हैं। ऐसा कहा जा सकता है कि यह वह है जिसे उन लोगों के द्वारा खोजा जाता है जिनका विश्वास परमेश्वर में अस्पष्ट है और सिद्धान्तों पर आधारित है; जो कुछ वे खोजते हैं वह सब थोड़ी बहुत विभिन्नता के साथ काफी कुछ एक जैसा ही होता है। यह महज ऐसा है कि उनकी कल्पनाओं में परमेश्वर की आकृतियां भिन्न-भिन्न होती हैं, फिर भी उनका मूल-तत्व वास्तव में एक जैसा ही होता है।

— 'वचन देह में प्रकट होता है' से उद्धृत

भ्रष्ट मानवता को आवश्यकता है देहधारी परमेश्वर द्वारा उद्धार की

देह बना परमेश्वर क्योंकि, शैतान की रूह नहीं है लक्ष्य उसका, ना अन्य कोई चीज़ है, बस मानव है लक्ष्य उसके काम का। मानव की देह को, दूषित किया शैतान ने, इसी वजह से लक्ष्य बना मानव, परमेश्वर के काम का। मानव ही है मुक्ति-स्थल परमेश्वर का। मानव नश्वर जीव है, बस देह है। परमेश्वर ही उसकी रक्षा कर सकता है। अपने कामों की ख़ातिर, उत्तम परिणामों की ख़ातिर, परमेश्वर को, मानव बनकर आना होगा, उसकी ख़ातिर परमेश्वर को, देह धारण करना होगा, मानव चूंकि देह है, पापों पर वश नहीं है उसका। उसकी ख़ातिर परमेश्वर को, देह धारण करना होगा, मानव छूट नहीं सकता ख़ुद, देह की इन ज़ंजीरों से।

मानव-देह को कर दिया है दूषित शैतान ने, बहुत अहित हुआ है देह का, और बना अज्ञानी है। मानव देह में परमेश्वर आता है, क्योंकि उसके उद्धार का लक्ष्य है मानव, और मानव-तन के प्रयोग से, शैतान, डालता है परमेश्वर के कामों में व्यवधान। मानव-विजय के द्वारा परमेश्वर शैतान से संग्राम करता है, साथ ही वो मानव को बचाता भी है। अपना काम पूरा करने को, परमेश्वर को, मानव देह में आना होगा, आना होगा। कायम रहकर मानव देह में शैतान ने, मानव देह को दूषित कर डाला परमेश्वर को उसे पराजित करना होगा। शैतान से संग्राम करने और मानव की रक्षा करने, परमेश्वर को इस धरती पर, मानव बनकर आना होगा। यही एक है असली काम।

परमेश्वर मानव बनकर, जब करता है काम तो सच में वो शैतान से करता है संग्राम। वो देह में रहकर आत्मिक-जगत का काम करता है, और आत्मिक-जगत में अपने सारे काम को धरती पर साकार करता है। परमेश्वर जिस मानव को विजय करता है, वो परमेश्वर की नहीं मानता, जबकि इंसानों में होता है शैतान का रूप पराजित, और अंत में जिसे बचाया जाता है, वो मानव है, वो मानव है। बड़ा ज़रूरी था परमेश्वर इंसान बने, शैतान से संग्राम करने, जीव का चोला पहने और जीव के चोले में, विद्रोही मानव को जीते। बड़ा ज़रूरी था परमेश्वर इंसान बने, और जीव का चोला पहने, बचाने उस मानव को, जिसका चोला वैसा ही है, जिसका अहित किया है शैतान ने। मानव परमेश्वर का बैरी है, परमेश्वर को उसे जीतना होगा। मानव लक्ष्य है परमेश्वर के उद्धार का; परमेश्वर को देह लेकर, मानव बनकर आना होगा। इसी तरह परमेश्वर का काम आसां होगा। परमेश्वर शैतान को हरा सकता है, परमेश्वर मानव को जीत सकता है, परमेश्वर मानव को बचा सकता है। परमेश्वर शैतान को हरा सकता है, परमेश्वर मानव को जीत सकता है, परमेश्वर मानव को बचा सकता है।

'मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ' से

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

परमेश्वर के दैनिक वचन | "एक वास्तविक व्यक्ति होने का क्या अर्थ है" | अंश 350

मैं मानवजाति को जीत लूँगा क्योंकि वे मनुष्य कभी मेरे द्वारा बनाये गए थे और इसके अलावा, उन्होंने मेरी सृष्टि की बहुतायत में दी गयी सभी...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन : राज्य गान | अंश 59

लोग मेरी जय-जयकार करते हैं, लोग मेरी स्तुति करते हैं; सभी अपने मुख से एकमात्र सच्चे ईश्वर का नाम लेते हैं, सभी लोगों की दृष्टि मेरे...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "विश्वास में, वास्तविकता पर केंद्रित होना चाहिए, धार्मिक रीति-रिवाजों में संलग्न होना विश्वास नहीं है" | अंश 435

तुम कितनी धार्मिक परम्पराओं का पालन करते हो? कितनी बार तुमने परमेश्वर के वचन का विरोध किया है और अपने तरीके से चले हो? कितनी बार तुम...

परमेश्वर के दैनिक वचन | "मात्र उन्हें ही पूर्ण बनाया जा सकता है जो अभ्यास पर ध्यान देते हैं" | अंश 551

पहचानने की योग्यता रखना, अधीनता में रहना, और चीज़ों को समझने की योग्यता रखना ताकि तुम आत्मा में प्रखर हो, इसका अर्थ है कि जैसे ही तुम्हारा...